नितिन गडकरी एक प्रगतिशील और दूरदर्शी लीडर

245
13 Jul 2022
5 min read

Post Highlight

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय संभाल रहे नितिन गडकरी अपने काम और विजन को लेकर सुर्खियों में रहते हैं और ये आम धारणा भी है कि मोदी सरकार में जो मंत्रालय सबसे अच्छा काम कर रहे हैं, नितिन गडकरी का मंत्रालय भी उनमें से एक है। नितिन गडकरी के मंत्रालय ने इस साल में पांच विश्व रिकॉर्ड बनाये हैं। नितिन गडकरी ने संसद में कहा कि 2024 तक देश का रोड इंफ्रास्ट्रक्चर अमेरिका के बराबर होगा। नितिन गडकरी की उपलब्धियां केंद्र के अन्य मंत्रियों के मुकाबले कहीं अधिक हैं। महाराष्ट्र विधान परिषद में विपक्ष के नेता से लेकर राष्ट्रीय स्तर पर अहम जिम्मेदारियां निभाने वाले गडकरी (Nitin Gadkari) राजनीति को पेशा नहीं बल्कि मिशन मानते हैं। महाराष्ट्र के लोक निर्माण मंत्री के तौर पर विकास कार्यों में वह इस कदर रमे कि उन्हें मुंबई में ढेरों फ्लाईओवर बनाने के कारण ‘‘फ्लाईओवर मैन'' "Flyover Man" कहा जाने लगा। किसी भी कार्य को बेहद व्यवस्थित तरीके से करने का लक्ष्य रखकर चलने वाले गडकरी ने राष्ट्रीय राजमार्गों की मरम्मत और चौड़ीकरण का काम बखूबी किया है। उनका कहना है कि सड़क के बुनियादी ढांचे को बढ़ाने से कृषि के साथ-साथ पर्यटन में रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। नितिन गडकरी का नाम एशिया बुक ऑफ रिकॉर्ड और इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज़ किया गया है। उनकी अगुवाई में राजमार्गों के निर्माण के कई नए रिकॉर्ड बने। इसके अलावा वह सड़कों व गाड़ियों की सेफ्टी (Vehicle Safety) के साथ-साथ ग्रीन एनर्जी के इस्तेमाल पर जोर देते रहते हैं।

#NitinGadkari
#FlyoverMan
#GreenHighway
#@MORTHIndia
#@nitin_gadkari

Podcast

Continue Reading..

किसी भी कार्य को बेहद व्यवस्थित तरीके से करने का लक्ष्य रखकर चलने वाले, महाराष्ट्र विधान परिषद में विपक्ष के नेता से लेकर राष्ट्रीय स्तर पर अहम जिम्मेदारियां निभाने वाले और राजनीति को पेशा नहीं बल्कि मिशन मानने वाले शख्स हैं नितिन गडकरी Nitin Gadkari । नितिन गडकरी जी हमारे देश की जाने मानी सख्शियत हैं। वह भारतीय राजनीति से संबंध रखते हैं और भारतीय जनता पार्टी के एक वरिष्ठ नेता A Senior Leader of Bharatiya Janata Party हैं। सड़कें, एक्सप्रेसवे और फ्लाईओवर बनवाने के उनके काम के कारण उन्हें ‘फ्लाईओवर मैन’ Flyover Man के रूप में जाना जाता है। नितिन गडकरी जी ने अपना यह मुकाम अपने कार्यों के माध्यम से प्राप्त किया है। गडकरी ने राष्ट्रीय राजमार्गों की मरम्मत और चौड़ीकरण का काम बखूबी किया है। वर्तमान में वो भारत सरकार में सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय Ministry of Road Transport and Highways संभाल रहे हैं। चलिए इस आर्टिकल में विस्तार से जानते हैं उनके जीवन और उनकी उपलब्धियों के बारे में।

