आजादी का अमृत महोत्सव- प्रगतिशील भारत की आजादी के 75 साल

5829
23 Jul 2022
6 min read

Post Highlight

आजादी का अमृत महोत्सव’ ‘Azadi Ka Amrit Mahotsav’ प्रगतिशील भारत की आजादी के 75 साल और इसके लोगों, संस्कृति और उपलब्धियों के गौरवशाली इतिहास को मनाने और मनाने के लिए भारत सरकार की एक पहल है। आज़ादी का अमृत महोत्सव” की आधिकारिक यात्रा 12 मार्च, 2021 को शुरू हुई थी। माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी Prime Minister Shri Narendra Modi जी ने 12 मार्च, 2021 को अहमदाबाद के साबरमती आश्रम में इस आजादी का अमृत महोत्सव का उद्घाटन किया था। देश की 75वीं वर्षगांठ का मतलब 75 वर्ष पर विचार, 75 वर्ष की उपलब्धियां, 75 वर्ष में एक्शन और 75 वर्ष पर संकल्प शामिल हैं, जो स्वतंत्र भारत Independent India के सपनों को साकार करने के लिए आगे बढ़ने की प्रेरणा प्रदान करते हैं। यह आज़ादी का अमृत महोत्सव 15 अगस्त, 2022 को देश की आजादी की 75वीं वर्षगांठ 75th Anniversary of Independence से 75 सप्ताह पहले शुरू किया गया था। आजादी का अमृत महोत्सव भारत की सामाजिक-सांस्कृतिक, राजनीतिक और आर्थिक पहचान के बारे में प्रगतिशील है। बाकी आजादी के अमृत महोत्सव के बारे में विस्तृत जानकारी के किये इस लेख के साथ बने रहिये। 

#AzadiKaAmritMahotsav
#IndependentIndia
#75thAnniversaryofIndependence
#FatherOfTheNation 
#Mahatma Gandhi
#Dandi March

#ShriNarendraModi
#HarGharTirangaCampaign

#SelfiesWithTricolour

Podcast

Continue Reading..

आजकल आजादी का अमृत महोत्सव ‘Azadi Ka Amrit Mahotsav’ काफी चर्चित विषय है। दरअसल देश की स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूर्ण होने पर राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी Father of the Nation Mahatma Gandhi जी की दांडी यात्रा की वर्षगांठ Dandi Yatra anniversary of Father of the Nation Mahatma Gandhi के अवसर पर 12 मार्च 2021 को देश के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी Prime Minister Shri Narendra Modi जी ने साबरमती आश्रम से पदयात्रा को हरी झंडी दिखाकर आजादी के अमृत महोत्सव का श्रीगणेश किया था। यानि इस आजादी की 75वीं वर्षगाँठ को मनाने के लिए पहले ही 2021 में आजादी का अमृत महोत्सव का आगाज हुआ था। इस 15 अगस्त, 2022 को देश आजादी की 75वीं वर्षगाँठ मनायेगा। जिसमें देश की अदम्य भावना के उत्सव व सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। चलिए विस्तार से जानते हैं कि क्या है आज़ादी का अमृत महोत्सव और इस महोत्सव पर क्या-क्या कार्यक्रम किये जायेंगे। 

आजादी के अमृत महोत्सव का क्या अर्थ है What is the meaning of Azadi Ka Amrit Mahotsav?

