चिंता से कैसे दूरी बनाएं ?

3671
20 Jan 2024
5 min read

Post Highlight

कहते हैं की चिंता चिता सामान होती हैं। ये बात सच है फिर भी देश और दुनिया में हर व्यक्ति  चिंताओं से भरा पड़ा है। छोटी-मोटी चिंता लेकर उसे दूर कर लेना तो अच्छी कला है, लेकिन हमेशा चिंतित महसूस करते रहना एक बीमारी की तरह हो जाता है और आपको अंदर ही अंदर खोखला करती रहती है।

ऐसे कई आंकड़े हैं, जिसमें पता चलता है कि लाखों लोग चिंता को बड़ा बना लेते हैं और उनका दिमाग कई वर्षों तक चिंतित दिमाग के रूप में जीवन यापन करता रहता है।

अगर विज्ञान की भाषा में समझा जाए तो इस चिंतित दिमाग को एंक्सियस माइंड (Anxious Mind) कहते हैं या फिर एंग्जाइटी (Anxiety) की समस्या भी कहा जाता है। इस तरह की परेशानी इंसान को उसके चलते-फिरते जीवन में परेशान करती रहती है, लेकिन वह इस बात को किसी से बयां नहीं करता।

कहने को यह बड़ा मामूली लगता है, लेकिन देश और दुनिया के कई लोग, काम को करते वक्त या फिर दूसरे किसी काम या घर में रहते हुए भी इस अवस्था में डूबे रहते हैं साथ ही अपने किसी भी काम में अपना 100 प्रतिशत नहीं दे पाते।

दिमाग में कई तरह के विचार आना आम बात है, लेकिन जो व्यक्ति हमेशा चिंतित रहते हैं उनके दिमाग में विचारों का पिटारा आम इंसानों से ज्यादा चलता रहता है। जिसकी वजह से वह सब कुछ सामान्य रूप से करते दिखते हैं, लेकिन खुद को खुश नहीं रख पाते। मन में बिना मतलब की चिंताएं ऐसे लोगों को घेरे रखती हैं।

उपरोक्त बातों को ध्यान में रखते हुए हम आज इस ब्लॉगपोस्ट में हम कुछ तकनीकों और उपायों के बारे में जानेगे। उम्मीद है की आप इसके बाद जान सकेंगे की चिंता से कैसे छुटकारा पाएं? How to get rid of anxiety?

Podcast

Continue Reading..

चिंता एक आम समस्या है जो किसी को भी हो सकती है। यह एक सामान्य मानवीय भावना है, लेकिन जब यह आपके दैनिक जीवन में बाधा डालने लगे तो यह एक समस्या बन सकती है।चिंता के कई कारण हो सकते हैं, जैसे कि वित्तीय समस्याएँ, परिवारिक मुद्दे, और काम की तनाव।

इसके अलावा, सामाजिक दबाव, निरंतर स्ट्रेस, और आत्म-संकोच भी चिंता के कारण बन सकते हैं। चिंता के विभिन्न प्रकार होते हैं, जैसे कि जिज्ञासु चिंता, सामान्य चिंता, और उदासीनता।

आज की तेजी से बदलती दुनिया में, चिंता और तनाव अद्भुत रूप से बढ़ रहे हैं। हमारे दिनचर्या में आने वाली समस्याएँ और जीवन की चुनौतियाँ हमें बहुत अकेलापन में डाल सकती हैं, जिससे हमारा मानसिक स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है। चिंता का सामना करना और इससे मुक्त होना महत्वपूर्ण है।

इस लेख में, हम जानेंगे कि चिंता क्या है, इसके कारण, और इससे निपटने के कुछ प्रमुख तरीके।

चिंता से कैसे दूरी बनाएं? How to distance yourself from anxiety?

चिंता  क्या हैं ? What is anxiety?

 चिंता एक भावनात्मक और शारीरिक प्रतिक्रिया है जो तब होती है जब आप किसी खतरे या दबाव का सामना करते हैं। यह एक सामान्य मानवीय भावना है जो हमें खतरे से बचने या उसका सामना करने में मदद करती है। हालांकि, जब चिंता अत्यधिक या लगातार हो जाती है, तो यह एक समस्या बन सकती है।

चिंता के लक्षण: Symptoms of Anxiety:

चिंता के विभिन्न लक्षण हो सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • बेचैनी

  • घबराहट

  • थकान

  • नींद आने में परेशानी

  • ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई

  • चिड़चिड़ापन

  • मांसपेशियों में तनाव

  • पेट खराब होना

  • सिरदर्द

  • छाती में दर्द

  • सांस लेने में तकलीफ

चिंता के कारण: Reasons  of Anxiety

चिंता के कई कारण हो सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • जीवन के तनावपूर्ण अनुभव, जैसे कि नई नौकरी शुरू करना, परीक्षा देना, या किसी प्रियजन की मृत्यु का सामना करना