नितिन गडकरी जीवन परिचय और शिक्षा Nitin Gadkari Biography and Education

गडकरी का जन्म 27 मई, 1957 को महाराष्ट्र Maharashtra के नागपुर शहर Nagpur City में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था। उनका प्रारंभिक जीवन गरीबी में बीता और उन्होंने अपने परिवार और शिक्षा का समर्थन करने के लिए आजीविका कमाने के लिए बहुत संघर्ष किया। शुरुआती शिक्षा के बाद उन्होंने राष्टसंत तुकड़ोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय Rashtrasant Tukadoji Maharaj Nagpur University से बीकॉम, एमकॉम की डिग्री हासिल की। इसके अलावा कानून के क्षेत्र में रूचि होने के कारण उन्होंने यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ लॉ, नागपुर से एलएलबी की पढ़ाई की। वहीं, एंटरप्रैन्योर स्किल्स Entrepreneur Skills बढ़ाने के लिए उन्होंने बिजनेस मैनेजमेंट business management में डिप्लोमा भी किया है। 18 दिसंबर, 1984 को गडकरी का विवाह सुश्री कंचन Kanchan के साथ हुआ।  गडकरी दंपति के तीन बच्चे हैं बेटे निखिल और सारंग और एक बेटी केतकी। 

नितिन गडकरी भारतीय राजनीति Indian politics की दुनिया में एक प्रमुख नाम हैं। वर्तमान में वह केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री Union Minister of Road Transport and Highways हैं। उन्हें सड़कों, एक्सप्रेस-वे और फ्लाईओवर के निर्माण में काम करने के कारण फ्लाईओवर मैन के रूप में जाना जाता है। वह आज जिस मुकाम पर हैं, उसे पाने के लिए उन्होंने राजनीति में कड़ी मेहनत की है। लोक निर्माण विभाग में अपने कार्यकाल के दौरान पुलों, फ्लाईओवर और एक्सप्रेसवे Bridges, Flyovers and Expressways बनाने में नितिन गडकरी को उनके काम के लिए माना जाता है। उन्हें प्रधान मंत्री ग्राम सड़क योजना Prime Minister's Village Road Scheme के कार्यान्वयन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाए जाने के लिये जाना जाता हैं।

शुरुआत में इनकी आर्थिक स्थितिअच्छी नहीं थी लेकिन बाद में वे पॉली सैक इंडस्ट्रियल सोसाइटी लिमिटेड Poly Sac Industrial Society Limited के संस्थापक एवं अध्यक्ष बने। यह कंपनी रिजिड पीवीसी पाइप बनाने वाली कंपनी है। इसके अलावा उनके बड़े बेटे निखिल गडकरी निखिल फर्नीचर्स एवं एप्लायंसेज प्राइवेट लिमिटेड Nikhil Furnitures & Appliances Private Limited के मालिक हैं, जिसमे गडकरी जी प्रमोटर डायरेक्टर के रूप में जुड़े हैं। यह कंपनी इपोक्सी पाउडर – कोटेड स्टील फर्नीचर बनाने वाली कंपनी है। बेटी केतकी के नाम पर इन्होंने फलों को विभिन्न देशों में निर्यात करने वाली एक कंपनी की शुरुआत भी की है, जिसका नाम केतकी ओवरसीज ट्रेडिंग कंपनी Ketki Overseas Trading Company है। 

राजनीति में नितिन गडकरी की भूमिका

नितिन गडकरी बहुत ही मंझे हुए राजनेता हैं और राजनीति के एक जाने माने नाम हैं। वह बहुत ही कम उम्र में राजनीति में शामिल हो गए थे। शुरुआत में वह एक छात्र कार्यकर्ता थे और राजनीति में सक्रिय रूप से भाग लेते थे। वह 1976 में छात्र राजनीतिक संगठन अखिल भारतीय विद्या परिषद Akhil Bharatiya Vidyarthi Parishad (ABVP) में शामिल हुए। उन्होंने विश्वविद्यालय के छात्र चुनावों में सक्रिय रूप से भाग लिया और ABVP ने नागपुर विश्वविद्यालय के छात्रसंघ की सभी सीटों पर जीत हासिल की। 

