दुनिया की सबसे महंगी किताबें | World's Most Expensive Books

3647
21 Jan 2023
6 min read

Post Highlight

किताबें इंसान के जीवन को नया आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। किसी भी व्यक्ति का व्यक्तित्व उसके द्वारा पढ़ी जा रही पुस्तक से पता लगाया जा सकता है। वास्तव में पुस्तकें ही व्यक्ति के व्यक्तित्व को दर्शाती हैं। पुस्तकों के लिए बैचैन रहने वाले व्यक्तियों के लिए किताबों की मोटी कीमत मायने नहीं रखती है।

वो किताबों के लिए करोड़ों रुपए खर्च करने के लिए भी तैयार रहते हैं। क्योंकि दुनिया के बड़े-बड़े लेखकों की किताबें करोड़ो रूपये में मिलती हैं। किताब प्रेमियों को इस बात से फर्क नहीं पड़ता है कि वो किताबें महंगी हैं।

उन्हें तो बस अलग अलग तरह की किताबें पढ़ना और उनके बारे में जानना पसंद होता है। आज के इस विशेष ब्लॉग में हम आपको ऐसी ही दुनिया की सबसे महंगी किताबों  Most Expensive Book In The World के बारे में बतायेगे |

Podcast

Continue Reading..

कहते हैं कि आदमी की सबसे अच्छी दोस्त किताबें ही होती हैं। किताबों की हम यू ही पूजा नहीं करते। इनके पन्ने-पन्ने पर ज्ञान छिपा होता है। मूक रहकर भी बहुत कुछ बोलती हैं किताबें। ज्ञान, मनोरंजन, अनुभव और भी बहुत कुछ है इन किताबों में। जिसने इनका महत्व समझ लिया समझो उसने सब कुछ समझ लिया।

यही वजह है कि दुनिया में बहुत सारे लोग किताबें पढ़ने के लिए बेताब रहते हैं। मतलब बुक रिलीज रिलीज़ होने से पहले ही वो किताबों के लिए बेचैन रहते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि दुनिया में कुछ ऐसी किताबें भी हैं जिनकी कीमत जानकर आप हैरान हो जायेंगे। ऐसी ही ये कुछ किताबें हैं जिनकी कीमत जानकर आप विश्वास नहीं कर पायेंगे कि सच में ये इतनी महंगी हो सकती हैं। 

दुनिया की सबसे महंगी किताब | Most Expensive Book In The World

कोडेक्स लिसेस्टर (Codex Leicester) कीमत : 228 करोड

इस बुक में कुल 72 पेज हैं। इसके राइटर, लियोनार्डो द विंसी (Leonardo da Vinci) हैं। लियोनार्डो द विंसी की इस साइंटिफिक जनरल बुक की कीमत सबसे अधिक बताई जाती है। ये लियोनार्डो द विंसी द्वारा लिखी गयी एक हस्तलिखित पांडुलिपि है। आज के समय में इस बुक की कीमत $30 million (करीब 228 करोड़ रुपये) है।

इसकी पहली पांडुलिपि सबसे पहले थॉमस कुक ने 1515 में खरीदी थी। इसके बाद इसे लीसेस्टर स्टेट ने ख़रीदा और अब ये किताब दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति बिल गेट्स के पास है। 202.2 करोड़ में बिल गेट्स ने ये किताब खरीद कर वर्ल्ड रिकॉर्ड बना दिया। 

दि गोस्पेल ऑफ हेनरी द लॉयन ऑर्डर (The Gospels of Henry the Lion Order) कीमत :लगभग 89 करोड

इस बुक के राइटर, ऑर्डर ऑफ सेंट बेनेडिक्ट (St. Benedict) हैं। इस पुस्तक को बर्नसाविक कैथेड्रल में विर्जिन मैरी के दरबार में ‘सैक्सानी के ड्यूक’ के लिए बारहवीं सदी में लिखा गया। दिसम्बर 1983 में जर्मन सरकार ने इस रोमन प्रबुद्ध हस्तलिपि को 11,700,000 अमेरिकी डालर में खरीदा। यह बुक रोमन संस्कृति के बारे में है। इस किताब की कीमत $11.7 मिलियन (लगभग 89 करोड़ रुपये) है। 