  • मानसिक विकार, जैसे कि चिंता विकार, अवसाद, या पोस्ट-ट्रॉमेटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर (PTSD)

  • चिकित्सा स्थितियां, जैसे कि हृदय रोग, थायराइड रोग, या मधुमेह

  • पदार्थों का उपयोग, जैसे कि अल्कोहल या ड्रग्स

चिंता से मुक्ति के उपाय: चिंता से मुक्ति के कई तरीके हैं, जिनमें शामिल हैं:

चिंता से मुक्ति के उपाय Ways to get rid of anxiety

चिंता एक आम समस्या है जो किसी को भी हो सकती है। यह एक सामान्य मानवीय भावना है, लेकिन जब यह आपके दैनिक जीवन में बाधा डालने लगे तो यह एक समस्या बन सकती है। चिंता से मुक्ति पाने के कई तरीके हैं, जिनमें जीवनशैली में बदलाव, आराम तकनीक, और थेरेपी शामिल हैं।

1. जीवनशैली में बदलाव lifestyle changes

चिंता को कम करने के लिए आप अपने जीवनशैली में कुछ बदलाव कर सकते हैं। इनमें शामिल हैं:

  • नियमित व्यायाम करें Exercise regularly : व्यायाम तनाव को कम करने और मूड में सुधार करने में मदद कर सकता है। सप्ताह में कम से कम 150 मिनट मध्यम-तीव्रता वाले एरोबिक व्यायाम या 75 मिनट उच्च-तीव्रता वाले एरोबिक व्यायाम करें।

  • पर्याप्त नींद लें Get enough sleep : वयस्कों को हर रात 7-8 घंटे की नींद की आवश्यकता होती है। पर्याप्त नींद न लेने से चिंता बढ़ सकती है।

  • स्वस्थ आहार खाएं Eat healthy diet : स्वस्थ आहार खाने से आपका समग्र स्वास्थ्य बेहतर होगा, जो चिंता को कम करने में मदद कर सकता है। अपने आहार में ताजे फल, सब्जियां, और साबुत अनाज शामिल करें।

  • मादक पदार्थों और शराब से बचें Avoid drugs and alcohol : मादक पदार्थ और शराब चिंता को बढ़ा सकती हैं।

  • तनाव प्रबंधन तकनीकों का अभ्यास करें: तनाव प्रबंधन तकनीकें, जैसे कि गहरी साँस लेना और ध्यान, चिंता को कम करने में मदद कर सकती हैं।

2. आराम तकनीक Relaxation techniques

आराम तकनीकें चिंता के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकती हैं। कुछ लोकप्रिय आराम तकनीकों में शामिल हैं:

  • गहरी साँस लेना: अपने पेट तक गहरी साँस लें और धीरे-धीरे छोड़ें।

  • ध्यान: ध्यान में, आप अपने ध्यान को वर्तमान क्षण पर केंद्रित करते हैं।

  • योग: योग आसन और ध्यान का संयोजन है।

  • थेरेपी Therapy: यदि आपकी चिंता गंभीर है या आप इसे स्वयं प्रबंधित करने में असमर्थ हैं, तो आप थेरेपी लेना चाह सकते हैं। एक चिकित्सक आपको आपकी चिंता को समझने और प्रबंधित करने में मदद कर सकता है।

3. काम थोड़ा कम कर लेने में कोई आफत नहीं  There is no harm in reducing the work a little.

चिंता की वजह से दिमाग में हमेशा विचार चलते रहते हैं। इन विचारों के चलते ढंग से काम नहीं किया जा सकता। इस अवस्था में आपको अपने कामों को थोड़ा कम कर लेने में कोई दिक्कत नहीं है।

चिंतित दिमाग वाला व्यक्ति सोचता रहता है कि किस तरह सभी कामों को अच्छी तरह निभा लिया जाए। जब कई तरह के काम एक साथ आते हैं तो काफी परेशानी होती है।

इस अवस्था में इंसान अपने आपको परेशान करने लगता है। ऐसी परिस्थिति में आप परेशान ना हों, अपने आप को सामान्य रखकर काम करें, इसी में आपको फायदा होगा। अगर आप थोड़ा काम कम कर लेंगे तो कोई आफत नहीं आएगी। हर काम को एक साथ निपटने की कोशिश ना करें, काम को एक-एक करके करें, इसी में आपकी भलाई है।

