पीएम श्री योजना 2022 क्या है और इसका क्या उद्देश्य है ?

190
13 Sep 2022
7 min read

Post Highlight

शिक्षा के स्तर में सुधार लाने के लिए सरकार द्वारा निरंतर प्रयास किया जाता है। कई सालों से इस बात पर चर्चा हो रही थी कि भारत की शिक्षा प्रणाली में बदलाव की आवश्यकता है। देश के भविष्य बच्चों की बुनियाद को और मजबूत बनाने के लिए केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के बाद बड़ा कदम उठाया है। इसलिए 5 सितंबर 2022 को शिक्षक दिवस के दिन प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने पीएम श्री योजना का ऐलान किया है। पीएम श्री योजना PM Shri Scheme एक बहुत ही बेहतरीन योजना है जिसमें केंद्र सरकार इस आधुनिक युग के आधार पर स्कूल और शिक्षा प्रणाली में बदलाव लाना चाहती है। इस योजना के माध्यम से पुराने स्कूलों को एक नया स्वरूप दिया जाएगा एवं बच्चों को स्मार्ट शिक्षा से जोड़ा जाएगा। यानि पुराने मॉडल के स्कूलों को बदलकर ज्यादा सुंदर, मजबूत और आधुनिक तकनीकों से लैस किया जाएगा ताकि सभी बच्चों को आने वाले आधुनिक भविष्य का ज्ञान मिल सके। इस स्कूल में सारी आधुनिक सुविधाएं होंगी। ये सभी देश के मॉडल स्कूल बनेंगे। साथ ही पीएम श्री योजना बच्चों को अपनी स्वयं की सीखने की प्रक्रिया में भी भागीदार बनाएगा। वर्तमान समय में सरकार ने 14500 स्कूलों को अपग्रेड करने की इजाजत दी है। इसके आधार पर अन्य स्कूलों को भी 5 साल के अंतर्गत अपग्रेड किया जाएगा। तो आज इस लेख में विस्तार से जानते हैं कि पीएम श्री योजना 2022 क्या है और इसका क्या उद्देश्य है ? 

Podcast

Continue Reading..

शिक्षा के स्तर में सुधार लाने के लिए सरकार विभिन्न प्रकार की योजनाएं Schemes संचालित करती है। हाल ही में केंद्र सरकार Central government द्वारा एक नई योजना लांच की गई है जिसका नाम पीएम श्री योजना PM SHRI Yojana है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी Prime Minister Narendra Modi ने हाल ही में घोषणा की कि देश भर में 14,500 स्कूलों को पीएम श्री योजना PM SHRI Yojana के तहत विकसित और अपग्रेड किया जाएगा। इस योजना की घोषणा केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान Union Education Minister Dharmendra Pradhan ने जून 2022 में की थी। इस योजना के तहत भारत के सभी स्कूलों को मॉडर्न या आधुनिक शिक्षा प्रणाली Modern Education System से जोड़ा जाएगा। साथ ही इनमें राष्ट्रीय शिक्षा नीति National Education Policy (NEP) की पूरी भावना समाहित होगी। इस योजना को प्रधानमंत्री जी द्वारा 5 सितंबर 2022 को टीचर्स डे teachers day के अवसर पर ट्वीट के माध्यम से लांच किया गया है। पीएम श्री एक समान, समावेशी और आनंदमय स्कूल वातावरण में उच्च गुणवत्ता वाली शिक्षा प्रदान करेगा, जो बच्चों की विविध पृष्ठभूमि, बहुभाषी जरूरतों और विभिन् शैक्षणिक क्षमताओं का ख्याल रखेगा। पीएम श्री स्कूल अपने आसपास के अन्य स्कूलों को मार्गदर्शन और नेतृत्व प्रदान करेंगे। तो चलिए इस आर्टिकल में आपको पीएम श्री योजना 2022 के बारे में विस्तार से बताते हैं। 

पीएम श्री योजना क्या है?  What is PM Shree Yojana?

