व्यवसायी और उद्यमी के बीच के अंतर को समझें | Difference Between Businessman And Entrepreneur

14960
02 Oct 2021
8 min read

Post Highlight

आज हम आपको इस लेख के माध्यम से व्यवसायी और उद्यमी के बीच के अंतर को समझने में मदद करने वाले हैं। इस लेख में हम आपको कुछ ऐसे अंतर बताने वाले हैं, जिससे आप बड़ी आसानी से यह समझ जाएंगे कि एक व्यवसायी और एक उद्यमी में क्या फर्क होता है।

Podcast

Continue Reading..

Businessman And Entrepreneur

अक्सर कुछ लोग इस बात का अंतर नहीं समझ पाते कि आखिर एक व्यवसायी और एक उद्यमी में अंतर क्या होता है। इसे लेकर कुछ लोग यह भी समझ लेते हैं कि यह दोनों एक ही तरह काम करते हैं। लेकिन ऐसा नहीं है व्यवसायी और उद्यमी होना अलग है। इसके बीच के अंतर को समझना भी काफी जरूरी है। व्यवसायी और उद्यमी Businessman And Entrepreneur के बीच कुछ समानताएं जरूर हो सकती हैं लेकिन अच्छी तरह समझा जाए तो यह दोनों विधाएं काफी अंतर रखती हैं। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से व्यवसायी और उद्यमी के बीच के अंतर को समझने में मदद करने वाले हैं। इस लेख में हम आपको कुछ ऐसे अंतर बताने वाले हैं जिससे आप बड़ी आसानी से यह समझ जाएंगे कि एक व्यवसायी और एक उद्यमी में क्या फर्क होता है।

व्यवसायी बनाम उद्यमी | Businessman vs. Entrepreneur

ऐसी धारणा बन चुकी है कि व्यवसायी और उद्यमी एक सरीका के होते हैं, लेकिन दोनों शब्द व्यवसाय में अलग मायने रखते हैं। अगर एक व्यवसायी की बात की जाए तो वह एक रास्ता पकड़कर उस पर अमल करके आगे बढ़ते हैं। जिसकी योजना पहले से बनी हुई होती है। वहीं अगर एक उद्यमी की बात की जाए तो वह अपने नए विचारों को उकेर कर आगे बढ़ता है। वह अपनी योजना और रास्ता खुद बनाता है। हालांकि देखा जाए तो एक उद्यमी भविष्य में व्यवसायी  के रूप जरूर उभर सकता है। लेकिन इन दोनों में फर्क जरूर होता है।

ये भी पढ़े: What Is an Entrepreneur?

बाजार की स्थिति के मुताबिक समझें | Understand according to the market situation

अगर बाजार की स्थिति के मुताबिक समझा जाए तो एक व्यवसायी जो व्यवसाय करता है, वह बाजार में हो रही उथल-पुथल के मुताबिक निर्णय लेता है। साधारण भाषा में कहें तो ऐसा खिलाड़ी जो टीम में हो रही गतिविधियों के मुताबिक चलता है। वहीं अगर बाजार की स्थिति के मुताबिक एक उद्यमी की बात की जाए तो यह एक नेतृत्व क्षमता वाला खिलाड़ी होता है। जो अपनी नई सोच और योजना के मुताबिक चलकर कई लोगों को दिशा दिखाता है।

बाजार के दृष्टिकोण से…

व्यवसायी वह होता है जो बाजार में अपने पैर पसार कर कर काम करता है और यह पैर वह कड़ी मेहनत के बाद जमाता है। बाजार में बने रहने के लिए कड़ी मेहनत तो लगती है साथ में समय भी लगता है। वहीं अगर उद्यमी की बात की जाए तो वह अपना बाजार खुद बनाता है, क्योंकि उसके पास एक ऐसी योजना होती है जो रचनात्मक और नई है इस नई रचनात्मक सोच के माध्यम से यह लोगों के दिमाग और बाजार पर कब्जा करता है।

जोखिम के आधार पर समझें

 अगर एक व्यवसाय की बात करें जो पिछले काफी सालों से चला आ रहा है और उसमें एक व्यवसायी ने अच्छी पकड़ बना ली है तो यहां काफी कम जोखिम होगा। व्यवसायी  के लिए कम जोखिम इसलिए भी होगा क्योंकि यह व्यवसाय शायद उसे किसी और से भी मिल सकता है। वहीं अगर एक उद्यमी की बात की जाए तो यहां बड़ा जोखिम होता है। क्योंकि ऐसे में आपके पास कोई अगला पिछला अनुभव नहीं होता आप ऐसी जगह कदम रख रहे होते हैं, जहां आपको खुद अपनी जिम्मेदारी लेनी होती है। यहां जोखिम बढ़ा है लेकिन सफलता भी अपार है। 

प्रक्रिया के अनुसार का फर्क

व्यवसाय के लिए जो प्रक्रिया होती है वह पुरानी होती है। जो लंबे अरसे से व्यवसाय को चला रहे हैं वह एक ही तरह का प्रारूप अपनाकर अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाते हैं। लेकिन एक उद्यमी का तरीका काफी अलग होता है। वह इस प्रारूप में हर उस कदम को उठाता है जिसे लेकर वह आगे बढ़ सकता है। वह कदम कई बार अच्छे भी साबित होते हैं और बुरे भी। 

इस प्रक्रिया में एक व्यवसायी का ध्यान मुनाफा कमाने के ऊपर ज्यादा होता है। जबकि एक उद्यमी अपने कर्मचारी, अपने ग्राहक और जनता के प्रति अच्छा व्यवहार रखकर मुनाफे की तरफ ध्यान देते हैं। यहां हम यह नहीं कह रहे कि व्यवसायी इन बातों पर ध्यान नहीं देते, जरूर देते हैं, लेकिन एक उद्यमी का ध्यान इस तरफ ज्यादा होता है।

ये भी पढ़े: अपनी कॉफ़ी शॉप कैसे शुरू करें ?

प्रतिद्वंदिता के विषय पर

अगर प्रतिद्वंदिता के विषय पर देखा जाए तो व्यवसाय में यह काफी ज्यादा होती है। क्योंकि व्यवसाय कई लोग करते हैं और पुश्तैनी व्यवसाय कई बरसों से चले आ रहे हैं। वहीं अगर उद्यमी की प्रतिद्वंदिता देखें तो यह काफी कम होती है। उद्यमी में कम प्रतियोगिता का कारण यह होता है कि एक उद्यमी का विचार, उसकी सोच, उसकी नई योजना सिर्फ उसकी होती है, इसीलिए प्रतियोगिता का स्तर कम हो जाता है।

 यहां हमने व्यवसायी और उद्यमी के बीच के फर्क को समझाया है और हमें यकीन है कि हम इस बात को आप तक पहुंचा पाए कि दोनों विधाओं में काफी अंतर होता है।

TWN Ideas