अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस-21 जून- 'मानवता के लिए योग' | International Yoga Day

911
21 Jun 2022
8 min read

Post Highlight

योग मन और शरीर की एकता का प्रतीक है। मनुष्य और प्रकृति के बीच सामंजस्य है योग। इसके साथ ही स्वास्थ्य के लिए एक समग्र दृष्टिकोण और कल्याण है योग। यानि योग जीवन शैली को बदलकर और नयी चेतना पैदा करके भलाई में मदद कर सकता है। अंतरराष्‍ट्रीय योग दिवस International Yoga Day 21 जून 2015 को पूरे विश्‍व में पहली बार मनाया गया था, जिसमें 35,985 लोगों और 84 देशों के प्रतिनिधियों ने दिल्‍ली के राजपथ पर योग के 21 आसन किए थे। तब से ही इस दिन को पूरी दुनिया में मनाया जा रहा है। शरीर की कई बीमारियों को ठीक करने के लिए, स्वस्थ और फिट रहने के लिए योग करना अत्यंत आवश्यक है। योग ध्यान करना सिखाता है और आपके शरीर और मन को एकाग्र करता है। साथ ही योग तन और मन को स्वस्थ रखने में मदद करता है। योग शरीर को मजबूत और लचीला बनाते हैं और शरीर में नयी ऊर्जा उत्पन्न होती है जो मन को स्थिर और शांत रखती है। 

Podcast

Continue Reading..

आज योग को हर किसी ने अपने दैनिक जीवन का अभिन्न अंग बना दिया है। लोगों के दिन की शुरुआत योग से ही शुरू होती है और हो भी क्यों न इसके फायदे हैं ही अनगिनत। आज योग का काफी बड़े स्तर पर प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। योग एक प्रवृत्ति है जो वर्षों से फल-फूल रही है, यहाँ तक कि यह शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य दोनों को बनाए रखने में एक पथ प्रदर्शक बन गया है। योग की प्रत्ये्क गतिविधि लचीलेपन, शक्ति, संतुलन में सुधार और सद्भाव  प्राप्त करने की कुंजी है। कोई भी आज योग के प्रभाव से अछूता नहीं है। योग की 5000 साल पुरानी गाथा ने स्वास्थ्य विज्ञान Health-science को मजबूत किया है। इसे जीवित और प्रगतिशील बनाए रखने के लिए हमारे योग गुरुओं Yoga Gurus ने असंख्य प्रयास किए हैं। योग की शक्ति Power of Yoga को हर किसी ने पहचान लिया है। योग को अपनाने और प्रतिदिन योगाभ्यास करने और आनंद देने में मदद करने के लिए योग पोर्टल Yoga Portal एक मंच बन गया है। योग संसाधनों, सामान्य योग (प्रोटोकॉल) प्रशिक्षण वीडियों और नवीनतम योग कार्यक्रमों में भाग लेने और उनकी खोज करने के लिए एक आदर्श प्रवेश द्वार है। योग गुरुओं ने लोगों के बीच योग Yoga को लोकप्रिय बनाया है और इसकी जादुई शक्ति को सीमाओं से परे प्रसारित किया है। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस International Yoga Day को मनाने का मकसद लोगों को इसके बारे में शिक्षित करना और इस बारे में लोगों को जागरूक करना है। चलिए आज इस आर्टिकल में इंटरनेशनल योगा डे International Yoga Day के बारे में विस्तार से जानते हैं। 

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस International Yoga Day की शुरुआत कब हुई?

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस International Yoga Day जिस नाम से आज हर कोई वाकिफ है। दरअसल 27 सितंबर 2014 को, संयुक्त राष्ट्र महासभा UN General Assembly में अपने भाषण के दौरान, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी Prime Minister Narendra Modi ने 'योग दिवस' के अवसर के लिए अपना सुझाव रखा था। भारत द्वारा प्रस्तावित मसौदा प्रस्ताव को तब रिकॉर्ड 177 सदस्य देशों ने समर्थन दिया था। उसके बाद 21 जून 2015 को दुनिया भर में पहला अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया था।

क्यों मनाया जाता है 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस (Yoga Divas)?

