facebook-pixel
Success Motivation

देश की शान - ये सबसे युवा IAS अधिकारी

Success Motivation

देश की शान - ये सबसे युवा IAS अधिकारी

countrys-pride-these-youngest-ias-officers

Post Highlights

इस लेख के माध्यम से आप उन युवाओं के बारे में जानेंगे जिन्होंने बहुत ही कम उम्र में कड़ी मेहनत करके अपना लक्ष्य निर्धारित किया और आज वो सफलता के उस पायदान पर हैं जहाँ पहुँचने की चाह हर कोई रखता है। निरंतर अभ्यास और कोशिश से आज वो 21-22 की उम्र में UPSC यूपीएससी पास कर IAS आईएएस अधिकारी बन गए हैं। 

सफलता को प्राप्त करना तो हर कोई चाहता है लेकिन उसके लिए कड़ी मेहनत और लगातार प्रयास हर कोई नहीं करता। सफलता प्राप्त करने के लिए जो सबसे अधिक कीमती है वो है वक्त। जिसने भी वक्त की कीमत समझ ली वो सफलता के मुकाम तक अवश्य पहुँचता है और समय का दुरुपयोग आपको सफलता की दौड़ से बाहर कर देता है। सफलता प्राप्त करने के लिए सर्वप्रथम हमें अपने उद्देश्यों को जानना जरूरी है, क्योंकि जब तक हमें ये पता नहीं होता है कि हमें जाना कहां है, तब तक हमें रास्ते का भी पता नहीं होता कि हमें किस तरफ मुड़ना है, किस दिशा में जाना है इसलिए सफलता को प्राप्त करने के लिए अपने उद्देश्य निर्धारित करने चाहिए। दृढ़ता और लगातार प्रयास से किया गया श्रम आपको सफलता की ओर ले जाने में मदद करता है और आप अपने लक्ष्य को हासिल कर देते हैं। 

पूरे विश्‍व में Union Public Service Commission Exam यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन एग्जाम (UPSC Exam) को सबसे कठिन एग्‍जाम में से एक माना जाता है। उम्‍मीदवार इसी एग्जाम को पास करने के बाद ही आईएएस (IAS), आईपीएस (IPS), आईईएस (IES) या आईएफएस (IFS) जैसे पदों पर पोस्‍ट होते हैं और इनमें से जिसकी सबसे ज्‍यादा चर्चा होती है वो है आईएएस IAS अधिकारी। इस परीक्षा की तैयारी करने वाले हर युवा का सपना होता है कि, वे आईएएस अधिकारी बनें और ऐसे ही कुछ होनहार और सबसे युवा हैं जिन्होंने अपनी कड़ी मेहनत के बल पर अपने लक्ष्य को प्राप्त किया है और UPSC परीक्षा को पास करके Indian Administrative Service, IAS आईएएस अधिकारी बन गए, तो चलिए जानते हैं उन युवाओं के बारे में। 

अंसार अहमद शेख़ Ansar Ahmed Sheikh

अंसार अहमद शेख़ भारत के प्रतिभावान और सबसे युवा IAS ऑफ़िसर (Youngest IAS Officer in India) हैं। जानकर विश्वास नहीं होगा कि अंसार अहमद शेख़ ने मात्र 21 साल की उम्र में 2016 में UPSC Exam क्लीयर कर दिया था। इस कठिन परीक्षा को क्लियर करना और सिर्फ 21 साल की उम्र में इस सफलता को प्राप्त वाकई काबिलेतारीफ है। अंसार अहमद शेख़ ने देश की प्रतिष्ठित यूपीएससी परीक्षा (UPSC Exam) में 361वीं रैंक हासिल की। वो एक ऐसी पृष्ठभूमि से आते हैं जहाँ पर उनके पास आर्थिक सुविधाओं की अत्यंत कमी थी बावजूद इसके ये मुकाम हासिल करना बहुत ही सराहनीय है। दरअसल इनके पिता श्री यूनुस शेख अहमद एक ऑटोरिक्शा चालक थे और मां खेती में मजदूरी करती थी लेकिन अहमद शेख़ ने साबित किया है कि अगर आप दिल से कुछ भी ठान लें और कठिन परिश्रम करें तो कुछ भी पाना नामुमकिन नहीं है फिर चाहे वो भारत की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक सिविल सर्विसेज की परीक्षा ही क्यों न हो। 

