इंदिरा गांधी कृषि विवि ने धान की नई किस्में कीं तैयार

871
27 Apr 2022
6 min read

News Synopsis

किसान Farmer अपनी आय और फसल का उत्पादन crop production बढ़ाने के लिए नई-नई किस्में new varieties को अपने खेत में लगाते और उगाते हैं। जिससे अपने खेती से अधिक लाभ कमा सकें। सरकार भी किसानों की आय बढ़ाने के लिए कई योजनाओं many schemes पर काम करती रहती है। साथ ही कई वैज्ञानिक संस्थान scientific institution भी किसानों के विकास के लिए नई खोज करते रहते हैं। इसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय Indira Gandhi Agricultural University ने धान फसल की कुछ नई किस्में तैयार कर ली हैं। इसको लेकर वैज्ञानिकों का कहना है, कि धान की इन नई किस्मों से किसानों को दोगुना लाभ प्राप्त हो सकेगा।

इन नई किस्मों में ट्राम्बे छत्तीसगढ़ दुबराज म्यूटेन्ट-1 Trombay Chhattisgarh Dubraj Mutant-1,विक्रम टी.सी.आर Vikram TCR,छत्तीसगढ़ जवांफूल म्यूटेन्ट Chhattisgarh Jawan Phool Mutant, ट्राम्बे छत्तीसगढ़ विष्णुभोग म्यूटेन्ट Trombay Chhattisgarh Sonagachi और ट्राम्बे छत्तीसगढ़ सोनागाठी Trombay Chhattisgarh Sonagachi शामिल हैं। यह सभी किस्में भाभा अटामिक रिसर्च सेंटर Bhabha Atomic Research Centre, ट्राम्बे-मुंबई Trombay-Mumbai के सहयोग से इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय Agricultural university में तैयार की गई हैं।

Podcast

TWN In-Focus