आज योग पूरे विश्व में फ़ैल चुका है। इसका कारण यह है कि योग ने लोगों को मानसिक और शारीरि‍क रूप से स्वस्थ रहना सिखाया है। आज इस योग की वजह से कई लोग अपना जीवन दोबारा से जी पा रहे हैं। यानि आज के इस समय में योग हम सबके लिए किसी वरदान से कम नहीं है। योग सिर्फ व्यायाम के बारे में नहीं है, बल्कि अपने आप को, दुनिया और प्रकृति के साथ एकता की भावना की खोज के लिए है। दरअसल भारतीय परंपरा के अनुसार ग्रीष्म संक्रांति के बाद सूर्य दक्षिणायन होता है और कहते हैं कि सूर्य दक्षिणायन का जो समय होता है वह आध्यात्मिक सिद्धियां spiritual accomplishments

 प्राप्त करने के लिए अच्छा समय होता है। यही कारण है कि 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है। साथ ही 21 जून, जिसे ग्रीष्म संक्रांति Summer Solstice

भी कहा जाता है, वर्ष का सबसे लंबा दिन longest day of the year भी होता है। इसकी वजह यह है कि इस दिन उत्तरी गोलार्ध पर सूरज की सबसे ज्यादा रोशनी पड़ती है और इस दिन सूरज जल्दी निकलता है और देरी से ढलता है। माना जाता है कि इस दिन सूरज से मिलने वाली ऊर्जा सबसे ज्यादा प्रभावी होती है जो प्रकृति की सकारात्मक ऊर्जा positive energy को बढ़ावा देती है। पीएम मोदी ने United Nations General Assembly UNGA में अपने भाषण के दौरान कहा भी कि "योग भारत की प्राचीन परंपरा का एक अमूल्य उपहार है”। 

योग क्या है ?

योग एक कला के साथ-साथ एक विज्ञान भी है। योग शरीर और मन को नियंत्रित करता है। योग से आत्मविश्वासबढ़ता है और  गहन ध्यान संभव है। यानि “योग” पूर्ण विज्ञान के समान है जो शरीर, मन, आत्मा और ब्रह्मांड को एकजुट बनाता है। दरअसल योग संस्कृत भाषा के ‘युज धातु’ से निकला है जिसका अर्थ होता है आत्मा का परमात्मा से मिलन। योग में वास्तव में बहुत शक्ति होती है । योग मुख्य रूप से एक आध्यात्मिक अनुशासन spiritual discipline है। योग ने शारीरिक व्यायाम Physical exercise के रूप में अपना एक अलग स्थान बनाया है। योग अभ्यास और प्राणायाम Exercises and Pranayama के द्वारा शरीर में ऊर्जा का प्रसार dissemination of energy in the body करता है। योग हमें यह सिखाता है कि कैसे हम सांस-नियंत्रण के द्वारा मन और इंद्रियों को नियंत्रित control the mind and senses कर सकते हैं। योग मन और शरीर के बेहतर नियंत्रण और कल्याण को बढ़ाता है। योग न सिर्फ शारीरिक स्वास्थ्य के लिए बल्कि मानसिक सेहत mental health के लिए भी अच्छा होता है। हांलाकि, योग करते समय योगाभ्यास से जुड़े नियमों का पालन करना जरूरी है।

 योग का इतिहास History of Yoga

“योग” शरीर, मन, आत्मा और ब्रह्मांड को एकजुट बनाता है। योग का इतिहास बहुत पुराना है और यह लगभग 5000 साल पुराना है। आज के समय में योग ने शारीरिक व्यायाम के एक रूप के रूप में अपनी एक अलग जगह बना दी है। योग को प्राचीन भारतीय दर्शन में मन और शरीर के अभ्यास के रूप में As a mind and body exercise जाना जाता है। योग अपनी मुद्राओं और आसनों Postures के लिए काफी प्रसिद्ध है। माना जाता है कि योग का प्रारम्भ हमारे देश भारत India में हुआ था। योग की विभिन्न शैलियाँ शारीरिक मुद्राएँ, साँस लेने की तकनीक और ध्यान या विश्राम को जोड़ती हैं। भारतीय ऋषि पतंजलि Rishi Patanjali द्वारा योग दर्शन पर लिखे गए 2,000 वर्ष पुराने “योग सूत्र” Yoga Sutras को मन और भावनाओं को नियंत्रित करने की एक कुंजी मानी जाती है। योग सूत्र, योग का सबसे पहला लिखित रिकॉर्ड Earliest written record of yoga है। आज योग पूरी दुनिया में लोकप्रिय हो चुका है। योगाभ्यास yoga practice में कई अलग-अलग प्रकार के योग और कई अनुशासन सम्मिलित हैं। योग के द्वारा श्वसन विधियों और मानसिक ध्यान Respiratory Methods and Mental Meditation का उपयोग करके आध्यात्मिक ऊर्जा का विस्तार करना है। पहले हृदय और आत्मा के बीच सामंजस्य स्थापित करने के लिए योग का विकास किया गया था। धीरे-धीरे कई बीमारियों का जैसे मधुमेह और उच्च रक्तचाप diabetes and high blood pressure जैसी कई बीमारियों का इलाज भी योग के द्वारा किया जाने लगा। इसके अलावा शारीरिक चोट और दर्द आदि में भी योग की मदद ली जाने लगी। फिर धीरे-धीरे योग भारत से बाहर अन्य देशों में भी बहुत तेजी से लोकप्रिय हो गया। 