4. अपनी प्राथमिकताओं को आसान बनाएं Simplify your priorities

आप किसी भी क्षेत्र में काम कर रहें हों, आपको कुछ काम एक साथ दिए जा सकते हैं, ऐसी स्थिति में आपको अपनी प्राथमिकताओं को आसान करना होगा। जो काम सबसे ज्यादा ज़रूरी है उस पर पहले काम करना होगा और जो बाद में हो सकता है उसे बाद में करना होगा।

इस तरह आप खुद के दिमाग को चिंतित नहीं करेंगे। कई बार हम एक साथ कई काम करने की फिराक में रहते हैं और सब बिगाड़ लेते हैं। इसलिए अपनी प्राथमिकता तय करें और उसके बाद ही काम करें, यह आपके दिमागी संतुलन को बना के रखेगा।

5. मोबाइल ऐप का इस्तेमाल सीमित करें Limit mobile app usage

आजकल मोबाइल के बिना कोई काम नहीं चलता। ऐसे मौके पर हम कई ऐप डाउनलोड कर लेते हैं और उन्हें किसी न किसी रूप में इस्तेमाल करते रहते हैं। कई बार तो बिना मतलब ही कुछ ऐप को हम देखते घंटो बिता देते हैं।

आप यह तय करें कि आप जो ऐप इस्तेमाल कर रहे हैं वह सीमित दायरे में हों, अगर आप अपनी ऐप के इस्तेमाल को सीमित कर देंगे तो इससे भी आपके दिमाग में काफी शांति महसूस होगी और आप चिंतित दिमाग से मुक्ति पा सकेंगे।

चिंता से छुटकारा पाने के लिए ऐप्स Apps to get rid of anxiety

चिंता से छुटकारा पाने के लिए कई तरह के उपचार उपलब्ध हैं, जिनमें दवा, मनोचिकित्सा और जीवनशैली में बदलाव शामिल हैं। कुछ लोग चिंता से छुटकारा पाने में मदद के लिए ऐप्स का भी उपयोग करते हैं।

चिंता से छुटकारा पाने के लिए उपयोग किए जाने वाले कुछ लोकप्रिय ऐप्स में शामिल हैं:

  • Headspace: यह ऐप ध्यान और श्वास तकनीकों पर केंद्रित है।
  • Calm: यह ऐप ध्यान, नींद और विश्राम के लिए संसाधन प्रदान करता है।
  • Pacifica: यह ऐप चिंता और तनाव को प्रबंधित करने के लिए मनोवैज्ञानिक तकनीकों का उपयोग करता है।
  • 7 Cups of Tea: यह ऐप उपयोगकर्ताओं को एक-दूसरे से समर्थन और सलाह प्राप्त करने की अनुमति देता है।
  • CBT-i Coach: यह ऐप नींद की समस्याओं को दूर करने में मदद करने के लिए व्यवहार संबंधी चिकित्सा तकनीकों का उपयोग करता है।

इन ऐप्स का उपयोग करने से पहले अपने डॉक्टर या मनोचिकित्सक से बात करना महत्वपूर्ण है। वे यह सुनिश्चित करने में आपकी मदद कर सकते हैं कि ऐप आपके लिए सही है और यह आपके मौजूदा उपचार योजना के साथ अच्छी तरह से काम करता है।

चिंता से छुटकारा पाने के लिए ऐप्स का उपयोग करने के कुछ लाभों में शामिल हैं:

  • वे उपयोग करना आसान और सुविधाजनक हो सकते हैं।
  • वे आपको अपने घर के आराम से अपनी गति से सहायता प्राप्त करने की अनुमति देते हैं।
  • वे आपको अन्य लोगों से जुड़ने और समर्थन प्राप्त करने में मदद कर सकते हैं।

हालांकि, चिंता से छुटकारा पाने के लिए ऐप्स का उपयोग करने के कुछ संभावित नुकसान भी हैं:

  • वे एक पूर्ण इलाज नहीं हैं।
  • वे किसी अन्य उपचार योजना को प्रतिस्थापित नहीं कर सकते हैं।
  • वे कुछ लोगों के लिए प्रभावी नहीं हो सकते हैं।

यदि आप चिंता से छुटकारा पाने के लिए ऐप्स का उपयोग करने पर विचार कर रहे हैं, तो यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि आप एक विश्वसनीय और सुरक्षित ऐप चुनें। आप अपने दोस्तों, परिवार या स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से सिफारिशें भी प्राप्त कर सकते हैं।

Also Read: बिज़नेस में सफलता के लिए Mindset कैसे करे

6. अनावश्यक ज्ञान लेना कम करें reduce unnecessary knowledge intake

कई बार कुछ लोग अपने आपको काम को हर क्षेत्र में पारंगत दिखाने के लिए कई तरह का ज्ञान हासिल कर लेते हैं। लेकिन ऐसी स्थिति में कई बार यह ज्ञान हमारे दिमाग पर भारी पड़ जाता है। ज्ञान तो अवश्य लें, लेकिन उस ज्ञान को अपने दिमाग पर हावी ना होने दें।