गुटेनबर्ग बाइबल (Gutenberg Bible) कीमत: 5.4 मिलियन डॉलर

इसके लेखक पीयरे जोसेफ रिडाउट हैं। गुटेनबर्ग बाइबिल की कीमत 5.4 मिलियन डॉलर है। गुटेनबर्ग बाइबिल ने दुनिया की सबसे महंगी किताबों की लिस्ट में अपना नाम दर्ज किया हुआ है। पश्चिम में छापी गई यह पहली पुस्तक थी जिससे छपी हुई पुस्तकों का प्रारंभ हुआ तथा गुटेनबर्ग क्रांति का जन्म हुआ। सबसे पहले, 1987 में, इसने अब तक खरीदी गई सबसे महंगी किताब का रिकॉर्ड बनाया। 1450-मुद्रित पुस्तकों के मूल संग्रह की केवल 48 प्रतियां अभी भी संरक्षित हैं।

बर्ड्स ऑफ़ अमेरिका (Birds of America) कीमत : 11.5 मिलियन डॉलर

बर्ड्स ऑफ़ अमेरिका के लेखक जेम्स ऑडबोन हैं। बर्ड्स ऑफ़ अमेरिका, अमेरिका के पक्षियों का एक उत्कृष्ट संग्रह है। यह संयुक्त राज्य अमेरिका के पक्षियों की विविधता को दर्शाती है। इस पुस्तक को पक्षियों पर अध्ययन के लिए बहुत प्रशंसा मिली। अमेरिका के बर्ड्स की सबसे महंगी प्रति 2010 में लंदन के सोथबी ऑक्शन हाउस में $ 11.5 मिलियन में नीलाम हुए। जेम्स ऑडबोन की बर्ड्स ऑफ़ अमेरिका की कीमत 11.5 मिलियन डॉलर है।

मैग्ना कार्टा (Magna Carta) कीमत : 21,300,000 अमेरिकी डॉलर

इस बुक को 1297 में लिखा गया था। इस बुक की कीमत $24.5 मिलियन (करीब 186 करोड़ रुपये) बतायी जाती है। इसके बाद इसे अमेरिकी अरबपति रॉस पेरोट (Ross Pero) ने खरीदा था। इसके लेखक जॉन (किंग ऑफ इंग्लैंड) और स्टीफन लैग्टन हैं। 1297 की मैग्ना कार्टा की मुख्य प्रति को डेविड रूबेंस्टेन ने दिसम्बर 2007 में 21,300,000 अमेरिकी डॉलर में साउथ बाई, न्यूयार्क में खरीदा था । डेविड रूबेंस्टेन कार्लाइल ग्रुप के को-फाउंडर थे।

द फर्स्ट बुक ऑफ यूरीज़ेन (The First Book of Urizen) कीमत: 2.5 मिलियन डॉलर

इसके लेखक विलियम ब्लेक (WILLIAM BLAKE) हैं। इसकी कीमत: 2.5 मिलियन डॉलर (16.25 करोड़ रुपए) है। विलियम ब्लेक की द फर्स्ट बुक ऑफ यूरीजे़न मूल रूप से 1794 में प्रिंट हुई थी। बाद के संस्करणों ने "फर्स्ट" को हटा दिया। विलियम ब्लेक की यह बेहद खास कृतियों में से एक है। इसकी मूल से इसकी आठ प्रतियां उपलब्ध हैं। 

द बुक ऑफ उरीजेन अंग्रेजी लेखक विलियम ब्लेक की प्रमुख भविष्यवाणी पुस्तकों में से एक है, जिसे ब्लेक की अपनी प्लेटों द्वारा चित्रित किया गया है। पुस्तक का नाम ब्लेक की पौराणिक कथाओं में चरित्र उरीजेन से लिया गया है, जो उत्पीड़न के स्रोत के रूप में विमुख कारण का प्रतिनिधित्व करता है।

पुस्तक में उरीजेन को "प्राथमिक पुजारी" के रूप में वर्णित किया गया है। पुस्तक के रूप में उत्पत्ति की पुस्तक की पैरोडी है। उरीज़ेन के पहले चार बेटे थिरिल, उथा, ग्रोडना और फ़ज़ोन (क्रमशः तात्विक वायु, जल, पृथ्वी, अग्नि, अध्याय VIII के अनुसार) हैं। 

Also Read: वो किताबें जिनके बिना अधूरा है हिंदी साहित्य

जिओग्राफिया कॉस्मोग्राफिया (Geographia Cosmographia) कीमत: 4 मिलियन डॉलर

इसके लेखक, क्लाडियस पॉलेमी (Claudius Ptolemy) हैं। इसकी कीमत 4 मिलियन डॉलर (26 करोड़ रुपए ) है। दुनिया का पहला प्रिंटेड एटलस और दुनिया की पहली किताब जिसमें उकेरकर इलस्टे्रेशन बताए गए हैं। पॉलेमी की यह 1477 की कृति है। कास्मोग्राफिया लंदन स्थित सूदबे ने 2006 में इसे 2,136,000 पाउंड (4 मिलियन डॉलर) में इसकी नीलामी की थी। 

