विलियम शेक्सपियर दुनिया का सर्वश्रेष्ठ साहित्यकार

769
19 Jun 2022
6 min read

Post Highlight

विलियम शेक्सपियर William Shakespeare ,16 वीं शताब्दी के एक जाने माने अंग्रेजी कवि, नाटककार और अभिनेता थे, आपने इतिहास में इनके बारे में जरुर सुना होगा ये अंग्रेजी भाषा के सबसे महान लेखक और विश्व के पूर्व – प्रख्यात नाटककार  Eminent Playwright के रूप में प्रसिद्ध  हैं इन्हें इंग्लैंड का राष्ट्रीय कवि भी कहा जाता था एवं इनका उपनाम “Bird Of Avon” था इन्होंने 38 नाटकों, 154 सनेट्स, 2 लंबी कथा कविता और कुछ अन्य छंद जिनमें से कुछ की ग्रन्थकारिता Authorship अनिश्चित है।  इनके  के बारे में लिखा गया है की इनके नाटकों को हर एक भाषा में अनुवाद किया गया है, एवं किसी अन्य नाटककार Dramatist की तुलना में इनके नाटक अधिक बार प्रदर्शित किये गए हैं और आज भी किये जा रहे हैं, इनके काम को लोगों ने बहुत सराहा है,विलियम शेक्सपियर के बिना साहित्य, मछली के बिना एक्वेरियम की तरह है. इन्होंने लगभग 1700 अंग्रेजी के शब्दों को उत्पन्न किया, आज हम आपको इस आर्टिकल में विलियम शेक्सपियर के जीवन William Shakespeare Biography  के बारे में बताएंगे | 

Podcast

Continue Reading..

William Shakespeare इतिहास के एक ऐसे रचनाकार है जिन्हें हर कोई जानता है। दुनिया में शायद ही कोई ऐसा बच्चा या पढ़ने वाला स्टूडेंट होगा जिसने अपनी जिंदगी में कभी William Shakespeare की कहानी पढ़ी ना हो या उनके बारे में न सुना हो। William Shakespeare अंग्रेजी के महान कवि, काव्यात्मकता के विद्वान, नाटककार तथा अभिनेता Great English poet, poetic scholar, playwright and actor थे। वे ऐसी कल्पना कर लेते थे जिसकी कल्पना कर पाना कई बार लेखकों के लिए नामुमकिन सा लगता है। ये अंग्रेजी भाषा के सबसे महान लेखक और विश्व के प्रख्यात नाटककार के रूप में जाने जाते हैं। 23 अप्रैल को William Shakespeare का जन्म हुआ था। William Shakespeare के बिना साहित्य अधूरा है इसलिए आज के इस आर्टिकल में हम बात करेंगे नाटककार, कवि और लेखक, विलियम शेक्सपियर (Biography of William Shakespeare) के बारे में।

विलियम शेक्सपियर का जन्म और शुरूआती जीवन (William Shakespeare early life) 