पीएम श्री योजना (PM SHRI Scheme) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा 5 सितंबर 2022 को लांच की गई है। इस योजना के तहत 14,500 स्कूलों का विकास और कायाकल्प Development and rejuvenation of schools किया जाएगा। इसे लेकर केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान (Dharmendra Pradhan) ने बताया कि इसके तहत केंद्रीय विद्यालयों और नवोदय विद्यालयों सहित इन स्कूलों को पीएम-श्री स्कूलों के रूप में मजबूत किया जाएगा। इस योजना को लांच करने का मुख्य उद्देश्य विद्यार्थियों को स्मार्ट शिक्षा से जोड़ने एवं पुराने स्कूलों को एक नया स्वरूप देना Connecting students to smart education है। इस योजना को प्रधानमंत्री जी के द्वारा ट्वीट के माध्यम से लांच किया गया है। इन स्कूलों में आधुनिक माध्यम से शिक्षा प्रदान की जाएगी। जिसमें नवीनतम तकनीक, स्मार्ट क्लास, खेल और आधुनिक अवसंरचना Latest technology, smart classes, sports and modern infrastructure पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। इस योजना के अंतर्गत संपूर्ण देश में 14500 स्कूलों का विकास एवं उन्नयन किया जाएगा। सभी स्कूलों को मॉडल स्कूल बनाया जाएगा एवं राष्ट्रीय शिक्षा नीति की पूरी भावना समाहित की जाएगी। पीएम श्री योजना की फुल फॉर्म Prime Minister School For Rising India है। इस योजना के माध्यम से सभी पुराने स्कूल अपग्रेड हो सकेंगे। केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि 27,360 करोड़ की लागत से 2022 से 2027 तक 146,00 स्कूलों की गुणवत्ता को बढ़ाया जाएगा। स्कूलों का चयन राज्य सरकारों से बातचीत करने के बाद किया जाएगा। इसके तहत हर ब्लॉक में दो स्कूलों को अपग्रेड किया जाएगा। मतलब इस योजना का मुख्य उद्देश्य है कि स्कूलों में गुणात्मक वृद्धि Qualitative growth in schools हो। जिससे 12वीं पास करते-करते बच्चों का पूरी तरह विकास हो। इसके अंतर्गत स्कूलों के ढांचे को भी इस योजना के अंतर्गत सुंदर एवं आकर्षक बनाया जाएगा। प्रत्येक ब्लॉक में एक पीएम श्री स्कूल की स्थापना की जाएगी और प्रत्येक जिले में इस योजना के अंतर्गत एक माध्यमिक एवं वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल स्थापित किया जाएगा।

पीएम श्री योजना को कैसे लागू किया जाएगा ?

पीएम श्री केंद्र सरकार की योजना है जिसका कुल बजट 27,360 करोड़ रुपये है। इसका पहला चरण वित्त वर्ष 2022-23 से वित्त वर्ष 2026-27 तक पांच वर्षों में पूरा होगा। इस योजना के माध्यम से देशभर के लाखों छात्रों को लाभ प्राप्त होगा। इस योजना में किसी भी मौजूदा सरकारी स्कूल को अपग्रेड करने की योजना है, चाहे वह केंद्रीय विद्यालयों और जवाहर नवोदय विद्यालयों सहित केंद्र, राज्य या नगरपालिका सरकारों के अधीन हो। सरकार द्वारा इस योजना के अंतर्गत लगभग 14500 स्कूल विकसित किए जाएंगे। देशभर के सभी वर्गों के छात्रों को आधुनिक माध्यम से शिक्षा की प्राप्ति होगी। ये स्कूल देश के मॉडल स्कूल बनेंगे, जो राष्ट्रीय शिक्षा नीति की मूल भावना के अनुरूप होंगे और शिक्षण के नवीन तरीकों पर फोकस करेंगे। देश के हर प्रखंड में कम से कम एक पीएम श्री स्कूल की स्थापना की जाएगी। ताकि आम लोगों के बच्चों को भी अच्छी शिक्षा का अवसर मिल सके और उन्हें पढ़ाई के लिए दूर न जाना पड़े।

पीएम श्री योजना के लिए स्कूलों को आधिकारिक पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन Online application on official portal करना होगा। राज्य सरकारें योजना के मानदंडों के तहत स्कूलों की पहचान करेंगी। इन मानदंडों में 55 से अधिक पैरामीटर शामिल होंगे, जैसे एनईपी को लागू करने के लिए स्कूल की सहमति और बिजली, पानी, सीवेज आदि जैसी बुनियादी सुविधाएं शामिल हैं। इसके बाद सरकारी अधिकारियों की टीम स्कूल का निरीक्षण करेगी। अधिकतम दो विद्यालयों (एक प्राथमिक और एक माध्यमिक या वरिष्ठ माध्यमिक) का चयन प्रति ब्लॉक योजना के अनुसार किया जाएगा। इन विद्यालयों की स्थापना केन्द्रीय विद्यालय की तर्ज पर की जाएगी। वहीं, जरूरत के हिसाब से सरकारी स्कूलों के परिसर और ढांचे को सुंदर, मजबूत, आकर्षक बनाया जाएगा। इस योजना के संचालन पर आने वाला खर्च केंद्र सरकार द्वारा वहन किया जाएगा। राज्य सरकारों द्वारा इस योजना की निगरानी की जाएगी।