टीना डाबी Tina Dabi

यदि आपके अंदर कुछ करने का जूनून है तो आप कड़ी मेहनत और लगन के दम पर साबित करके दिखा सकते हैं। बस आपको अपने रास्ते पर अडिग रहना है। टीना डाबी एक ऐसी ही IAS अधिकारी हैं जिन्होंने सिर्फ 22 साल की उम्र में यूपीएससी क्रैक किया था और उनका नाम भी युवा IAS ऑफ़िसर (Youngest IAS Officer in India) में शामिल है। ग्रेजुएशन के बाद दो साल की तैयारी के बाद सिर्फ 22 साल की उम्र में आईएएस परीक्षा (IAS Exam) में टॉप किया। इनके पिता का नाम जसवंत डाबी और माता का नाम हिमानी डाबी है। इन्होंने पहले ही एटेम्पट में ये परीक्षा क्लीयर कर ली थी और इनकी रैंक प्रथम आयी थी। उनके पिता जसवंत डाबी BSNL में जनरल मैनेजर हैं और उनकी मां हिमानी डाबी पूर्व आईईएस अधिकारी हैं। वह अपनी सफलता की कुंजी कड़ी मेहनत और प्लानिंग को बताती हैं। वह सोशल मीडिया (Tina Dabi Instagram) पर सबसे ज्यादा फॉलो की जाने वाली Officer भी हैं। वह अपनी सफलता का श्रेय अपनी मां को देती हैं। 

अम्रुतेश औरंगाबादकर Amrutesh Aurangabadkar

अम्रुतेश औरंगाबादकर महाराष्ट्र के पुणे शहर के रहने वाले हैं। अमृतेश औरंगाबादकर का नाम भी भारत के सबसे युवा IAS ऑफ़िसर (Youngest IAS Officer in India) में शामिल है, जिन्होंने सिर्फ 22 की उम्र में यूपीएससी का एग्जाम क्लीयर किया था। इन्होंने 2011 में ये परीक्षा पास की थी और इनकी रैंक दसवीं थी और अम्रुतेश ने ये परीक्षा पहले ही प्रयास में पास कर ली थी। वह साल 2012 बैच के गुजरात कैडर के IAS अधिकारी हैं। इनके माता पिता की बात करें तो अमृतेश के माता पिता डायमंड की एक यूनिट में हीरा तराशने का काम करते थे लेकिन कुछ समय बाद नौकरी छूट जाने के कारण परिवार को बहुत दिक्क्तों का सामना करना पड़ा। इन्होंने बहुत कम उम्र में इतनी बड़ी उल्लेखनीय सफलता हासिल कर इतिहास रच दिया था और अथक परिश्रम से ये मुकाम हासिल कर आज देशसेवा में अपना योगदान दे रहे हैं।

स्वाति मीणा नाईक Swati Meena Naik

भारत के युवा IAS ऑफ़िसर में स्वाति मीणा नाईक का भी नाम है। स्वाति ने भी 22 साल की उम्र में यूपीएससी का एग्ज़ाम पास किया था। राजस्थान में जन्मीं स्वाति मीणा ने अजमेर से अपनी स्कूली पढ़ाई की। 2007 में UPSC एग्जाम देकर उन्होंने AIR-260 हासिल की और मध्य प्रदेश कैडर हासिल किया। स्वाति को एक दबंग ऑफ़िसर कहा जाता है। जब उनकी पोस्टिंग मध्यप्रदेश में थी, तो उन्होंने कई बड़े खनन माफ़ियाओं mining mafia की पकड़ की थी जिसकी वजह से वह चर्चा में भी रही थी। पहले उन्होंने एक पेट्रोल पम्प शुरू किया था लेकिन फिर इस काम को छोड़ दिया और सिविल सेवा में आने का फैसला किया और कम उम्र में ही सफलता हासिल की। दरअसल 8वीं कक्षा के समय ही उन्होंने अपनी मौसी के अधिकारी बनने के बाद खुद भी अधिकारी बनने का सपना देखा था। स्वाति मीणा एक निडर और दबंग अधिकारी हैं। 