विलियम शेक्सपियर का जन्म william shakespeare birthday 26 अप्रैल सन 1564 को इंग्लैंड के Warwickshire में स्ट्रेटफोर्ड – अपॉन – एवन Stratford - Upon - Avon शहर में हुआ. वैसे तो इनके जन्म की तिथि सही से पता नहीं है किन्तु चर्च के रिकॉर्ड के अनुसार इनका जन्म 26 अप्रैल सन 1564 को हुआ है  इनके पिता जॉन शेक्सपियर John Shakespeare  एक सफल लोकल व्यापारी थे, साथ ही वे स्ट्रेटफोर्ड की सरकार Government of Stratford में जिम्मेदार पद पर नियुक्त थे एवं 1569 में उन्होंने मेयर के रूप में भी कार्य किया तथा माता मर्री शेक्सपियर एक पड़ोसी गाँव के धनी जमींदार की बेटी थीं. इनके माता पिता की 8 संतानें थी उनमें से विलियम शेक्सपियर तीसरे थे एवं वे अपने माता पिता के सबसे बड़े पुत्र थे हालांकि कोई व्यक्तिगत दस्तावेज़ शेक्सपियर के स्कूल के वर्षों से जीवित नहीं है उन्होंने शायद स्ट्रेटफोर्ड ग्रामर स्कूल Stratford Grammar School अटैंड किया और क्लासिक्स, लैटिन ग्रामर एवं साहित्य Classics, Latin Grammar and Literature का अध्ययन किया यह माना जाता है कि आर्थिक रूप से अपने पिता की मदद करने के लिए उन्होंने अपनी पढ़ाई लगभग 13 साल की उम्र में छोड़ दी थी इस तरह इनका शुरूआती जीवन व्यतीत हुआ जब शेक्सपियर अठारह वर्ष के हुए तो उन्होंने ऐनी हैथवे Anne Hathaway से सन् 1582 में शादी की। उनका जल्द ही एक परिवार हुआ जिसमें एक बेटी सुज़ाना और दो जुड़वां बेटे जुडिथ और हैमनेट शामिल थे। इनमें से हैमनेट की 11 साल की उम्र में मृत्यु हो गई थी। सन् 1585 के लगभग शेक्सपियर लंदन London आए। शुरू में उन्होंने एक रंगशाला में किसी छोटी नौकरी पर काम किया। फिर विलियम शेक्सपियर ने 1585-1592 के समय में लंदन में एक अभिनेता, लेखक और एक नाटक कंपनी लॉर्ड चेम्बर्लेन Drama Company Lord Chamberlain में अपने करियर की शुरुवात की। उन्होंने अपना ज्यादातर समय लंदन में राइटिंग और अपने नाटकों के प्रदर्शन में बिताया। वे लार्ड चेंबरलेन की कंपनी के सदस्य बन गए और लंदन की प्रमुख रंगशालाओं में समय समय पर अभिनय में भाग लेने लगे। विलियम शेक्सपियर को अंग्रेजी भाषा के सर्वश्रेष्ठ साहित्यकार और नाटककार Best Writer and Playwright के तौर पर जाना जाता है। इन्हें इंग्लैंड का राष्ट्रीय कवि National Poet of England भी कहा जाता था और शेक्सपियर को “Bird of Heaven” बर्ड ऑफ़ हेवन की उपाधि दी गयी थी। 

विलियम शेक्सपियर की नाट्य शुरुआत

कुछ जानकारी के अनुसार विलियम ने अपने नाट्य कैरियर की शुरुआत सन 1585 में की, और 7 साल तक उस पर काम किया उनके प्रदर्शन के रिकॉर्ड के अनुसार सन 1592 में उन्होंने लन्दन मंच पर अपने कैरियर की शुरुआत की उस समय वे बहुत प्रसिद्ध हो गए शेक्सपियर ने आलोचकों और प्रशंसकों दोनों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया रोबर्ट ग्रीने, Robert Greene शेक्सपियर के पहले आलोचकों में से एक थे, जोकि विश्वविद्यालय से शिक्षित थे और शेक्सपियर के प्रयासों से खफा थे। सन 1594 के बाद से शेक्सपियर के लगभग सभी नाटक भगवान चेम्बर्लेन के लोगों  द्वारा प्रदर्शित किये गए। यह ग्रुप कुछ ही समय में सर्वोच्च स्थिति में पहुँच गया, इसे लन्दन में एक अग्रणी कंपनी प्ले कर रही थी, इतना ही नहीं विलियम शेक्सपियर ने सन 1599 में अपना स्वयं का थिएटर खरीदा और उसका नाम ग्लोब Globe रखा।

William Shakespeare के नाटक और साहित्यिक योगदान The Dramatic and Literary Contributions of William Shakespeare 