पीएम श्री योजना का उद्देश Purpose of PM Shree Yojana

  • इस योजना का मुख्य उद्देश्य स्कूलों का अपग्रेडेशन करना है।

  • इस योजना के माध्यम से विद्यार्थियों को स्मार्ट शिक्षा से जोड़ा जाएगा एवं पुराने स्कूलों को एक नया स्वरूप दिया जाएगा।

  • इन सभी स्कूलों को नई शिक्षा नीति से भी जोड़ा जाएगा। ये स्कूल देश के मॉडल स्कूल बनेंगे, जो राष्ट्रीय शिक्षा नीति की मूल भावना के अनुरूप होंगे और शिक्षण के नवीन तरीकों पर फोकस करेंगे।

  • इन स्कूलों में अपनायी जाने वाली शिक्षा व्यवस्था अधिक प्रायोगिक, समग्र, एकीकृत, वास्तविक जीवन की स्थितियों पर आधारित एवं शिक्षार्थी केंद्रित होगी। 

  • PM SHRI Yojana के माध्यम से छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्राप्त हो सकेगी एवं आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के बच्चे भी आधुनिक स्कूलों से जुड़ सकेंगे।

  • स्कूलों को सौर पैनलों, स्मार्ट अपशिष्ट निपटान और प्रबंधन प्रणाली, प्राकृतिक रूप से खेती किए गए पोषण उद्यान, जल संरक्षण और संचयन प्रणाली, आदि के साथ "ग्रीन स्कूल" Green School के रूप में भी विकसित किया जाएगा।

  • इसका उद्देश्य स्कूल और उच्च शिक्षा प्रणालियों में सुधार करना है जिससे बच्चों को ज्यादा सुविधा मिल सके। 

  •  इस योजना के तहत पुराने मॉडल के स्कूलों को बदलकर ज्यादा सुंदर, मजबूत और आधुनिक तकनीकों से लैस equipped with modern technologies किया जाएगा ताकि सभी बच्चों को आने वाले आधुनिक भविष्य का ज्ञान मिल सके। 

  • यह योजना शिक्षा के स्तर को सुधारने में कारगर साबित होगी।

  • इस योजना के तहत देश के प्रत्येक जिले में एक माध्यमिक और वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय को भी जोड़ा जाएगा।

  • इसके अलावा प्रत्येक वर्ग के बच्चों को शिक्षा प्रदान करने का प्रयास भी इस योजना के माध्यम से किया जाएगा।

स्कूली शिक्षा में एनईपी NEP की प्रमुख विशेषताएं क्या हैं?

स्कूली शिक्षा में एनईपी की प्रमुख विशेषताओं के बारे में जानते हैं। दरअसल एनईपी अलग-अलग चरणों में विभाजित एक शिक्षण शैली की परिकल्पना करता है जैसे - मूलभूत, प्रारंभिक, मध्य और माध्यमिक। मूलभूत वर्षों (पूर्व-विद्यालय और ग्रेड I, II) में खेल-आधारित शिक्षा play-based learning शामिल होगी। प्रारंभिक स्तर (III-V) पर, कुछ औपचारिक कक्षा शिक्षण के साथ कुछ पाठ्यपुस्तकों को पेश किया जाना है। विषय शिक्षकों को मध्य स्तर (VI-VIII) पर पेश किया जाना है। माध्यमिक चरण (IX-XII) प्रकृति में बहु-विषयक होगा जिसमें कला और विज्ञान या अन्य विषयों को शामिल किया जाएगा। पीएम-श्री स्कूलों में शिक्षा प्रदान करने का एक आधुनिक, परिवर्तनकारी और समग्र तरीका होगा। पीएम मोदी ने कहा कि उन्हें पूरा विश्वास है कि एनईपी की भावना से पीएम-श्री स्कूल पूरे भारत में लाखों छात्रों को लाभान्वित करेंगे। इस योजना के अंतर्गत लांच किए गए स्कूलों के माध्यम से देश के छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा quality education प्राप्त हो सकेगी। जिससे कि उनको आने वाले समय में नौकरी प्राप्त करने में भी आसानी होगी।

Also Read : पीएम किसान योजना लिस्ट

कितने चरणों में चुने जाएंगे स्कूल?