दरअसल आजादी का अमृत महोत्सव’ प्रगतिशील भारत की आजादी के 75 साल पूरे होने का उत्सव Celebration of 75 years of independence of Progressive India और इसके लोगों, संस्कृति और उपलब्धियों के गौरवशाली इतिहास को मनाने के लिए भारत सरकार की एक पहल है। क्योंकि आजादी एक दिन में नहीं मिली, शताब्दियां लग गयीं, इन बातों को भी लोग समझ पाएं यह बहुत जरुरी है। आज़ादी का अमृत महोत्सव की आधिकारिक यात्रा 12 मार्च, 2021 को शुरू हुई थी। प्रधानमंत्री जी ने 12 मार्च, 2021 को अहमदाबाद के साबरमती आश्रम में इस आजादी का अमृत महोत्सव का उद्घाटन किया था। देश की 75वीं वर्षगांठ का मतलब 75 वर्ष पर विचार, 75 वर्ष की उपलब्धियां, 75 वर्ष में एक्शन और 75 वर्ष पर संकल्प शामिल हैं, जो स्वतंत्र भारत के सपनों को साकार करने के लिए आगे बढ़ने की प्रेरणा प्रदान करते हैं। यह आज़ादी का अमृत महोत्सव 15 अगस्त, 2022 को देश की आजादी की 75वीं वर्षगांठ से 75 सप्ताह पहले शुरू किया गया था। आजादी का अमृत महोत्सव भारत की सामाजिक-सांस्कृतिक, राजनीतिक और आर्थिक पहचान Socio-Cultural, Political and Economic Identity of India के बारे में प्रगतिशील है। यह महोत्सव भारत के लोगों को समर्पित है, जो आत्मनिर्भर की भावना से प्रेरित हैं और जिन्होंने भारत की अपनी विकासवादी यात्रा को आगे ले जाने में सहयोग दिया है। आजादी का अमृत महोत्सव की यह यात्रा 15 अगस्त, 2023 को एक वर्ष के बाद समाप्त होगी। यानि यह समारोह स्वतंत्रता की हमारी 75वीं वर्षगांठ से 75 सप्ताह पहले शुरू हुआ और 15 अगस्त, 2023 को समाप्त होगा।

कुल मिलाकर आजादी का अमृत महोत्सव भारत की आजादी के 75 साल पूरे होने का एक अखिल भारतीय उत्सव है। यह अभियान देश भर में सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आयोजन organizing cultural events के माध्यम से प्रकट किया जा रहा है, प्रत्येक आयोजन आजादी का अमृत महोत्सव के उद्देश्य से किया जा रहा है - "संपूर्ण सरकार" दृष्टिकोण का पालन करते हुए अधिकतम "जन भागीदारी" Public Participation (भारत के नागरिकों की भागीदारी) सुनिश्चित करने के लिए भारत के सभी मंत्रालयों, राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों का रोल अहम है। 

अमृत महोत्सव दांडी मार्च की 91वीं वर्षगांठ पर क्यों शुरू किया 

ये तो आप सब जानते हैं कि दांडी मार्च Dandi March को नमक सत्याग्रह Salt Satyagraha के तौर पर भी जाना जाता है। 1930 में अंग्रेजी शासन में भारतीयों को नमक बनाने का अधिकार नहीं था। भारतीयों को इंग्लैंड से आने वाला नमक का ही इस्तेमाल करना पड़ता था और इसके अलावा अंग्रेजों ने इस नमक पर कई गुना कर लगा दिया था। नमक जीवन के लिए बहुत जरुरी है इसलिए इस कर को हटाने के लिए महात्मा गांधी ने यह सत्याग्रह चलाया था। नमक भारत की आत्मनिर्भरता का एक प्रतीक था। अंग्रेजों ने भारतीयों की इस आत्मनिर्भरता पर चोट पहुंचायी। फिर महात्मा गांधी ने देशवासियों के दर्द को महसूस किया और नमक सत्याग्रह शुरू किया। तब वह आंदोलन जन-जन का आंदोलन बन गया था। 12 मार्च 1930 को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने नमक सत्याग्रह की शुरुआत की थी। इसलिए इस दिन इस कार्यक्रम की शुरुआत की गयी जिससे आत्मनिर्भर भारत का सपना पूरा हो सके और भारत अपना परचम पूरे विश्व में लहराये साथ ही भारत के विकास से दुनिया के विकास को भी प्रोत्साहन मिले। 

देश की 75वीं वर्षगांठ का मतलब

देश की 75 वीं वर्षगांठ का मतलब 75 साल पर विचार, 75 साल पर उपलब्धियां, 75 पर एक्शन और 75 पर संकल्प शामिल हैं, जो स्वतंत्र भारत के सपनों को साकार करने के लिए संपूर्ण देशवासियों को आगे बढ़ने की प्रेरणा देंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आजादी के अमृत महोत्सव आजादी की ऊर्जा का अमृत elixir of freedom है। यानी स्वतंत्रता सेनानियों की स्वाधीनता का अमृत elixir of liberty और नए विचारों का अमृत है आजादी का अमृत महोत्सव। साथ ही नए संकल्पों का अमृत और आत्मनिर्भरता का अमृत है यह महोत्सव।