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022 की थीम 

हर साल अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की एक थीम रखी जाती है। उसी तर्ज पर इस साल अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की थीम (International Yoga Day 2022 Theme) 'मानवता के लिए योग' (Yoga for Humanity) 'योगा फॉर ह्यूमैनिटी' रखी गई है। दरअसल इस थीम को कोरोना महामारी (COVID-19) के दौरान योग द्वारा निभाई गई भूमिका को दर्शाने के लिए चुना गया है। इस थीम पर ही दुनियाभर में योग दिवस मनाया जाएगा। क्योंकि भारत को योग गुरु कहा जाता है इसलिए आयुष मंत्रालय (Ministry of Ayush) ने 21 जून को पूरी दुनिया में आयोजित होने वाले योग दिवस के लिए ये खास थीम चुनी है। योग से जीवन पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है और प्रतिदिन योग करने से शारीरिक और मानसिक बीमारियां दूर रहती है। 

योग का महत्व Importance of Yoga

योग शरीर और मन की सभी विभिन्न प्रणालियों को संचालित करता है। 5वीं शताब्दी से ही भारत में प्रचलित, योग तन और मन को स्वस्थ रखने में लाभकारी रहा है। योग से शारीरिक और मानसिक ऊर्जा में वृद्धि Increase in physical and mental energy होती है। योग शरीर को मजबूत और लचीला बनाते हैं और स्वस्थ शरीर का विकास होता है। मन में आत्मविश्वास का संचार Instilling confidence in the mind होता है। बढ़ते तनाव को कम करने और लाइफस्टाइल से पैदा होने वाली समस्याओं को योग से दूर किया जा सकता है। योग का अभ्यास करने से एक बेहतर ऊर्जा के साथ-साथ अंगों की शुद्धि को नियंत्रित किया जा सकता है। शारीरिक अभ्यासों के माध्यम से शरीर में जो ऊर्जा उत्पन्न होती है, उसको मन में स्थिरता, शांति और ध्यान में लगाया जाता है। योग करने से बच्चे-बड़े, महिला-पुरुष, सबको फायदा होता है। योग का नियमित अभ्यास शरीर को रोगमुक्त बनाता है। योग से स्ट्रेस भी दूर होता है। रक्त संचार और पाचन बेहतर होता है। 

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का उद्देश्य क्या है?

UNGA ने आधिकारिक तौर पर 21 जून को 'अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस' के रूप में घोषित किया था। तब से ही इस दिन को पूरी दुनिया में मनाया जा रहा है। इस दिन को मनाने का मुख्य उद्देश्य लोगों को योग के फायदे बताना, योग के बारे में लोगों को जागरूक करके लोगों को योग को अपनाने के लिए प्रेरित करना है। इसके अलावा योग को अपने दैनिक जीवन में शामिल करने के लिए लोगों को प्रोत्साहित करना है जिससे योग के द्वारा लोग अपने दैनिक जीवनमें बदलाव ला सकें और स्वस्थ और सुखी जीवन जी सकें। 

इसे भी पढ़े: आत्मविश्वास समाज में बढ़ाये मान

कोविड-19 के समय अच्छे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के दिशा-निर्देश