गौरव गोयल Gaurav Goyal

इस सूची में भारत के सबसे युवा IAS ऑफ़िसर गौरव गोयल का नाम भी शामिल है, जो राजस्थान के रहने वाले हैं। उन्हें भारत के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले सिविल सेवकों में से एक माना जाता है। गौरव गोयल ने साल 2006 में यूपीएससी की परीक्षा क्लीयर की थी। वहीं, पूरे भारत में उनकी रैंक 10वीं थी। गौरव गोयल 2006 में न केवल यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा को क्रैक करने के कारण, बल्कि बहुत कम उम्र में ऐसा करने के कारण भी चर्चा में आए थे। क्योंकि उनकी उम्र सिर्फ 22 साल थी। उन्हें राजस्थान के बारमाड़ शहर में भेजा गया था, जहां उन्हें उनके काम के लिए कई पुरष्कार भी मिले थे। उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा विमुद्रीकरण चरण के दौरान उनके शानदार काम और कैशलेस और डिजिटल लेनदेन को अपनाने में अजमेर को देश के शीर्ष पांच जिलों में से एक बनाने के लिए सम्मानित किया गया था।

रोमन सैनी Roman Saini

रोमन सैनी का नाम भी भारत के सबसे युवा IAS ऑफ़िसर (Youngest IAS Officer in India) की लिस्ट में शामिल है। रोमन सैनी महाराष्ट्र के रहने वाले हैं। रोमन सैनी ने अपनी पढ़ाई राजस्थान बोर्ड से की है। रोमन ने मात्र 22 साल की उम्र में यूपीएससी एग्ज़ाम क्लीयर किया था। इससे पहले रोमन सैनी मध्य प्रदेश में Assistant Collector के रूप में काम कर चुके हैं। इनकी यूपीएससी रैंक 18 थी। वे सबसे कम उम्र के IAS अधिकारी बने जिन्हें तब मध्य प्रदेश में कलेक्टर के रूप में नियुक्त किया गया था। उन्होंने 16 साल की उम्र में AIIMS (All India Institute of Medical Science) के लिए परीक्षा देने का फैसला किया और इस परीक्षा को पास करने वाले सबसे कम उम्र के व्यक्ति बन गए। अपनी MBBS डिग्री को आगे बढ़ाने के लिए वह एम्स दिल्ली गए, जहां उन्होंने जूनियर रेजिडेंट डॉक्टर के रूप में भी काम किया। उन्हें 28 साल की छोटी उम्र में IAS उम्मीदवारों के लिए सबसे सफल ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफ़ॉर्म online learning platform में से एक शुरू करने के लिए जाना जाता है। उन्होंने सिविल सेवा की तैयारी कर रहे स्टूडेंट्स को कोचिंग देने का निर्णय लिया। फिर उन्होंने 'Unacademy' कोचिंग शुरू की, जो आज देशभर में ब्रांड के रूप में विकसित हो चुकी है। 

सिमी करन Simi Karan

ओडिशा की रहने वाली सिमी करन, जिन्होंने आईआईटी से इंजीनियरिंग करते हुए यूपीएससी एग्जाम की तैयारी की और पहले प्रयास में ही सिविल सर्विस परीक्षा पास कर आईएएस अफसर बन गईं। उन्होंने अपनी शुरुआती पढ़ाई छत्तीसगढ़ से की है। सिमी ने 12वीं तक की पढ़ाई भिलाई के दिल्ली पब्लिक स्कूल से की और 12वीं में 98.4 प्रतिशत अंक हासिल कर स्टेट टॉपर बनी। सिमी करन का 12वीं के बाद सेलेक्शन आईआईटी बॉम्बे के लिए हुआ और वह इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने लगीं। इंटर्नशिप के दौरान सिमी करन स्लम एरिया में बच्चों को पढ़ाने गईं तो वहीं से उनके मन में लोगों की मदद करने का विचार आया और उन्होंने फिर यूपीएससी के बारे में सोचा। तब सिमी ने इंजीनियरिंग के आखिरी साल में यूपीएससी एग्जाम की तैयारी शुरू की। इसका नतीजा ये हुआ कि सिमी करन ने सेल्फ स्टडी कर पहले ही प्रयास में यूपीएससी एग्जाम पास कर लिया। अपनी कड़ी मेहनत की बदौलत सिमी करन ने साल 2019 की यूपीएससी की सिविल सर्विसेज एग्जाम में ऑल इंडिया 31वीं रैंक हासिल की थी। तब वह केवल 22 साल की थीं, जब उन्होंने सिविल सर्विस की परीक्षा पास की और आईएएस अफसर बन गयी।