Also Read : “जन समर्थ पोर्टल”- सरकारी योजनाओं का वन-स्टॉप डिजिटल प्लेटफॉर्म

स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग द्वारा होने वाली गतिविधियाँ Activities planned by School Education & Literacy

उच्च शिक्षा विभाग और स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग ने 'आज़ादी का अमृत' के तहत विभिन्न गतिविधियों की योजना बनाई है-

  • आजादी का अमृत महोत्सव पर फोकस करेगी स्कूल असेंबली

  • आजादी के बाद से शिक्षकों की उभरती भूमिका पर केंद्रित शिक्षक पर्व का होगा आयोजन

  • आजादी का अमृत महोत्सव के लोगो के साथ विशेष स्कूल बैज

  • अंतर्राष्ट्रीय वेबिनार International Webinar

  • प्रवीणता और समझ और संख्यात्मकता और साक्षरता के लिए राष्ट्रीय पहल पांच वर्षों में मूलभूत साक्षरता और संख्यात्मकता प्राप्त करने के लिए राष्ट्रीय मिशन है।

  • हर स्कूल में निबंध प्रतियोगिताएं/सेमिनार/साइकिल रैलियां Essay Competitions / Seminars /Cycle Rallies in every Schools

  • विद्यांजलि पोर्टल का शुभारंभ - स्वयंसेवकों/पूर्व छात्रों/समुदाय/संगठनों आदि को स्कूलों से जोड़ें

  • MyGov प्लेटफॉर्म पर बच्चों के लिए "स्वतंत्रता के लिए भारत के संघर्ष में युग्मित राज्य का योगदान" पर एक दिलचस्प योग प्रश्नोत्तरी, एक भारत श्रेष्ठ भारत कहानी लेखन प्रतियोगिता का शुभारंभ

  • माध्यमिक विद्यालय के शिक्षकों और मूलभूत स्तरों पर शिक्षकों के लिए NISHTHA मॉड्यूल का शुभारंभ

  • स्कूल पोषण उद्यान - छात्रों को बागवानी और कृषि अवधारणाओं और कौशल को पढ़ाना जो गणित, विज्ञान, कला, स्वास्थ्य और शारीरिक शिक्षा, और सामाजिक अध्ययन के साथ-साथ व्यक्तिगत और सामाजिक जिम्मेदारी सहित कई शैक्षिक लक्ष्यों के साथ एकीकृत होते हैं।

  • सीबीएसई में वैकल्पिक वनटाइम इम्प्रूवमेंट परीक्षा Introduction of optional one-time improvement exams in CBSE

  • स्कूल सोशल मीडिया पर आज़ादी का अमृत महोत्सव और इस अवसर पर कला/शिल्प, संगीत, नृत्य आदि के कार्य करते हैं।

  • एक भारत श्रेष्ठ भारत के तहत युग्मित राज्यों के देशभक्ति गीतों पर केन्द्रीय विद्यालयों और नवोदय विद्यालयों द्वारा ऑनलाइन संगीत प्रतियोगिता

  • टॉय आधारित शिक्षा और शिक्षाशास्त्र पर अंतर्राष्ट्रीय वेबिनार International Webinar on Toy-based learning and pedagogy

