RBI: दुनिया के मुकाबले भारत में घट रही महंगाई- आरबीआई गवर्नर

302
08 Dec 2022
min read

News Synopsis

Reserve Bank of India: देश में महंगाई Inflation के बीच कीमतों में तेज बढ़ोतरी पर काबू पाने के लिए रेपो दर Repo Rate में लगातार इजाफा किया जा रहा है। इसी बीच रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया Reserve Bank of India (आरबीआई) गवर्नर शक्तिकांत दास  Shaktikanta Das ने अपने बयान में कहा है कि महंगाई का खराब दौर पीछे गुजर चुका है। लेकिन, अब भी इस मोर्चे पर ढिलाई बरतने की कोई गुंजाइश नहीं है। उन्होंने आगे कहा है कि, कमोडिटी और कच्चे तेल की कीमतों Commodity and Crude Oil Prices में नरमी से दुनिया के मुकाबले भारत में महंगाई Inflation in India कम हो रही है। फिर भी, हमें अत्यधिक सतर्क रहने की जरूरत है। वहीं उन्होंने आगे कहा कि अगर जरूरी हुई तो हमें इसमें कार्रवाई भी करनी होगी।

इसलिए मैं कहता हूं कि महंगाई के खिलाफ लड़ाई अभी खत्म नहीं हुई है और आत्मसंतोष के लिए कोई जगह नहीं है। आरबीआई की तीन दिवसीय मौद्रिक नीति समिति Monetary Policy Committee (एमपीसी) की बैठक के बाद बुधवार को गवर्नर ने आर्थिक वृद्धि दर Economic Growth Rate के पूर्वानुमान में कमी का बचाव करते हुए कहा कि आंकड़े बताते हैं कि महंगाई का सबसे बुरा दौर पीछे छूट चुका है। आरबीआई घरेलू कारकों एवं आगामी आंकड़ों पर नजर बनाए रखेगा। उन्होंने कहा कि उच्च महंगाई की वजह से केंद्रीय बैंक ब्याज दरों में बढ़ोतरी Interest Rate Hike कर रहा है। खुदरा महंगाई लगातार पिछले 11 महीने से आरबीआई के 6 फीसदी के संतोषजनक स्तर से ऊपर बनी हुई है।

वहीं डिप्टी गवर्नर माइकल पात्रा Deputy Governor Michael Patra ने कहा कि आरबीआई का प्रयास पहले महंगाई को 6 फीसदी के संतोषजनक स्तर से नीचे लाना है। रेपो दर में 0.50 फीसदी की जगह 0.35 फीसदी की वृद्धि को केंद्रीय बैंक की ओर से नरमी के संकेत के रूप में देखा जाना चाहिए। हालांकि, महंगाई के खिलाफ लड़ाई अभी खत्म नहीं हुई है और इसलिए हमारा तटस्थ रुख है। महत्वपूर्ण बात यह है कि हमने नीतिगत दर में बदलाव की मात्रा को कम कर दिया है। यह सबसे अहम बात है।

Podcast

TWN In-Focus