3जी और 4जी ने भरा था सरकार का खजाना, अब 5जी से होगी इतनी कमाई

415
27 Jul 2022
min read

News Synopsis

देश में दूरसंचार मंत्रालय Ministry of Telecom ने 5जी स्पेक्ट्रम 5G Spectrum की नीलामी शुरू कर दी है। मंगलवार 26 जुलाई से शुरू हुई नीलामी में देश की दिग्गज कंपनी रिलायंस Reliance, एयरटेल Airtel, वोडाफोन-आइडिया और अदाणी ग्रुप Vodafone-Idea and Adani Group की कंपनी अदाणी इंटरप्राइजेस Adani Enterprises भाग ले रहीं हैं।  इस बार 5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी के दौरान सरकार कुल 72 Ghz स्पेक्ट्रम की नीलामी करने जा रही है।

इसका मूल्य करीब 4.3 लाख करोड़ रुपये है। 5जी स्पेट्रम की नीलामी से पहले देश में 2जी, 3जी और 4जी स्पेक्ट्रम की नीलामी  हो चुकी है। अगर 2जी स्पेक्ट्रम की बात करें तो, सरकार को 2जी स्पेक्ट्रम 2G spectrum की नीलामी के बाद बदनामी का सामना करना पड़ा था। 2जी स्पेक्ट्रम की नीलामी एक तरह से देश की सबसे बदनाम नीलामी defamation auction भी रही। 2जी स्पेक्ट्रम की नीलामी spectrum auction में घोटाले की खबर आने के बाद तत्कालीन सरकार की काफी फजीहत हुई थी।

2जी  स्पेक्ट्रम की नीलामी में हुई गड़बड़ी के बाद सरकार ने साल 2014 के फरवरी महीने में 2जी स्पेक्ट्रम की दोबारा नीलामी की थी। दस दिनों तक चली इस नीलामी में 68 राउंड बोलियां लगाईं गई। नीलामी की प्रकिया समाप्त होने पर सरकार को कुल 61162 करोड़ रुपए के राजस्व की प्राप्ति हुई। 3जी स्पेक्ट्रम 3G spectrum की नीलामी साल 2022 में हुई थी।

34 दिनो तक चली इस नीलामी में कुल 183 बोलियांं लगाई गईं। सरकार को इस नीलामी से 67719 करोड़ रुपये की बंपर कमाई हुई। 4जी स्पेक्ट्रम 4G spectrum की नीलामी से सरकार को लगभग 77800 रुपये की आमदनी हुई। वहीं अगर 5जी की बात करें तो सरकार को 5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी से लगभग एक लाख करोड़ रुपए की आमदनी होने का अनुमान है।

Podcast

TWN In-Focus