  • भारत की आजादी पर वेबिनार Webinar on India’s freedom

उच्च शिक्षा विभाग द्वारा नियोजित गतिविधियाँ

  • युवा योजना मेंटरिंग

  • भारतीय ऐतिहासिक अनुसंधान परिषद

    1. प्रकाशनों

    2. राष्ट्रीय संगोष्ठी

    3. अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी

    4. क्षेत्रीय सेमिनार

    5. विशेष व्याख्यान श्रृंखला

  • भारतीय दार्शनिक अनुसंधान परिषद

    1. अनुसंधान परियोजनायें

    2. तीन खंडों में 75 लेख 15 अगस्त 2022 तक पूरे किए जाएंगे

    3. व्याख्यान / क्षेत्रीय सेमिनार / वेबिनार

  • भारतीय सामाजिक विज्ञान अनुसंधान परिषद

    1. संगोष्ठी/व्याख्यान

    2. अनुसंधान अध्ययन

    3. इम्प्रेस योजना के तहत सेमिनार

    4. इम्प्रेस योजना के तहत परियोजनाएं

    5. प्रकाशन

    6. कहानी सुनाना, साहित्य निर्माण और गुमनाम नायकों के योगदान को संग्रहित करना

    7. क्रियाएँ@75 Actions@75

    8. उपलब्धियां @ 75 (कार्यशाला) Achievements @75 (workshop)

    9. समाधान@75 Resolve@75

    10. स्वतंत्रता संग्राम पर शोध अध्ययन Research study on freedom struggle

    11. विचार@75 Ideas@75

  • यूजीसी

    1. वेबिनार, सांस्कृतिक कार्यक्रम, कार्यशालाएं आदि।

  • आईआईएएस शिमला

    1. सेमिनार

आजादी का अमृत महोत्सव के मुख्य कार्यक्रम Main Events of Azadi Ka Amrit Mahotsav

आजादी का अमृत महोत्सव के इवेंट्स निम्नलिखित हैं-

  • मंत्रालय और विभाग Ministries & Departments - भारत के केंद्रीय मंत्रालयों द्वारा आयोजित कार्यक्रम

  • राज्य और केंद्र शासित प्रदेश States & UTs- राज्य और केंद्र शासित प्रदेश स्तर के मंत्रालयों, विभागों और एजेंसियों द्वारा आयोजित कार्यक्रम

  • देश Countries- अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आयोजित कार्यक्रम

  • आइकॉनिक कार्यक्रम Iconic Events - अपेक्षाकृत बड़े पैमाने पर आयोजित आजादी का अमृत महोत्सव के कार्यक्रम

  • थीम-वार कार्यक्रम Theme-wise Events- आजादी का अमृत महोत्सव के पांच विषयों के अनुसार उपलब्ध सभी कार्यक्रम - स्वतंत्रता संग्राम Freedom Struggle, विचार @ 75 Ideas@75, कार्य @ 75 Actions@75, उपलब्धियां @ 75 Achievements@75, संकल्प @ 75 Resolve@75

आजादी के अमृत महोत्सव से चरखे से वोकल फॉर लोकल को बढ़ावा Vocal for Local 

मोदी सरकार का कहना है कि आजादी के अमृत महोत्सव आयोजन के द्वारा लोकल फॉर वोकल को बढ़ावा दिया जा रहा है। इसके लिए साबरमती आश्रम के पास मगन निकास है वहां एक चरखा रखा गया है और ये चरखा सामान्य चरखा नही है जब भी कोई व्यक्ति लोकल व्यापारी और कंपनी का माल खरीदेगा और उसकी तस्वीर को सोशल मीडिया पर लोकल फॉर वोकल का टैग लगाकर सोशल मीडिया पर डालेगा उसके तुरंत बाद आत्मनिर्भरता से संबंधित प्रत्येक ट्वीट के साथ यह चरखा एक बार घूमेगा।

आजादी का अमृत महोत्सव की थीम Theme of Azadi Ka Amrit Mahotsav

आजादी का अमृत महोत्सव के पांच विषय Themes हैं-

1. स्वतंत्रता संग्राम Freedom Struggle - यह विषय उन गुमनाम नायकों की कहानियों को याद दिलाने मेंमदद करेगा जिनके बलिदान ने हमें स्वतंत्रता दिलायी। इस विषय के तहत कार्यक्रमों में बिरसा मुंडा जयंती, नेताजी द्वारा स्वतंत्र भारत की अनंतिम सरकार की घोषणा, शहीद दिवस Birsa Munda Jayanti, Declaration of Provisional Government of Free India by Netaji, Shaheed Diwas आदि शामिल हैं।

2. Ideas@75 -यह विषय उन विचारों और आदर्शों से प्रेरित कार्यक्रमों और घटनाओं पर केंद्रित है, जिन्होंने देश को आकार देने में मदद की और अमृत काल की इस अवधि (स्वतंत्रता दिवस की 75 वीं वर्षगांठ और 100 वीं वर्षगांठ के बीच 25 वर्ष) के द्वारा पूरे देशवासियों का मार्गदर्शन करेगी। 