William Shakespeare एक नाटककार और अभिनेता के साथ-साथ अंग्रेजी कवि भी थे। सन 1593 और 1594 में अपने नाट्य कला के साथ-साथ उन्होंने कविता लिखने की कोशिश शुरू कर दी। उन्होंने उस समय 2 कविता ‘वीनस एंड एडोनिस’ एवं ‘दी रेप ऑफ़ लूक्रेस’ लिखीं। जिनमें से दोनों कवितायें हेनरी रिओथेस्ले, साउथएम्प्टन के एर्ल को समर्पित थी। ‘वीनस एंड एडोनिस’ “Venus and Adonis” कविता में वीनस की यौन उन्नति तथा एडोनिस के एवेंचुअल रिजेक्शन को दर्शाया गया है। ‘दी रेप ऑफ़ लूक्रेस’ The Rape of Lucrece कविता में लूक्रेस के भावनात्मक टर्मोइल को प्रस्तुत किया है जिसका तर्क़ुइन ने रेप किया था। उस वक्त दोनों ही कविता बहुत ही लोकप्रिय रही। शेक्सपियर ने ‘अ लवर्स कंप्लेंट’ "A Lover's Complaint" और ‘दी फोनिक्स एंड दी टर्टल’ The Phoenix and the Turtle कविता भी लिखीं। इस कविता में एक महिला की संक्षिप्त कहानी बताई गई है जो कि अपने प्रेमी द्वारा प्रलोभन के प्रयासों के कारण पीड़ा में थी। 

शेक्सपियर ने स्वयं के तथा दूसरों के लिखे कई नाट्य में अभिनय किया। जिनमें से कुछ ‘एव्री मेन इन हिज हुमौर’, Every Man in His Humour‘ सेजनस हिज फॉल’Seasons His Fall , ‘दी फर्स्ट फोलियो’The First Folio , ‘ऐज़ यू लाइक इट’ As You Like It, ‘हैमलेट’ Hamlet और ‘हेनरी 6’ शामिल हैं। 16 वीं शताब्दी के अंत और 17 वीं शताब्दी के शुरुआत में शेक्सपियर के कैरियर के ग्राफ में वृद्धि हुई। उन्होंने लगभग 37 नाटक लिखे जिनमे से 15 प्रकाशित हुए। William Shakespeare द्वारा लिखे और किये गए नाटकों को आज विश्व के मंच पर कई पर दोहराया गया है। शेक्सपियर के महानतम नाटक “रोमियो जूलियट " Romeo Juliet का मंचन विश्व में सबसे अधिक बार हुआ है।

सन 1609 में, शेक्सपियर ने अपने काम को ‘सनेट्स’ Sunets' नाम दिया। यह उनके काव्य की फ़ील्ड का आखिरी काम था। इनमें लगभग 154 सनेट्स थे। सनेट्स उनकी खुद की एक शैली थी जो कि विशिष्ट थी। शेक्सपियर बहुत ही क्रिएटिव व्यक्ति थे। शेक्सपियर के नाटकों में रोमांस के साथ-साथ कॉमेडी भी होती थी। फिर इन्होंने ट्रेजेडी की शैली को भी छुआ है। सन 1610 तक शेक्सपियर ने बहुत से नाटक william shakespeare plays लिखे। 1590 के दशक के मध्य और 1612 के आसपास शेक्सपियर ने अपने 37 से अधिक नाटकों में से सबसे प्रसिद्ध नाटकों और किताब को लिखा william shakespeare books, जिनमें शामिल हैं : “रोमियो एंड जूलियट,” “ए मिडसमर नाइट्स ड्रीम,” “हेमलेट”, “किंग लेअर” और “मैकबेथ” "Romeo and Juliet," "A Midsummer Night's Dream," "Hamlet", "King Lear" and "Macbeth" आदि। इनमे से शेक्सपियर ने 1608 तक दुखांत नाटक लिखे, जिनमे हैमलेट, ऑथेलो Othello, किंग लेअर और मैकबेथ भी शामिल हैं। यह नाटक उनके सबसे प्रसिद्ध नाटकों में थे। अपने अंतिम समय में उन्होंने दुःख सुखान्तक नाटको का लेखन किया था। उन्होंने सबसे अधिक रोमांचक नाटकों और काव्यों को लिखा है। लगभग 1623 में शेक्सपीयर के दो दोस्त और अनुयायी अभिनेता जॉन हेमिंगस और हेनरी कंडेल ने मिलकर उनके मरणोपरांत फर्स्ट फोलियो को प्रकाशित किया था। फिर 20 और 21वीं शदी के लेखक और कवियों ने उनके नाटकों को अपनी अपनी मातृ भाषा में लिखकर प्रकाशित किया।