अगर आप के दिमाग पर ज्ञान का भार ज़्यादा बढ़ रहा है तो भी आप कहीं ना कहीं चिंता में डूबे रहेंगे। ज़रूरी ज्ञान बेहद आवश्यक है, लेकिन अनावश्यक ज्ञान आपके दिमाग को चिंतित रख सकता है। तो एक समय सीमा बनाएं और आवश्यकता के अनुसार ज्ञान हासिल करें।

7. ज़रूरत पड़े तो मदद लेने में कोई हर्ज नहीं There's no harm in seeking help if you need it.

कई बार चिंतित दिमाग के चलते आप काफी विचलित हो जाते हैं। ऐसी परेशानियां लोग दूसरे से साझा करने में कतराते हैं, लेकिन अगर ज़रूरत पड़े तो किसी की मदद लेने में कोई हर्ज नहीं है।

अगर आप किसी डॉक्टर के पास नहीं जाना चाहते तो आप किसी दोस्त से बात करके भी हल निकाल सकते हैं या फिर किसी सगे-संबंधी से बात करके समाधान पा सकते हैं। ध्यान रहे आप जिस से भी बात करें वह आपका विश्वासपात्र हो। 

चिंता से मुक्ति पाने के लिए कुछ अतिरिक्त युक्तियाँ:

  1. सकारात्मक रहें Be positive : सकारात्मक रहना यह मतलब है कि आपको अपने जीवन में सकारात्मक दृष्टिकोण बनाना होगा। यानी कि आपको नकारात्मक और प्रतिशोधात्मक विचारों को दूर रखने का प्रयास करना होगा। आपको खुश और सकारात्मक विचारों का साथ देने की कोशिश करनी चाहिए जो आपकी चिंताओं को कम कर सकते हैं।

  2. अपने आप को व्यस्त रखें Keep yourself busy: अपने आप को व्यस्त रखना आपके मानसिक स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। आपको वो काम करने का प्रयास करना चाहिए जिनसे आप आनंद लेते हैं और जो आपको आराम देते हैं। यह आपके दिन को सकारात्मक रूप से बिताने में मदद कर सकता है।

  3. प्रियजनों से बात करें Talk to loved ones : अपने परिवार और दोस्तों से बात करना आपको अपने भावनाओं को साझा करने में मदद कर सकता है। जब आप अपने मन की बातें किसी से कहते हैं, तो यह आपको आत्म-संज्ञान में मदद कर सकता है और समस्याओं को हल करने का मार्ग दिखा सकता है।

  4. पेशेवर मदद लें seek professional help : यदि आपकी चिंता गंभीर है या आप इसे स्वयं प्रबंधित करने में असमर्थ हैं, तो किसी पेशेवर से मदद लेना महत्वपूर्ण हो सकता है। यह मेंता की आप एक मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर, जैसे कि एक मानसिक स्वास्थ्य चिकित्सक या मानसिक स्वास्थ्य का पेशेवर, से सलाह लें जो आपको सहायता और निर्देशन प्रदान कर सकते हैं।

ये युक्तियाँ चिंता से मुक्ति प्राप्त करने में मदद कर सकती हैं, लेकिन ध्यान दें कि यदि आपकी चिंता बेहद गंभीर हो तो आपको मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर mental health professional की सलाह लेना बेहद महत्वपूर्ण है।

निष्कर्ष:

चिंता एक आम समस्या है, लेकिन यह एक ऐसी समस्या है जिससे मुक्ति मिल सकती है। आखिर में हम आपको यही बताना चाहेंगे कि अगर आप का दिमाग भी चिंतित रहता है तो अपने आप पर दयालुता का स्वभाव अपनाएं। हम सभी लोग जीवन में कुछ ना कुछ अच्छा करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन हमेशा सफलता ही अर्जित हो ऐसा मुमकिन नहीं है।

आपको कई बार हार का सामना भी करना पड़ सकता है। हमेशा एक बात ध्यान रखें कि कोई भी कार्य क्यों ना हो, आपके दिमाग से मूल्यवान कुछ नहीं है। हमेशा चिंता कुछ सुलझाने के लिए करें ना कि चिंता में डूबे रहने के लिए।

अगर आप चिंता में डूबे हुए हैं और किसी से बात करेंगे तो हमारा वादा है कि आप को इस बात से खुशी जरूर मिलेगी। इस बात को एक बार आजमा कर जरूर देखिएगा।

TWN In-Focus