3. Resolve@75- यह विषय मुख्य रूप से हमारी मातृभूमि और देश को सही आकार और सही दिशा में ले जाने के हमारे सामूहिक संकल्प और दृढ़ संकल्प पर आधारित है। 

4. Actions@75- यह विषय उन सभी प्रयासों पर केंद्रित है जो भारत को कोविड के बाद से उभरने में फिर से वापस पटरी पर आने में और नई विश्व व्यवस्था में अपना सही स्थान लेने में मदद करने के लिए किए जा रहे हैं।

5. उपलब्धियां@75 Achievements@75- यह विषय 5000+ साल के प्राचीन इतिहास की विरासत के साथ 75 साल पुराने स्वतंत्र देश के रूप में हमारी सामूहिक उपलब्धियों को दर्शाता है। 

अन्य कार्यक्रम Activities India@75

आजादी का अमृत महोत्सव के आसपास कई गतिविधियां, प्रतियोगिताएं और अभियान आयोजित किए जा रहे हैं। उनमें से कुछ हैं:

  • नव भारत उद्यान में प्रतिष्ठित संरचना के लिए डिजाइन प्रतियोगिता

  • स्वच्छता फ़िल्मों का अमृत महोत्सव Swachhata Filmon ka Amrit Mahotsav

  • एक राष्ट्र एक राशन कार्ड योजना के लिए लोगो डिजाइन प्रतियोगिता Logo Design Contest for One Nation One Ration Card Plan

  • आजादी का अमृत महोत्सव विषय पर ऑनलाइन रचनात्मक लेखन प्रतियोगिता

  • अपने पसंदीदा स्वतंत्रता नायक को ड्रा करें Draw Your Favourite Freedom Hero

  • भारत की स्वतंत्रता के 75वें वर्ष का जश्न मनाने के लिए लोगो डिजाइन प्रतियोगिता

  • एक राष्ट्र एक राशन कार्ड योजना पर प्रश्नोत्तरी Quiz on One Nation One Ration Card Plan

हर घर तिरंगा अभियान Har Ghar Tiranga campaign

देश आजादी के 75 वर्ष पूरे कर रहा है और इस अवसर को मनाने के लिए अमृत महोत्सव के अवसर पर "हर घर तिरंगा अभियान" की घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा की गयी है। प्रधानमंत्री जी ने ट्वीट के जरिये Har Ghar Tiranga campaign के तहत इस अपील को जनता तक पहुँचाया है। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने देश के सभी नागरिकों को आज़ादी का जश्न मनाने के लिए ‘हर घर तिरंगा’ अभियान में शामिल होने का आग्रह किया है। ये पल भारत के सभी नागरिकों के लिए बेहद महत्व रखता है और देश के लिए ये पल एक गर्व का पल होगा। हर घर तिरंगा अभियान से देश के नागरिकों में देशभक्ति व तिरंगे के प्रति सम्मान बढ़ेगा। सरकार के मुताबिक इस अभियान के साथ नागरिकों का तिरंगे के साथ रिश्ता और गहरा होगा और नागरिकों में देशभक्ति की भावना इससे और प्रबल होगी। 

भारत सरकार ने देश के नागरिकों को इस ख़ास पल पर 13 अगस्त से 15 अगस्त 2022 तक राष्ट्रीय ध्वज (National Flag) फहराने को कहा है। उनका मकसद है कि हर घर तिरंगे में शामिल होना चाहिए। इसका पंजीकरण 22 जुलाई 2022 से शुरू हो चुका है और पंजीकरण पूरा करने की अंतिम तिथि 05 अगस्त 2022 है। रजिस्ट्रेशन प्रोसेस और सर्टिफिकेट डाउनलोड के लिए आपको सबसे पहले ऑफिसियल वेबसाइट www.rashtragaan.in पर जाना है। इस अभियान में भाग लेने के लिए सभी देशवासियों से विनती है कि सभी लोग www.rashtragaan.in पर जाकर हर घर तिरंगा प्रमाण पत्र डाउनलोड करें। 