William Shakespeare ने अपने पूरे जीवन काल में लगभग 37 नाटक और 154 काव्य की रचना की। शेक्सपियर पहले और एकलौते ऐसे नाटककार थे जिन्होंने अपने नाटक लिखे और खुद ही उनमे एक्टिंग भी की। Shakespeare की कल्पना जितनी प्रखर थी उतना ही गंभीर उनके जीवन का अनुभव भी था। अत: जहाँ एक ओर उनके नाटकों तथा उनकी कविताओं से आनंद की उपलब्धि होती है वहीं दूसरी ओर उनकी रचनाओं से हमें गंभीर जीवनदर्शन भी प्राप्त होता है। आज भी विश्वसाहित्य के इतिहास में Shakespeare के समकक्ष रखे जाने वाले लेखक बहुत कम मिलते हैं और उनकी रचनाएँ संपूर्ण विश्व के लिए गौरव हैं। 

विलियम शेक्सपियर के कुछ अनमोल वचन (William Shakespeare quotes) –

  1. सबसे प्यार करो, कुछ पर भरोसा करो, किसी का भी बुरा मत करो।

  2. मूर्ख को लगता है कि वह बुद्धिमान है, किन्तु बुद्धिमान व्यक्ति जानता है कि वह मूर्ख है।

  3. महानता का डर नहीं हैं. कुछ महान पैदा ही होते है महानता प्राप्त करने के लिए।

  4. प्यार, आँखों के साथ नहीं बल्कि मन के साथ देखा जाता हैं और इसलिए पंखों का लोभ करने वालों को अँधा चित्रित किया गया है।

  5. गलतियाँ हमारे सितारों में नहीं है लेकिन अपने आप में है।

  6. मैं दिमाग की लड़ाई में आपको चुनौती देता हूँ, लेकिन मैं देख रहा हूँ कि आप निहत्थे हैं।

  7. अच्छा या बुरा कुछ नहीं होता, लेकिन सोच इसे बनाती है।

  8. हमारी नियति को पकड़ना सितारों में नहीं होता लेकिन अपने आप में होता है।

  9. नर्क खाली है और सभी शैतान यहाँ हैं।

  10. हम जानते है कि हम क्या हैं लेकिन ये नहीं जानते कि क्या हो सकते हैं।

  11. शब्द हवा की तरह आसान है; वफादार दोस्त खोजने में मुश्किल है।

  12. मेरे अंगूठे की चुभन, कुछ दुष्ट इस तरह से आते हैं।

  13. हालांकि वह हो सकती है लेकिन बहुत कम है, वह भयंकर है।

  14. हे प्रभु, क्या मुर्ख ये मनुष्य हैं।

  15. सच्चे प्यार का रास्ता कभी आसान नहीं होता।

  16. अपना प्यार किसी ऐसे पर बर्बाद मत करों, जिसे इसकी कद्र नहीं।

  17. इस तरह एक किस के साथ मैं मरता हूँ।

  18. उसके साथ विवाद मत करो, वह पागल है।

  19. मुझे यह स्थान पसंद है, और ख़ुशी इस पर मेरा समय बर्बाद कर सकती है।

  20. ख़ुशी और हँसी के साथ पुरानी झुर्रियां भी आतीं हैं।

रॉयल शेक्सपियर कंपनी Royal Shakespeare Company (RSC) 

