माकी काजी : लोगों की खुशी के लिए बनाया था Sudoku

890
18 Aug 2021
6 min read

News Synopsis

आज भी सुडोकू को मानसिक क्षमताओं को तेज रखने के लिए हल किया जाता है। इस खेल को एक तरह की ब्रेन एक्सरसाइज कहा जाता है। तर्क पहेली की दुनियां में माकी काजी का काफी नाम है। उनका जन्म 8 अक्टूबर 1951 को जापान के साप्पोरो में हुआ था। सुडोकू वर्ल्ड क्रेज पर लिखी गई एक किताब के मुताबिक, उनके पिता एक टेलीकॉम कंपनी में इंजीनियर थे और उनकी मां एक किमोनो शॉप में काम करती थीं। 

सुडोकू के गॉडफादर कहे जाने वाले माकी काज़ी ने अपने बचपन के दो दोस्तों के साथ, एक कंपनी शुरू की थी जो बाद में निकोली के नाम से जानी जाने लगी। 2000 के दशक के मध्य में निकोली ने सुडोकू को मुख्यधारा में लाने में मदद की, यह प्रकाशित करते हुए कि यह जापान की पहली पहेली पत्रिका थी। माकी काजी इस पहेली को दुनिया भर में फैलाना चाहते थे। अभी जुलाई में खराब स्वास्थ्य कारणों के चलते उन्होंने अपनी कंपनी के प्रमुख के रूप में पद छोड़ दिया था और 69 वर्ष की उम्र में को टोक्यो में उनका निधन हो गया।

 

 

 

Podcast

TWN In-Focus