इस अभियान के तहत जनभागीदारी के साथ 13 से 15 अगस्त के बीच 20 करोड़ से भी अधिक लोग अपने घरों में झंडे फहराएंगे। इसी के मद्देनजर फ्लैग कोड यानी ध्वज संहिता में बदलाव किया गया है। इस बदलाव के बाद अब दिन और रात, दोनों समय तिरंगा फहराया जा सकता है। पहले सूर्योदय से सूर्यास्त तक ही तिरंगा फहराया जा सकता था। अब आप 24 घंटे घर पर तिरंगा फहरा सकेंगे। तिरंगों की बिक्री के लिए 1 अगस्त से 1.60 लाख पोस्ट ऑफिस पर राष्ट्रीय ध्वज की बिक्री की जाएगी। तिरंगा कहीं से भी खरीदा जा सकता है। तिरंगे की खरीद और बिक्री पर किसी तरह की रोक नहीं है। तिरंगे को ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं। तिरंगे पर कोई जीएसटी भी नहीं लगता है। 

इन दिनों में बहुत सारी प्रतियोगिताएं और कार्यक्रम किये जाएंगे। जिसमें प्रतिभाग करने वाले सफल विजेताओं को राष्ट्रीय व राज्य स्तरीय स्तर पर पुरुस्कार, ट्राफियां व आकर्षक उपहार भी दिए जाएंगे। तिरंगे झंडे को फहराने के लिए ध्वज संहिता बनायी गयी है। 'आजादी का अमृत महोत्सव' के तहत अब किसी भी समय आप अपने घर में तिरंगा फहरा सकते हैं। इस वर्ष यदि संभव हो तो 13 अगस्त 2022 से लेकर 15 अगस्त तक अपने घरों में झंडे अवश्य फहराएं।

सेल्फी विद तिरंगा Selfies with the Tricolour

मोदी सरकार ने इस वर्ष लोगों से अपने घर पर तिरंगा फहराने की अपील की है। इसे और प्रोत्साहित करने के लिए भारत सरकार ने वेबसाइट शुरू कर दी है। वेबसाइट पर लोग अपनी 'सेल्फी विद तिरंगा' अपलोड करने के साथ ही अपनी लोकेशन पिन डालकर अभियान में सहभागिता का सर्टिफिकेट हासिल कर सकेंगे। वेबसाइट https://harghartiranga.com के बारे में लोगों को जागरूक किया जा रहा है।

केंद्र सरकार के 'हर घर तिरंगा' अभियान में देशवासियों की सहभागिता को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय Ministry of Culture ने एक वेबसाइट www.harghartiranga.com हर घर तिरंगा डॉट काम बनाई है। जिसके माध्यम से लोगों को झंडा लगाने और झंडे के साथ एक सेल्फी अपलोड करने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। फोटो सोशल मीडिया पर डालते समय #harghartiranga हैश टैग का प्रयोग करना होगा। जगह-जगह तिरंगे के साथ सेल्फी के लिए स्टैंड बनाए गए हैं। राज्य संग्रहालय और लोक संग्रहालय में सेल्फी विद तिरंगा के लिए सेल्फी स्टैंड लगा दिए गए हैं। 

संस्कृति विभाग की ओर से हर घर तिरंगा नारा एवं स्लोगन लेखन प्रतियोगिता के प्रति भी लोगों में उत्साह है। संस्कृति विभाग द्वारा आयोजित प्रतियोगिता हर घर तिरंगा स्वरचित, सरल, प्रभावी एवं राष्ट्रप्रेम की भावना से प्रेरित स्लोगन लेखन पर आधारित है। इसमें इनाम की घोषणा की गयी है। इसके अंतर्गत प्रतियोगिता में प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले विजेताओं को क्रमश: पांच हजार रुपये, तीन हजार रुपये और दो हजार रुपये दिए जायेंगे। पांच प्रतियोगियों को एक हजार रुपये की राशि के सांत्वना पुरस्कार भी प्रदान किए जाएंगे। प्रतिभागी को नारा लिखकर संस्कृति विभाग की ई मेल harghartirangaup@gmail.com पर एक अगस्त तक भेजना होगा।

TWN Special