अनन्या सिंह Ananya Singh

आईएएस अनन्या सिंह IAS Ananya Singh उत्तर प्रदेश के प्रयागराज जिले की रहने वाली हैं। प्रयागराज से ही स्कूली शिक्षा प्राप्त करने के बाद उन्होंने 10 वीं में 96% और 12वीं में 98.25% अंक हासिल किए। दिल्ली यूनिवर्सिटी के लेडी श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स से इकोनॉमिक्स ऑनर्स में ग्रेजुएशन करने के बाद उन्होंने एक साल तक UPSC की तैयारी की। अनन्या सिंह ने साल 2019 में यूपीएससी परीक्षा (UPSC Exam) दी थी। 22 साल की अनन्या सिंह Ananya Singh ने अपने पहले ही प्रयास में यूपीएससी परीक्षा (UPSC Exam) क्लियर कर दी थी। उन्होंने लक्ष्य पर नज़र बनाए रखी और अपनी मेहनत के दम पर मंज़िल को हासिल किया। अनन्या कहती हैं कि उन्होंने प्लानिंग के साथ सिविल सर्विसेज की तैयारी की जिसका नतीजा ये रहा कि पहले ही प्रयास में ही उन्हें ऑल इंडिया 51वीं रैंक मिली। अनन्या सिंह ने पढ़ाई के प्रति लगन और बुलंद हौसलों के दम पर बहुत कम उम्र में ही यूपीएससी का एग्ज़ाम क्लीयर करके ये मुकाम हासिल किया। 

Think with Niche पर आपके लिए और रोचक विषयों पर लेख उपलब्ध हैं । एक अन्य लेख को पढ़ने के लिए कृपया नीचे  दिए लिंक पर क्लिक करे-
https://www.thinkwithniche.in/blogs/details/youngest-billionaires-of-the-world-

सफलता को प्राप्त करना तो हर कोई चाहता है लेकिन उसके लिए कड़ी मेहनत और लगातार प्रयास हर कोई नहीं करता। सफलता प्राप्त करने के लिए जो सबसे अधिक कीमती है वो है वक्त। जिसने भी वक्त की कीमत समझ ली वो सफलता के मुकाम तक अवश्य पहुँचता है और समय का दुरुपयोग आपको सफलता की दौड़ से बाहर कर देता है। सफलता प्राप्त करने के लिए सर्वप्रथम हमें अपने उद्देश्यों को जानना जरूरी है, क्योंकि जब तक हमें ये पता नहीं होता है कि हमें जाना कहां है, तब तक हमें रास्ते का भी पता नहीं होता कि हमें किस तरफ मुड़ना है, किस दिशा में जाना है इसलिए सफलता को प्राप्त करने के लिए अपने उद्देश्य निर्धारित करने चाहिए। दृढ़ता और लगातार प्रयास से किया गया श्रम आपको सफलता की ओर ले जाने में मदद करता है और आप अपने लक्ष्य को हासिल कर देते हैं। 

पूरे विश्‍व में Union Public Service Commission Exam यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन एग्जाम (UPSC Exam) को सबसे कठिन एग्‍जाम में से एक माना जाता है। उम्‍मीदवार इसी एग्जाम को पास करने के बाद ही आईएएस (IAS), आईपीएस (IPS), आईईएस (IES) या आईएफएस (IFS) जैसे पदों पर पोस्‍ट होते हैं और इनमें से जिसकी सबसे ज्‍यादा चर्चा होती है वो है आईएएस IAS अधिकारी। इस परीक्षा की तैयारी करने वाले हर युवा का सपना होता है कि, वे आईएएस अधिकारी बनें और ऐसे ही कुछ होनहार और सबसे युवा हैं जिन्होंने अपनी कड़ी मेहनत के बल पर अपने लक्ष्य को प्राप्त किया है और UPSC परीक्षा को पास करके Indian Administrative Service, IAS आईएएस अधिकारी बन गए, तो चलिए जानते हैं उन युवाओं के बारे में। 

