शिक्षा जगत में टेक्नोलॉजी के फायदे और नुकसान

1878
25 Sep 2021
9 min read

Post Highlight

शिक्षा जगत में टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल छात्र, शिक्षक और माता-पिता कई तरीकों से कर सकते हैं। खासकर की अगर छात्रों को टेक्नोलॉजी की सुविधा क्लासरूम में मिलेगी तो शैक्षिक वातावरण काफी अच्छा होगा। अब जब हम शिक्षा जगत में टेक्नोलॉजी की बात कर ही रहे हैं, तो आइए इसके फायदे और नुकसान भी जान लेते हैं।

Podcast

Continue Reading..

टेक्नोलॉजी ने हर जगह अपनी एक मजबूत पकड़ बना ली है। आज के युग में छात्रों के लिए जितने अवसर और सुविधाएं, ज्ञान प्राप्त करने के लिए हैं, ये सारी सुविधाएं पहले नहीं हुआ करती थीं। पहले तो बस कॉपी, किताब और कलम हुआ करती थी। लेकिन अगर आधुनिक युग की बात करें तो आज कंप्यूटर, प्रोजेक्टर, ऑनलाइन-नोट्स और पीडीएफ का जमाना आ गया है। जाहिर सी बात है अगर टेक्नोलॉजी इसी तरह से तरक्की करती रही तो हमें और भी बहुत कुछ नया देखने को मिलेगा। 

शिक्षा जगत में टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल छात्र, शिक्षक और माता-पिता कई तरीकों से कर सकते हैं। खासकर की अगर छात्रों को टेक्नोलॉजी की सुविधा क्लासरूम में मिलेगी तो शैक्षिक वातावरण काफी अच्छा होगा। इंटरनेट का ज़माना है और हमने इस कोरोना काल में ही शिक्षा जगत में कई बडे़ बदलाव देखे हैं। आज बच्चों के पास ऑनलाइन कोचिंग, डाउट क्लासेज की सुविधा है। बच्चे को बस एक कंप्यूटर और अच्छे इंटरनेट कनेक्शन की आवश्यकता है। आपको बता दें कि कई बड़ी ऑनलाइन कोचिंग कंपनियों ने बताया है कि कोरोना काल में उनकी कोचिंग से जुड़ने वाले छात्र और छात्राओं की संख्या में अचानक से वृद्धि देखी गई और आज भी बच्चे ऑनलाइन कोचिंग को ज्यादा प्राथमिकता दे रहे हैं। अब जब हम शिक्षा जगत में टेक्नोलॉजी की बात कर ही रहे हैं, तो आइए इसके फायदे और नुकसान भी जान लेते हैं।

शिक्षा जगत में टेक्नोलॉजी के फायदे

 

1.टेक्नोलॉजी की मदद से माता- पिता और शिक्षक के बीच संचार काफी आसान हो गया है।

2.टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल छात्रों को भविष्य के लिए भी तैयार करता है।

3.टेक्नोलॉजी की मदद से सीखने की प्रक्रिया काफी आसान और मजेदार हो जाती है।

4.टेक्नोलॉजी की मदद से छात्र एक ही जगह पर सारी इनफॉर्मेशन पा सकते हैं।

5.टेक्नोलॉजी की मदद से शिक्षकों के लिए छात्रों तक सटीक और सही जानकारी पहुंचाना काफी आसान हो गया है।

6.टेक्नोलॉजी की मदद से सीखना काफी मजेदार होता है इसीलिए छात्र भी सीखने के लिए अधिक प्रेरित रहते हैं।

7.चाहे होमवर्क हो या कोई असाइनमेंट, टेक्नोलॉजी की मदद से अभिभावक और शिक्षक छात्रों तक कई उपयोगी इनफॉर्मेशन पहुंचा सकते हैं।

8.टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल छात्रों और शिक्षकों का समय बचाता है।

शिक्षा जगत में टेक्नोलॉजी के नुकसान

1.कई लोगों का मानना है कि टेक्नोलॉजी का ज्यादा इस्तेमाल डिस्ट्रेक्शन को बढ़ावा देता है।

2.टेक्नोलॉजी के ज्यादा इस्तेमाल से छात्रों में मेंटल और फिजिकल समस्याएं देखी गई है।

3.कुछ परिवार आज भी अपने बच्चों को स्कूल के काम के लिए फोन, कंप्यूटर या लैपटॉप देना सही नहीं मानते हैं।

4. छात्र ऑनलाइन दुनिया में इतने व्यस्त हो जाते हैं और इसी वजह से वे लोगों से फेस टू फेस बात करने में असहज महसूस करते हैं।

निष्कर्ष

शिक्षा जगत में टेक्नोलॉजी के फायदे और नुकसान जानने पर यह साफ पता चलता है कि चाहे वह कोई भी सेक्टर हो, हमें उसमें टेक्नोलॉजी की आवश्यकता है। हर क्षेत्र में टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल नुकसान से ज्यादा फायदा देता है। शिक्षा जगत में टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल छात्र, शिक्षक और अभिभावक तीनों के लिए ही अच्छा है। टेक्नोलॉजी की मदद से छात्र के लिए ज्ञान प्राप्त करना आसान हो जाता है। छात्र खुद से ही कई टॉपिक्स और चैप्टर्स पढ़ सकते हैं और नहीं समझ आने पर डाउट भी क्लियर कर सकते हैं। 

आसान भाषा में कहें तो टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल अपनी जगह बिलकुल सही है लेकिन छात्र, शिक्षक और माता-पिता इसका उपयोग कैसे करते हैं, इससे बड़ा फर्क पड़ता है।

TWN Special