वेय साल्म बुक (Bay Psalm Book) कीमत: $14.5 मिलियन

यह किताब किसने लिखी यह जानकारी नहीं है। यानि इसके राइटर अज्ञात हैं। संयुक्त राज्य अमेरिका में छपी यह पहली बुक मानी जाती है। इसे स्टीफन डे प्रकाशन द्वारा पब्लिश किया गया था। 1640 में पब्लिश हुई इस किताब की कीमत $14.5 मिलियन (करीब 110 करोड़ रुपये) है।

द कैंटरबरी टेल्स  (The canterbury tales कीमत: 7.5 मिलियन डॉलर

इसके लेखक जेयोफ्रे चाउसर Geoffrey Chaucer हैं। इसकी कीमत 7.5 मिलियन डॉलर (48.75 करोड़ रुपए) है। क्रिस्टी ने अंग्रेजी कविता के जनक माने जाने वाले जेयोफ्रे चाउसर की सबसे चर्चित कृति कैंटरबरी टेल्स की पहले संस्करण की इस प्रति की बिक्री लंदन में 1998 में की थी। इसकी नीलामी से उसे 7.5 मिलियन डॉलर मिले थे। इसकी अधिकतर प्रतियां 1477 के पहले संस्करण की उपलब्ध हैं। 

सेंट कथबर्ट गोस्पेल (St. Cuthbert Gospel) कीमत:  $15.1 मिलियन

 इस किताब की कीमत $15.1 मिलियन यानी करीब 151 करोड़ रुपये मानी जाती है। इसके राइटर अज्ञात हैं। इसके बारे में पता नहीं है कि यह किसने लिखी। लैटिन भाषा में लिखी गई इस किताब को 18वीं सदी की मानी जाती है। जेसुइट्स (Jesuit) ने किताब को ब्रिटिश लाइब्रेरी को बेच दिया था। 

फर्स्ट फोलियो (First folio) कीमत: 6 मिलियन डॉलर

इसके लेखक विलियम शेक्सपियर (William Shakespeare) हैं। इसकी कीमत 6 मिलियन डॉलर (39 करोड़ रुपए) है। अंग्रेजी साहित्य के महान नाटककार विलियम शेक्सपियर की इस कृति की मूल कॉपी को क्रिस्टी ने 2001 में न्यूयार्क में हुई एक नीलामी में 6 मिलियन डॉलर में की थी। तकनीक जगत की दिग्गज कंपनी माइक्रोसाफ्ट के सह संस्थापक पॉल एलेन ने इस किताब को 6 मिलियन डॉलर में नीलामी में खरीदा था। 

द टेल्स ऑफ बीडल द बार्ड (The tales of beadle the bard) कीमत: 3.98 मिलियन डॉलर

इसके लेखक जेके रोलिंग (J.K. Rowling) हैं। इसकी कीमत 3.98 मिलियन डॉलर ( 25.87 करोड़ रुपए) है। जेके रोलिंग ने इसकी सात मूल प्रतियां तैयार की थीं। हर कॉपी और उसके इलस्ट्रेशन हाथ से लिखे गए थे।

उन्होंने इसकी छह कॉपियां अपने मित्रों और संपादकों को दे दी और सिर्फ एक कॉपी अपने पास रखी. इनमें से एक हस्तलिखित कॉपी को अमेजन डॉट कॉम ने नीलामी के लिए रखा। इस नीलामी से 3.98 मिलियन डॉलर मिले। अगर देखा जाये तो आधुनिक युग में लिखी गई किसी किताब की पांडुलिपि से मिली यह सबसे अधिक राशि है। 

लुइस दुहमेल डु मोनकाउ (Louis Duhamel du Monceau) कीमत : 4.5 मिलियन डॉलर

इसके लेखक पियरे एंटोनी (Pierre Antoine) हैं। यह किताब 5 वॉल्यूम में है। इसकी कीमत 4.5 मिलियन डॉलर (29.25 करोड़ रुपए) है। यह फलवाले पौधों पर लिखी गई अब तक की सबसे महंगी किताब है। इलस्ट्रेशन में विभिन्न प्रकार के फलों के चित्र हैं। 

TWN In-Focus