आजादी के अमृत महोत्सव पर दिखी तिरंगे की विकास यात्रा, 75 रुपये का डाक टिकट हुआ जारी

3726
10 Aug 2022
8 min read

News Synopsis

आजादी के अमृत महोत्सव Azadi Ka Amrit Mahotsav के मौके पर डाक विभाग Postal Department ने राष्ट्रीय ध्वज की विकास यात्रा National Flag Development Tour डाक टिकट पर दिखाई है। इस स्मारक डाक टिकट का मूल्य 75 रुपये रखा गया है। सभी प्रधान डाकघरों में इसे उपलब्ध करा दिया गया है। इस पर 1905 से लेकर तिरंगा अपनाने तक छह बार बदलाव हुआ है। इस डाक टिकट पर 6 तस्वीरें छापी गई हैं। इसके पहले फोटो में झंडे पर बांग्ला भाषा में वंदे मातरम Vande Mataram लिखा हुआ है। झंडे के बीच में हिंदू देवता इंद्र के शस्त्र बज्र की आकृति को दिखाया गया है। इस भारतीय झंडे को पहली बार साल 1905 में अपनाया गया था। इस झंडे को स्वामी विवेकानंद की शिष्या और सिस्टर निवेदिता Swami Vivekananda's disciple and Sister Nivedita ने डिजाइन किया था। 

दूसरे नंबर पर प्रदर्शित तिरंगा में तीन पट्टी बनाई गई है। इसमें ऊपर में हरे रंग की पट्टी पर आधे खुले हुए आठ कमल के पुष्प अंकित हैं। मध्य में पीले रंग के पट्टी पर देवनागरी लिपि में वंदे मातरम लिखा गया है। नीचे लाल रंग की पट्टी पर बांयें भाग में सूर्य व दांयें भाग में अर्धचंद्र अंकित है। इसे 1906 में अपनाया गया था। तीसरे चित्र में तिरंगा के शीर्ष में हरे रंग के भाग पर आठ कमल पुष्प का चित्र है। मध्य में केसरिया रंग भाग में देवनागरी लिपि में वंदे मातरम लिखा गया है। नीचे में लाल रंग है। इस पर सूर्य व अर्धचंद्र है। इस तिरंगा को 1907 में मैडम भीकाजी कामा, वीर सावरकर व श्यामजी कृष्ण वर्मा Madam Bhikaji Cama, Veer Savarkar and Shyamji Krishna Verma ने डिजाइन किया था। 

चौथे वाले तस्वीर में तीन पट्टियां बनायी गयी हैं। तीनों पट्टियों के भाग में श्वेत एक विशाल चरखा अंकित है। ऊपर में सफेद रंग, बीच में हरा रंग व नीचे में लाल रंग है। इस राष्ट्रीय तिरंगा को 1921 में महात्मा गांधी के अनुरोध पर आंध्र प्रदेश के एक छोटे से गांव के युवक पिंगली वेंकैया Pingali Venkaiah ने डिजाइन किया था। पांचवीं तस्वीर में तिरंगा के शीर्ष पर केसरिया रंग, मध्य में सफेद रंग की पट्टी पर गहरे नीले रंग का चरखा अंकित है। नीचे में हरा रंग दिखाया गया है। छठे तस्वीर में राष्ट्रीय ध्वज के वर्तमान स्वरूप को वृत में प्रदर्शित किया गया है। इस वृत में हिंदी व अंग्रेजी दोनों भाषा में भारत का राष्ट्रीय ध्वज लिखा हुआ है। बीच वाले भाग से चरखा को हटाकर अशोक चक्र Ashok Chakra अंकित किया गया।

Podcast

TWN Ideas