जब उन्हें भारतीय जनता युवा मोर्चा का अध्यक्ष चुना गया था तब वह 24 साल के थे। जब वे भाजपा नागपुर शहर के सचिव बने, तो उन्होंने जिले के विभिन्न क्षेत्रों में संगठन को मजबूत करने के लिए काम किया। इसके बाद नितिन गडकरी 32 साल की उम्र में नागपुर शहर से M.L.C बन गए और 1990, 1996, 2002 और 2008 में लगातार चार साल तक इस पद पर रहे। उन्होंने अपनी पार्टी की लोकप्रियता को पूरे राज्य में फैलाने का काम किया। 1992 में नागपुर महानगर पालिका में जीत ने भाजपा के सदस्य के रूप में अपने राजनीतिक करियर की स्थापना की। बाद में वे लोक निर्माण मंत्री के रूप में महाराष्ट्र मंत्रिमंडल में शामिल हुए। 42 वर्ष की आयु में, वे महाराष्ट्र विधान परिषद में विपक्ष के नेता बने। सन 1995 से 1999 तक वे महाराष्ट्र सरकार में पीडब्ल्यूडी मिनिस्टर बने थे। फिर सन 2004 में बीजेपी ने इन्हें राज्य स्तरीय अध्यक्ष चुन लिया। इसके बाद दिसम्बर सन 2009 में वे राजनाथ सिंह जी को पीछे छोड़ते हुए बीजेपी के अध्यक्ष बने थे, जब वे बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर आसीन हुए, तो वे सबसे कम उम्र के ऐसे व्यक्ति थे, जो इस पद के लिए चुने गये।

फिर साल 2014 में हुए आम चुनाव में गडकरी जी ने नागपुर सीट के लिए चुनाव लड़ा। यह चुनाव उनके लिए काफी अच्छा साबित हुआ और इसमें उनकी जीत हुई। मोदी जी की कैबिनेट मंत्रियों की सूची में नितिन गडकरी जी को शामिल किया गया और उन्हें सड़क परिवहन मंत्री के रूप में चुना गया। सितंबर 2017 में, गडकरी जी को शिपिंग और जल संसाधन, और नदी विकास और साथ ही गंगा रेजुवेनेशन Water Resources, River Development & Ganga Rejuvenation Minister जैसे अन्य कार्य भी सौंपे गये। नितिन गडकरी ने अपने सभी कार्यों को बेहतर कार्यप्रणाली के साथ पूरा किया। तभी तो वह इनोवेटिव आइडियाज Innovative ideas और बेबाक अंदाज के लिए जाने जाते हैं।

नितिन गडकरी के करियर की बात करें, तो वे पेशे से एक वकील एवं उद्योगपति lawyer and industrialist हैं लेकिन इन्होंने राजनीति में शामिल होकर एक राजनेता के रूप में अपने राजनीतिक करियर को आगे बढ़ाने फैसला किया। हालाँकि वे राजनीति को समाज सेवा के रूप में लेते हैं, वे हमेशा समाज एवं दलितों के लिए और गरीबों के लिए कई प्रोजेक्ट्स की शुरुआत करते हैं। 

नितिन गडकरी के मंत्रालय ने इस साल में बनाए पांच विश्व रिकॉर्ड

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय Union Ministry of Road Transport and Highways ने इस साल सड़क निर्माण के क्षेत्र में पांच विश्व रिकॉर्ड five world records बनाए हैं। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने अभी हाल ही में कहा कि उनके मंत्रालय ने इस साल पांच विश्व रिकॉर्ड बनाए हैं। नितिन गडकरी ने 105 घंटे और 33 मिनट में एनएच53 पर एक ही लेन में 75 किलोमीटर बिटुमिनस कंक्रीट बिछाने में भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के बनाए गए नए गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड की घोषणा की। दरअसल एक वीडियो संदेश में श्री गडकरी ने कहा कि भारत की आजादी के 75 साल पूरे होने पर और प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी Prime Minister Shri Narendra Modi के घोषित आजादी का अमृत महोत्सव Aajaadi Ka Amrt Mahotsav के तहत एनएचएआई ने एक विश्व रिकॉर्ड बनाया है जिसे गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स Guinness World Records ने प्रमाणित किया है। 

महाराष्ट्र के अमरावती से अकोला जिलों के बीच एनएच 53 पर एक ही लेन में 105 घंटे 33 मिनट में 75 किमी बिटुमिनस कंक्रीट बिछाने का रिकॉर्ड बनाया गया है। 75 किलोमीटर सिंगल लेन निरंतर बिटुमिनस कंक्रीट रोड की कुल लंबाई, 37.5 किमी टू-लेन पक्की शोल्डर रोड के बराबर है। उन्होंने बताया कि यह काम 3 जून 2022 को सुबह 7:27 बजे शुरू हुआ और 7 जून 2022 को शाम 5 बजे पूरा हुआ।