अंसार अहमद शेख़ Ansar Ahmed Sheikh

अंसार अहमद शेख़ भारत के प्रतिभावान और सबसे युवा IAS ऑफ़िसर (Youngest IAS Officer in India) हैं। जानकर विश्वास नहीं होगा कि अंसार अहमद शेख़ ने मात्र 21 साल की उम्र में 2016 में UPSC Exam क्लीयर कर दिया था। इस कठिन परीक्षा को क्लियर करना और सिर्फ 21 साल की उम्र में इस सफलता को प्राप्त वाकई काबिलेतारीफ है। अंसार अहमद शेख़ ने देश की प्रतिष्ठित यूपीएससी परीक्षा (UPSC Exam) में 361वीं रैंक हासिल की। वो एक ऐसी पृष्ठभूमि से आते हैं जहाँ पर उनके पास आर्थिक सुविधाओं की अत्यंत कमी थी बावजूद इसके ये मुकाम हासिल करना बहुत ही सराहनीय है। दरअसल इनके पिता श्री यूनुस शेख अहमद एक ऑटोरिक्शा चालक थे और मां खेती में मजदूरी करती थी लेकिन अहमद शेख़ ने साबित किया है कि अगर आप दिल से कुछ भी ठान लें और कठिन परिश्रम करें तो कुछ भी पाना नामुमकिन नहीं है फिर चाहे वो भारत की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक सिविल सर्विसेज की परीक्षा ही क्यों न हो। 

टीना डाबी Tina Dabi

यदि आपके अंदर कुछ करने का जूनून है तो आप कड़ी मेहनत और लगन के दम पर साबित करके दिखा सकते हैं। बस आपको अपने रास्ते पर अडिग रहना है। टीना डाबी एक ऐसी ही IAS अधिकारी हैं जिन्होंने सिर्फ 22 साल की उम्र में यूपीएससी क्रैक किया था और उनका नाम भी युवा IAS ऑफ़िसर (Youngest IAS Officer in India) में शामिल है। ग्रेजुएशन के बाद दो साल की तैयारी के बाद सिर्फ 22 साल की उम्र में आईएएस परीक्षा (IAS Exam) में टॉप किया। इनके पिता का नाम जसवंत डाबी और माता का नाम हिमानी डाबी है। इन्होंने पहले ही एटेम्पट में ये परीक्षा क्लीयर कर ली थी और इनकी रैंक प्रथम आयी थी। उनके पिता जसवंत डाबी BSNL में जनरल मैनेजर हैं और उनकी मां हिमानी डाबी पूर्व आईईएस अधिकारी हैं। वह अपनी सफलता की कुंजी कड़ी मेहनत और प्लानिंग को बताती हैं। वह सोशल मीडिया (Tina Dabi Instagram) पर सबसे ज्यादा फॉलो की जाने वाली Officer भी हैं। वह अपनी सफलता का श्रेय अपनी मां को देती हैं। 

अम्रुतेश औरंगाबादकर Amrutesh Aurangabadkar

अम्रुतेश औरंगाबादकर महाराष्ट्र के पुणे शहर के रहने वाले हैं। अमृतेश औरंगाबादकर का नाम भी भारत के सबसे युवा IAS ऑफ़िसर (Youngest IAS Officer in India) में शामिल है, जिन्होंने सिर्फ 22 की उम्र में यूपीएससी का एग्जाम क्लीयर किया था। इन्होंने 2011 में ये परीक्षा पास की थी और इनकी रैंक दसवीं थी और अम्रुतेश ने ये परीक्षा पहले ही प्रयास में पास कर ली थी। वह साल 2012 बैच के गुजरात कैडर के IAS अधिकारी हैं। इनके माता पिता की बात करें तो अमृतेश के माता पिता डायमंड की एक यूनिट में हीरा तराशने का काम करते थे लेकिन कुछ समय बाद नौकरी छूट जाने के कारण परिवार को बहुत दिक्क्तों का सामना करना पड़ा। इन्होंने बहुत कम उम्र में इतनी बड़ी उल्लेखनीय सफलता हासिल कर इतिहास रच दिया था और अथक परिश्रम से ये मुकाम हासिल कर आज देशसेवा में अपना योगदान दे रहे हैं।