स्कूलों का चयन निश्चित समय सीमा के अंदर तीन चरणों वाली प्रक्रिया three step process के द्वारा किया जाएगा। जिसमें प्रथम चरण के तहत राज्य/केंद्र शासित प्रदेश समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करेंगे जिसमें वे राष्ट्रीय शिक्षा नीति को संपूर्ण रूप से लागू करने पर सहमति जताएंगे और केंद्र इन स्कूलों को समर्थन देने के लिए प्रतिबद्धताओं को तय करेगा।

दूसरे चरण में निर्धारित मानकों के आधार पर उन स्कूलों की पहचान होगी। इस चरण में, यूडीआईएसई+ डेटा के माध्यम से निर्धारित न्यूनतम बेंचमार्क के आधार पर पीएम श्री स्कूलों के रूप में चुने जाने के योग्य स्कूलों की पहचान की जाएगी। 

तीसरा चरण कुछ मानदंडों को पूरा करने के लिए चुनौती पद्धति पर आधारित है। इसमें स्कूल चुनौती की शर्तों को पूरा करने की कोशिश करेंगे। केवल चुनौती की शर्तों को पूरा करने वाले स्कूल ही प्रतिस्पर्धा करेंगे। शर्तों की पूर्ति राज्यों/केवीएस/जेएनवी द्वारा भौतिक निरीक्षण के माध्यम से प्रमाणित की जाएगी। 

पीएम श्री की मुख्य विशेषताएं Salient Features of PM Shri

  • पीएम श्री एक समान, समावेशी और खुशमय वातावरण में उच्च गुणवत्ता वाली शिक्षा प्रदान करेगा, जो बच्चों की विविध पृष्ठभूमि, बहुभाषी जरूरतों और विभिन्न शैक्षणिक क्षमताओं का ख्याल रखेगा। जिससे बच्चे को सीखने के लिए अच्छा माहौल मिलेगा। 

  • इस योजना का मुख्य उद्देश्य विद्यार्थियों को स्मार्ट शिक्षा से जोड़ने एवं पुराने स्कूलों को एक नया स्वरूप देकर छात्रों का संपूर्ण विकास करना है।

  • इस योजना को प्रधानमंत्री ने ट्वीट के द्वारा लांच किया है और इस योजना के तहत संपूर्ण देश में 14500 स्कूलों का विकास एवं उन्नयन किया जाएगा।

  • सभी स्कूल राष्ट्रीय शिक्षा नीति की पूरी भावना से समाहित होंगे। 

  • पीएम श्री के अंतर्गत स्कूल अपने-अपने क्षेत्रों के अन्य स्कूलों को मेंटरशिप प्रदान करके उसका नेतृत्व करेंगे। 

  •  प्रत्येक क्लास में प्रत्येक बच्चे के सीखने के परिणामों पर ध्यान दिया जाएगा। सभी स्तरों पर मूल्यांकन वैचारिक समझ और वास्तविक जीवन स्थितियों के अनुप्रयोग पर आधारित होगा और योग्यता आधारित होगा। 

  • इन स्कूलों में आधुनिक माध्यम से शिक्षा प्रदान की जाएगी।

  • इस योजना के संचालन से देशभर के छात्र लाभान्वित होंगे। साथ ही स्कूलों के ढांचे को भी इस योजना के अंतर्गत सुंदर बनाया जाएगा।

  • रोजगार बढ़ाने और बेहतर रोजगार के अवसर प्रदान करने to provide better employment opportunities के लिए क्षेत्र कौशल परिषदों और स्थानीय उद्योग के साथ जुड़ाव का पता लगाया जाएगा। 

  • प्रत्येक ब्लॉक में एक पीएम श्री स्कूल की स्थापना की जाएगी एवं प्रत्येक जिले में इस योजना के अंतर्गत एक माध्यमिक एवं वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल स्थापित किया जाएगा।

TWN Special