नितिन गडकरी ने इसका श्रेय इंजीनियरों, ठेकेदारों की टीम को दिया। उन्होंने कहा कि इसका श्रेय मुझे नहीं, बल्कि दिन-रात मेहनत करने वाले इंजीनियरों, ठेकेदारों, सलाहकारों और श्रमिकों को जाता है। उन्होंने ये भी बताया कि इस परियोजना को पूरा करने के लिए स्वतंत्र सलाहकारों की एक टीम सहित 720 श्रमिकों ने दिन-रात काम किया। नितिन गडकरी ने कहा कि इससे पहले, सबसे लंबे 25.275 किलोमीटर सड़क के लिए लगातार बिटुमिनस बिछाने का गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड था जिसे फरवरी 2019 में दोहा, कतर में हासिल किया गया था। इस कार्य को पूरा होने में 10 दिन लगे थे।

गडकरी ने मंत्रालय के वर्ल्ड रिकॉर्ड के बारे में जानकारी देते हुए कहा, ” देश के लिए हमें इसका अभिमान है कि हमारे विभाग ने वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाए हैं। इसके अलावा पहला वर्ल्ड रिकॉर्ड रोजाना 38 किलोमीटर रोड कंस्ट्रक्शन है। गडकरी ने कहा, “एक हफ्ते पहले हमने 50 किलोमीटर लेथ की सिंगल लेन सड़क को सिर्फ 100 घंटे में बनाया। यह रिकॉर्ड दिल्ली – बड़ोदरा ग्रीनफील्ड अलाइनमेंट Delhi – Vadodara Greenfield Alignment पर गुजरात के पंचमहल डिस्ट्रिक्ट Panchmahal District of Gujarat में हुआ। हमने बड़ोदरा के पास चार लेन की 2.5 किलोमीटर लंबी सिमेंट कंक्रीट रोड केवल 24 घंटे में बनाया। बाद में सोलापुर से बीजापुर के बीच Between Solapur to Bijapur एनएच 52 पर हमने 26 किलोमीटर सिंगल लेन रोड सिर्फ 21 घंटे में बनाया। गडकरी ने कहा कि काफी बड़े पैमाने पर कॉन्ट्रैक्टर के टेक्नोलॉजी में भी सुधार हो रहा है।

नितिन गडकरी के अनुसार भीड़ को कम करने और प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिए राष्ट्रीय राजधानी में 62,000 करोड़ रुपये की सड़क परियोजनाएं Road projects शुरू की गई हैं। उनकी अगुवाई में राजमार्गों के निर्माण के कई नए रिकॉर्ड बने। इसके अलावा वह सड़कों व गाड़ियों की सेफ्टी (Vehicle Safety) के साथ-साथ ग्रीन एनर्जी के इस्तेमाल पर जोर देते रहते हैं। 'पांडुरंग अबाजी राउत अमृत महोत्सव सत्कार' कार्यक्रम में अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि 18वीं सदी मुगलों की थी, 19वीं सदी अंग्रेजो की थी और 20वीं सदी में संयुक्त राज्य अमेरिका महाशक्ति था। अब अगर हम सब मिलकर काम करें तो 21वीं सदी भारत की होगी। साथ ही उन्होंने कहा कि हमारे संयुक्त प्रयास से भारत 'विश्वगुरु' और आर्थिक महाशक्ति Economic Superpower बन जाएगा।

Also Read : भारत सरकार के Content Management Framework को जानें और एक्सप्लोर करें

नितिन गडकरी का नाम एशिया बुक ऑफ रिकॉर्ड और इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज़

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी Union Minister Nitin Gadkari ने एक बार फिर साबित कर दिया कि वह बेहतर कार्यप्रणाली में सबसे आगे हैं। उन्होंने एक और इतिहास रच दिया है। नितिन गडकरी के ब्रेन चाइल्ड प्रोजेक्ट Brain Child Project नागपुर की वर्धा रोड National Highway on Nagpur Wardha Road पर नेशनल हाईवे पर एशिया का सबसे बड़ा 3.14 किलोमीटर लंबा डबल डेकर मेट्रो पुल और डबल डेकर पुल Double Decker Viaduct पर तीन मेट्रो स्टेशन बना कर एशिया बुक ॲाफ रिकॉर्ड और इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड Asia Book Of Records And India Book Of Records में महा मेट्रो Maha Metro का नाम दर्ज किया गया है।