स्वाति मीणा नाईक Swati Meena Naik

भारत के युवा IAS ऑफ़िसर में स्वाति मीणा नाईक का भी नाम है। स्वाति ने भी 22 साल की उम्र में यूपीएससी का एग्ज़ाम पास किया था। राजस्थान में जन्मीं स्वाति मीणा ने अजमेर से अपनी स्कूली पढ़ाई की। 2007 में UPSC एग्जाम देकर उन्होंने AIR-260 हासिल की और मध्य प्रदेश कैडर हासिल किया। स्वाति को एक दबंग ऑफ़िसर कहा जाता है। जब उनकी पोस्टिंग मध्यप्रदेश में थी, तो उन्होंने कई बड़े खनन माफ़ियाओं mining mafia की पकड़ की थी जिसकी वजह से वह चर्चा में भी रही थी। पहले उन्होंने एक पेट्रोल पम्प शुरू किया था लेकिन फिर इस काम को छोड़ दिया और सिविल सेवा में आने का फैसला किया और कम उम्र में ही सफलता हासिल की। दरअसल 8वीं कक्षा के समय ही उन्होंने अपनी मौसी के अधिकारी बनने के बाद खुद भी अधिकारी बनने का सपना देखा था। स्वाति मीणा एक निडर और दबंग अधिकारी हैं। 

गौरव गोयल Gaurav Goyal

इस सूची में भारत के सबसे युवा IAS ऑफ़िसर गौरव गोयल का नाम भी शामिल है, जो राजस्थान के रहने वाले हैं। उन्हें भारत के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले सिविल सेवकों में से एक माना जाता है। गौरव गोयल ने साल 2006 में यूपीएससी की परीक्षा क्लीयर की थी। वहीं, पूरे भारत में उनकी रैंक 10वीं थी। गौरव गोयल 2006 में न केवल यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा को क्रैक करने के कारण, बल्कि बहुत कम उम्र में ऐसा करने के कारण भी चर्चा में आए थे। क्योंकि उनकी उम्र सिर्फ 22 साल थी। उन्हें राजस्थान के बारमाड़ शहर में भेजा गया था, जहां उन्हें उनके काम के लिए कई पुरष्कार भी मिले थे। उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा विमुद्रीकरण चरण के दौरान उनके शानदार काम और कैशलेस और डिजिटल लेनदेन को अपनाने में अजमेर को देश के शीर्ष पांच जिलों में से एक बनाने के लिए सम्मानित किया गया था।

रोमन सैनी Roman Saini

रोमन सैनी का नाम भी भारत के सबसे युवा IAS ऑफ़िसर (Youngest IAS Officer in India) की लिस्ट में शामिल है। रोमन सैनी महाराष्ट्र के रहने वाले हैं। रोमन सैनी ने अपनी पढ़ाई राजस्थान बोर्ड से की है। रोमन ने मात्र 22 साल की उम्र में यूपीएससी एग्ज़ाम क्लीयर किया था। इससे पहले रोमन सैनी मध्य प्रदेश में Assistant Collector के रूप में काम कर चुके हैं। इनकी यूपीएससी रैंक 18 थी। वे सबसे कम उम्र के IAS अधिकारी बने जिन्हें तब मध्य प्रदेश में कलेक्टर के रूप में नियुक्त किया गया था। उन्होंने 16 साल की उम्र में AIIMS (All India Institute of Medical Science) के लिए परीक्षा देने का फैसला किया और इस परीक्षा को पास करने वाले सबसे कम उम्र के व्यक्ति बन गए। अपनी MBBS डिग्री को आगे बढ़ाने के लिए वह एम्स दिल्ली गए, जहां उन्होंने जूनियर रेजिडेंट डॉक्टर के रूप में भी काम किया। उन्हें 28 साल की छोटी उम्र में IAS उम्मीदवारों के लिए सबसे सफल ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफ़ॉर्म online learning platform में से एक शुरू करने के लिए जाना जाता है। उन्होंने सिविल सेवा की तैयारी कर रहे स्टूडेंट्स को कोचिंग देने का निर्णय लिया। फिर उन्होंने 'Unacademy' कोचिंग शुरू की, जो आज देशभर में ब्रांड के रूप में विकसित हो चुकी है। 