रॉयल शेक्सपियर कंपनी (RSC), जो कि पूर्व में (1875-1961) शेक्सपियर मेमोरियल कंपनी Shakespeare Memorial Company, स्ट्रैटफ़ोर्ड-ऑन-एवन में स्थित अंग्रेजी नाट्य कंपनी English theatrical company है। इसका शेक्सपियर के प्रदर्शन का एक लंबा इतिहास है। इसके प्रदर्शनों की सूची विलियम शेक्सपियर और अन्य अलिज़बेटन और जैकोबीन नाटककारों के कार्यों पर केंद्रित है। दरअसल कंपनी की स्थापना 1875 में हुई थी और मूल रूप से स्ट्रैटफ़ोर्ड के शेक्सपियर मेमोरियल थियेटर Stratford's Shakespeare Memorial Theater  से जुड़ा था, यह 1879 को खोला गया था और 1926 में आग से नष्ट हो गया, जिसे चार्ल्स एडवर्ड फ्लावर के प्रयासों से बनाया गया था। यह थिएटर शेक्सपियर के नाटकों के वार्षिक उत्सव का स्थल था, और इसकी resident seasonal company रेजिडेंट सीजनल कंपनी को शेक्सपियर मेमोरियल कंपनी कहा जाता था। 1925 में कंपनी को एक शाही चार्टर दिया गया था जो कि ग्रेट ब्रिटेन में सबसे प्रतिष्ठित कंपनी में से एक बन गई थी। 1961 में नए शेक्सपियर मेमोरियल थियेटर जो कि 1932 में खोला गया का नाम बदलकर रॉयल शेक्सपियर थिएटर कर दिया गया और उस समय कंपनी का नाम भी बदल दिया गया। आरएससी ने अपने प्रदर्शनों की सूची का पीटर हॉल के निर्देशन में विस्तार किया। इसने लंदन में एक दूसरी इकाई भी स्थापित की, पहले एल्डविच थिएटर में और फिर 1982 से 2002 तक, बारबिकन में। 21वीं सदी के पहले दशक में, कंपनी ने स्ट्रैटफ़ोर्ड में अपनी सुविधाओं का एक बड़ा नवीनीकरण किया।

ये भी पढ़े: चार्ली चैप्लिन- खुशियों का जादूगर

विलियम शेक्सपियर की मृत्यु (William Shakespeare death) 

सन 1613 में शेक्सपियर स्ट्रेटफोर्ड से रिटायर हो गए विलियम शेक्सपियर की अपने जन्म दिन के 3 दिन पहले यानि 23 अप्रैल सन 1616 में मृत्यु हो गई अपनी मृत्यु के 3 साल पहले उनके जीवन के कुछ रिकॉर्ड ही जीवित थे रिकॉर्ड के अनुसार, उन्होंने 5 अप्रैल सन 1616 को होली ट्रिनिटी चर्च के चांसल में प्रवेश किया वे वहाँ अपनी पत्नी और 2 बेटियों के साथ थे। उनकी कब्र की शिला पर स्मृति लेख लिखा था कि ‘गुड फ्रेंड, फॉर जीसस’ ऐसे धनी आदमी के लिए इन पत्थरों की जरुरत नहीं पड़ती एक फनररी स्मारक शेक्सपियर के काम को सम्मानित करने के लिए खड़ा किया गया और इसके उत्तरीय दीवार पर इनका काम था उनके लेखन के कार्य के बारे में आधे पुतले पर लिखा था। इसके अतिरिक्त साउथवर्क कैथेड्रल Southworks Cathedral में अंतिम संस्कार स्मारकें हैं, इसके अलावा शेक्सपियर की याद में दुनिया भर में कई मूर्तियाँ, स्मारकें स्थापित किये गये, जोकि इस प्रोलिफिक कवि prolific poet और नाटककार के काम की महिमा के लिए एक प्रशंसापत्र के रूप में खड़े किये गये। 

TWN In-Focus