इस बारे में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने ट्वीट किया कि एक और विश्व रिकॉर्ड! नागपुर में विश्व रिकॉर्ड हासिल करने पर टीम महा मेट्रो और टीम एनएचएआई Team NHAI को हार्दिक बधाई हो। आपको बता दें कि हाईवे फ्लाईओवर और मेट्रो रेल Highway Flyover and Metro Rail के साथ सबसे लंबे डबल डेकर पुल का निर्माण सिंगल कॉलम पियर्स पर आधारित है। उन्होंने कहा कि मैं उन अविश्वसनीय इंजीनियरों, अधिकारियों और श्रमिकों को दिल से धन्यवाद और सलाम करता हूं जिन्होंने इस दिन को पूरा करने के लिए दिन-रात मेहनत की है।

ट्वीट में नितिन गडकरी ने लिखा कि नागपुर में डबल डेकर पुल पर अधिकतम मेट्रो स्टेशनों का निर्माण हमारे लिए ऐतिहासिक बन गया है। जिससे एशिया बुक ऑफ रिकॉर्ड और इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में नाम दर्ज हो गया है और यह पूरे देश के लिए गर्व का क्षण है। 

गडकरी ने कहा, इलेक्‍ट्र‍िक व्‍हीकल माल‍िकों को सरकार की एक और सौगात

दरअसल इलेक्‍ट्र‍िक वाहनों को केंद्र सरकार बढ़ावा दे रही है और नया इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर पर जोर दे रही है। केंद्रीय मंत्री न‍ित‍िन गडकरी ने कहा क‍ि सरकार द‍िल्‍ली से मुंबई के बीच इलेक्‍ट्र‍िक हाइवे Electric Highway बनाने की तैयारी कर रही है। नितिन गडकरी देशवासियों को कोई न कोई अच्छी खबर देते रहते हैं। गुड़गांव में हाइड्रॉलिक ट्रेलर ओनर्स एसोसिएशन के एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि इलेक्ट्रिक राजमार्ग आमतौर पर ऐसी सड़क होती है जिस पर चलने वाले वाहनों को बिजली की आपूर्ति की जाती है। यह बिजली सड़क के ऊपर लगे तारों से वाहन तक पहुंचाई जाती है। साथ ही गडकरी ने कहा कि उनके मंत्रालय ने सभी जिलों को चार लेन वाली सड़कों से जोड़ने का फैसला लिया है। उन्होंने कहा कि सरकार 2.5 लाख करोड़ रुपये मूल्य की सुरंगों का भी निर्माण कर रही है। 

Related: शिव नादर के जन्मदिन पर जानिए उनकी सक्सेस स्टोरी

इलेक्ट्रॉनिक हाइवे या ग्रीन हाइवे Electronic Highway or Green Highway को खास तरीके से डिजाइन किया जाता है। इस तरह के हाइवे पर काफी हरियाली होने के साथ ही पर्यावरण के ल‍िए और भी कदम उठाए जाते हैं। इस राजमार्ग पर इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए खास लेन होगी, जहां केबल के जर‍िये वाहन चलेंगे। इस पर सरकार की तरफ से केबल से चलने वाली स्पेशल बस और ट्रेनें चलाई जाएंगी और ये बसें 120 किलोमीटर प्रत‍ि घंटा की रफ्तार से चलेंगी। इस हाइवे के दोनों तरफ बिजली की लाइनें ब‍िछी होती हैं। जिस पर भारी वाहन भी तेज रफ्तार में दौड़ सकेंगे। इस हाइवे को पेट्रोल-डीजल के व‍िकल्‍प के तौर पर देखा जा रहा है। सबसे बड़ी बात इससे प्रदूषण भी कम फैलेगा। 

इसके साथ ही केंद्रीय मंत्री न‍ित‍िन गडकरी ने सोहना-गुरुग्राम हाइवे Sohna-Gurugram Highway खोलकर जनता को एक और सौगात दे दी है और जनता उनकी तारीफ करते नहीं थक रही है। 22 क‍िमी लंबे इस हाइवे के खुलने के बाद गुरुग्राम के दक्षिणी छोर तक पहुंचने के लिए लोगों को सिग्नल फ्री रोड मिल गई है। 

इसी विषय से सम्बंधित लेटेस्ट न्यूज़ पढ़ने  के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें -

दिल्‍ली और मुंबई के बीच बनेगा इलेक्ट्रिक हाईवे- नितिन गडकरी

TWN Special