सिमी करन Simi Karan

ओडिशा की रहने वाली सिमी करन, जिन्होंने आईआईटी से इंजीनियरिंग करते हुए यूपीएससी एग्जाम की तैयारी की और पहले प्रयास में ही सिविल सर्विस परीक्षा पास कर आईएएस अफसर बन गईं। उन्होंने अपनी शुरुआती पढ़ाई छत्तीसगढ़ से की है। सिमी ने 12वीं तक की पढ़ाई भिलाई के दिल्ली पब्लिक स्कूल से की और 12वीं में 98.4 प्रतिशत अंक हासिल कर स्टेट टॉपर बनी। सिमी करन का 12वीं के बाद सेलेक्शन आईआईटी बॉम्बे के लिए हुआ और वह इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने लगीं। इंटर्नशिप के दौरान सिमी करन स्लम एरिया में बच्चों को पढ़ाने गईं तो वहीं से उनके मन में लोगों की मदद करने का विचार आया और उन्होंने फिर यूपीएससी के बारे में सोचा। तब सिमी ने इंजीनियरिंग के आखिरी साल में यूपीएससी एग्जाम की तैयारी शुरू की। इसका नतीजा ये हुआ कि सिमी करन ने सेल्फ स्टडी कर पहले ही प्रयास में यूपीएससी एग्जाम पास कर लिया। अपनी कड़ी मेहनत की बदौलत सिमी करन ने साल 2019 की यूपीएससी की सिविल सर्विसेज एग्जाम में ऑल इंडिया 31वीं रैंक हासिल की थी। तब वह केवल 22 साल की थीं, जब उन्होंने सिविल सर्विस की परीक्षा पास की और आईएएस अफसर बन गयी।

अनन्या सिंह Ananya Singh

आईएएस अनन्या सिंह IAS Ananya Singh उत्तर प्रदेश के प्रयागराज जिले की रहने वाली हैं। प्रयागराज से ही स्कूली शिक्षा प्राप्त करने के बाद उन्होंने 10 वीं में 96% और 12वीं में 98.25% अंक हासिल किए। दिल्ली यूनिवर्सिटी के लेडी श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स से इकोनॉमिक्स ऑनर्स में ग्रेजुएशन करने के बाद उन्होंने एक साल तक UPSC की तैयारी की। अनन्या सिंह ने साल 2019 में यूपीएससी परीक्षा (UPSC Exam) दी थी। 22 साल की अनन्या सिंह Ananya Singh ने अपने पहले ही प्रयास में यूपीएससी परीक्षा (UPSC Exam) क्लियर कर दी थी। उन्होंने लक्ष्य पर नज़र बनाए रखी और अपनी मेहनत के दम पर मंज़िल को हासिल किया। अनन्या कहती हैं कि उन्होंने प्लानिंग के साथ सिविल सर्विसेज की तैयारी की जिसका नतीजा ये रहा कि पहले ही प्रयास में ही उन्हें ऑल इंडिया 51वीं रैंक मिली। अनन्या सिंह ने पढ़ाई के प्रति लगन और बुलंद हौसलों के दम पर बहुत कम उम्र में ही यूपीएससी का एग्ज़ाम क्लीयर करके ये मुकाम हासिल किया। 

Think with Niche पर आपके लिए और रोचक विषयों पर लेख उपलब्ध हैं । एक अन्य लेख को पढ़ने के लिए कृपया नीचे  दिए लिंक पर क्लिक करे-
https://www.thinkwithniche.in/blogs/details/youngest-billionaires-of-the-world-




Newsletter

Read and Subscribe