facebook-pixel
Coursera Image_2

जल संरक्षण कैसे करें?

Share Us

1105
जल संरक्षण कैसे करें?
11 Oct 2021
4 min read

Post Highlight

पृथ्वी पर पानी की कमी कभी नहीं रही है लेकिन दुर्भाग्यवश मनुष्यों के उपयोग के लिए बहुत कम पानी बचा है। जल संरक्षण का अर्थ है पानी को सही ढंग से और बुद्धिमानी से उपयोग करना और आने वाली पीढ़ी के लिए इस अनमोल रत्न को बचा कर रखना। आज हम आपको कुछ ऐसे उपाय बताएंगे जिससे आप जल संरक्षण में अपना योगदान दे पाएंगे।

Podcast

Continue Reading..

पृथ्वी को नीला ग्रह यानी की ब्लू प्लेनेट के नाम से जाना जाता है। मात्र पृथ्वी को ही नीला ग्रह इसीलिए कहते हैं क्योंकि इस ग्रह की सतह का 71 प्रतिशत भाग पानी से ढका हुआ है। पृथ्वी पर पानी की कमी कभी नहीं रही है लेकिन दुर्भाग्यवश मनुष्यों के उपयोग के लिए बहुत कम पानी बचा है। पृथ्वी का 97.2 प्रतिशत पानी समुद्रों और महासागरों में हैं और यह इतना खारा है कि मनुष्य इसका इस्तेमाल नहीं कर सकते। 2.5 प्रतिशत पानी ग्लेशियर और वातावरण में हैं। शेष 0.3 प्रतिशत पानी मनुष्यों के उपयोग के लिए है। इस पानी का उपयोग हम पीने के लिए, सफाई करने के लिए, कपड़ों को धोने के लिए, भोजन बनाने के लिए, फसल उत्पादन आदि के लिए करते हैं। एक शोध के अनुसार यह बताया गया था कि औसतन एक व्यक्ति दिन भर में लगभग 140 लीटर पानी को उपयोग में लाता है। साथ में शोध में यह भी बताया गया था कि 2080 के दशक तक पानी की भारी कमी देखी जा सकती है। पानी के बिना जीवन मुमकिन नहीं है ये बात तो हम सभी जानते हैं। आज हम आपको कुछ ऐसे उपाय बताएंगे जिससे आप जल संरक्षण में अपना योगदान दे पाएंगे। जल संरक्षण का अर्थ है पानी को सही ढंग से और बुद्धिमानी से उपयोग करना और आने वाली पीढ़ी के लिए इस अनमोल रत्न को बचा कर रखना।

1. नलों को ठीक करवाएं

रोजाना ब्रश करते समय जब पानी की जरूरत हो तभी नल को इस्तेमाल में लाएं। बहुत से लोग जब तक ब्रश करते हैं तब तक नल को खुला छोड़ देते हैं। दातों को ब्रश करते समय अगर आप नल बंद रखेंगे, तो आप 6 लीटर तक पानी बचा सकते हैं। साथ ही यह भी ध्यान रखें कि अगर घर में ऐसा कोई नल है जिससे दिन भर पानी टपकता रहता है, तो उसे ठीक करवाएं। ऐसे नलों को ठीक करवा कर आप एक हफ्ते में 60 लीटर तक पानी बचा सकते हैं।

2.भोजन की बरबादी ना करें

फल, सब्जियां और अनाज के उत्पादन में काफी पानी लगता है इसीलिए फल, सब्जियों और अनाज को अगर हम बर्बाद नहीं करेंगे तो इससे पानी की भी बचत होगी। कुछ ऐसे शोध हुए हैं जिसमें बताया गया है कि कई देशाें में 60 से 70 लाख टन खाने-पीने की चीज़ों को लोग आधा खाकर बाकी का बचा हुआ भोजन फेंक देते हैं। खाना को बर्बाद ना करके आप पानी, भोजन और साथ ही साथ कई करोड़ रुपए भी बचा सकते हैं। 

3.सही समय पर बागवानी करें

गर्मी के मौसम में पौधों को सुबह या शाम के वक्त पानी दें। ऐसा करने से आप पानी को तुरंत वाष्पित होने से रोक पाएंगे। पानी देते समय पौधों की जड़ पर ध्यान दें क्योंकि ऐसा करने से पानी वहीं इस्तेमाल होगा जहां उसकी जरूरत है। आप जिस पानी से सब्जियों और फलों को धुलते हैं वही पानी आप पौधों को भी दे सकते हैं।

4.बारिश के पानी का उपयोग करें

बारिश के पानी को आप वाटर बट्स की मदद से इक्कठा कर लीजिए। वाटर बट्स की मदद से आप सालाना 5,000 लीटर पानी की बचत कर सकते हैं। इस पानी का इस्तेमाल आप बागवानी करने में, अपनी कार को धुलने में और कम्पोस्टिंग जैसी चीजों में कर सकते हैं। बारिश का पानी, पानी का स्वच्छ और मुफ्त स्रोत है और इसका इस्तेमाल करके आप पर्यावरण में कई सकारात्मक बदलाव ला सकते हैं।

जो लोग पानी के बचाव के लिए जागरूकता फैला रहे हैं उनका साथ दीजिए। अपने बच्चों को पानी का महत्व समझाएं, अपने पड़ोसियों को भी जल संरक्षण करने के तरीके बताएं और पानी की टंकियों में वाटर अलार्म लगाएं। अगर आप ये सारी बातों पर अमल करेगें तो यकीन करें आप एक आदर्श इंसान बनने के बहुत करीब हैं।