ये तो हम सब जानते हैं कि कोविड-19 की महामारी covid-19 pandemic ने लोगों में तनाव और चिंता को बढ़ा दिया था और लोग इस महामारी से बुरी तरह प्रभावित हुए थे। रोग और आईसोलेशन ने लोगों के शारीरि‍क और मानसिक स्वास्थ्य पर बहुत बुरा प्रभाव डाला है। यानि लोग मनोवैज्ञानिक या भावनात्मक रूप से भी परेशान रहने लगे। हर किसी को अपने परिवार की चिंता सताने लगी। क्योंकि यह महामारी हर किसी को चपेट में ले रही थी। उस वक्त योग ने लोगों की काफी सहायता की और अधिकतर लोग योग के द्वारा अपने आपको और परिवार को स्वस्थ रखने में कामयाब हुए। इस भयानक परेशानी को ध्यान में रखकर आयुष मंत्रालय ने भी शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए दिशा-निर्देश तैयार किए थे जिससे लोग इस महामारी से उबरने में सफल हुए।

योग के फायदे Benefits of yoga

योग करने के अनेक फायदे हैं जो निम्न हैं -

  • आपके रक्त के प्रवाह को बढ़ाता है

  • ह्रदय गति को सही रखता है

  • योग आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है 

  • रीढ़ की हड्डी को मजबूती देता है 

  • आपके दिल और दिमाग को शांत रखता है 

  • मांसपेशियों की ताकत को बढ़ाने में मदद करता है

  • उपास्थि और जोड़ों को टूटने से बचाता है

  • आपके चेहरे पर एक चमक बनी रहती है 

  • आपके हड्डियों को मजबूत करता है

  • योग से आपके शरीर में लचीलापन बना रहता है

  • योग आपके आत्म-सम्मान में वृद्धि करता है 

  • आपको ध्यान केंद्रित करने में आसानी होती है

  • सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है 

  • तनाव से आपको दूर रखता है 

  • ब्लड प्रेशर को सही रखता है

  • योग आपको खुश रखता है

  • आपको अंदरूनी शक्ति देता है

  • एक जीवन शैली को स्वस्थ बनाता है 

  • ब्लड शुगर कम करता है

  • आपके पाचन सिस्टम को सही रखता है

  • आपके तंत्रिका तंत्र को बनाए रखता है

  • आपके अंगों में तनाव को दूर करता है

  • योग से आपको अच्छी नींद आती है

  • आपके संतुलन को बेहतर बनाता है

  • आपको मन की शांति देता है

  • योग आपके दर्द को कम करता है

इसे भी पढ़े: विद्यार्थियों के लिए योग के अद्भुत लाभ

इस बार की खास बातें 

इस साल 21 जून दिन मंगलवार को 8वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाएगा। योग दिवस के दिन दुनियाभर के लोग इकट्ठा होकर जगह-जगह योग दिवस मनाते हैं। योग शरीर और मस्तिष्क के लिए फायदेमंद yoga is beneficial for body and mind होता है। योग के महत्व को समझते हुए दुनियाभर को जागरूक करने के लिए अंतरराष्ट्रीय योग दिवस को मनाने की शुरुआत हुई। इस बार ‘गार्जियन रिंग’ (Guardian Ring) को आकर्षण का केंद्र बनाया जाएगा। माना जा रहा है कि यह योग का एक स्ट्रीमिंग प्रोग्राम होगा। इसके द्वारा भारतीय मिशनों द्वारा विदेशों में आयोजित आईडीवाई कार्यक्रमों की डिजिटल फीड को एक साथ कैप्चर किया जाएगा। दरअसल इसकी शुरुआत सबसे पहले जहां से सूरज उगता है उस देश से होगी। जापान Japan को उगते सूरज का देश कहा जाता है। मतलब जापान से इसकी शुरुआत होगी। सुबह 6 बजे योग दिवस को मनाने की शुरुआत होगी और फिर धीरे-धीरे ये कार्यक्रम आगे बढ़ता चला जाएगा। आधुनिक योग व्यायाम, शक्ति, लचीलापन और श्वास पर ध्यान देने के साथ विकसित हुआ है। साथ ही यह शारीरिक और मानसिक कल्याण को बढ़ाने में मदद करता है। शरीर को निरोगी रखने के लिए योग करना जरूरी है। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के दिन लोगों में योग के प्रति जागरूकता फैलाना ही अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का मुख्य मकसद है। नियमित योगाभ्यास से कई तरह की बीमारियों से दूर रह सकते हैं। 

TWN In-Focus