आखिर तलाक लेने की नौबत क्यों आती है?

1479
30 Sep 2021
9 min read

Post Highlight

शादी एक बहुत पवित्र बंधन है। शादी के बंधन में बंधकर जीवन भर के लिए दो लोग एक दूसरे के हमदर्द बन जाते हैं। सुख की सुनहरी धूप हो या दुखों की बारिश हमेशा एक दूसरे का साथ निभाते हैं। हर रिश्तें की तरह इस रिश्ते को भी बहुत प्यार, समय और संयम की जरूरत होती है। चलिए जानते हैं आखिर क्या कारण है कि सालों तक एक दूसरे के साथ रहने के बाद भी तलाक लेने की नौबत आ जाती है? और क्या समाधान होना चाहिए ऐसी समस्याओं का ?

Podcast

Continue Reading..

शादी एक बहुत पवित्र बंधन है। शादी के बंधन में बंधकर जीवन भर के लिए दो लोग एक दूसरे के हमदर्द बन जाते हैं। सुख की सुनहरी धूप हो या दुखों की बारिश हमेशा एक दूसरे का साथ निभाते हैं। हर रिश्तें की तरह इस रिश्ते को भी बहुत प्यार, समय और संयम की जरूरत होती है। यदि किसी कारण रिश्तों में दरार पड़ने लगे तो साथ निभाना कठिन हो जाता है। बात-बात में झगड़े होने लगते हैं, जिससे दोनों के बीच तनाव बढ़ जाता है। प्रत्येक शादी अलग होती है और उसे निभाने वाले लोग भी। इसलिए तलाक के कारण भी अलग-अलग होते हैं। 

हाल ही में माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स और उनकी पत्नी मेलिंडा ने शादी के 27 साल बाद एक-दूसरे से अलग होने का फैसला लिया। दोनो ने इस फैसले के बारे में बताया कि, ''काफी बातचीत और अपने रिश्ते पर सोच-विचार करने के बाद हमने अपनी शादी खत्म करने का फैसला लिया है। 

चलिए जानते हैं आखिर क्या कारण है कि सालों तक एक दूसरे के साथ रहने के बाद भी तलाक लेने की नौबत आ जाती है? और क्या समाधान होना चाहिए ऐसी समस्याओं का।

1- बहू और सास में अनबन - यह बहुत ही साधारण समस्या है, जिससे पति और पत्नी में भी विवाद होने लगते हैं। नए घर में जाने पर बहू को लोगों के साथ सामंजस्य बैठना पड़ता है, उसकी आकांक्षाएं दबने के कारण उसे घुटन होने लगती है। इस समस्या का समाधान है धैर्य !.. सास को बहू को घर के माहौल समझने के लिए वक़्त देना चाहिए, साथ ही बहू को समझना चाहिये कि उसके साथ घर के अन्य सदस्य भी उसके साथ सामंजस्य बैठाने की कोशिश कर रहे हैं। बहू को सास की आकांक्षाओं का भी आदर करना चाहिए। इस तरह एक दूसरे को समय देने से समस्याओं को हम हल कर सकते हैं ।

2- प्रतिस्पर्धा - आपसी मतभेद के कारण दोनों साथी में से कोई भी ताल-मेल से नहीं रहना चाहता, जिससे एक दूसरे को नीचा दिखाने की प्रतिस्पर्धा शुरू हो जाती है। इसका परिणाम यह निकलता है कि दोनों में ठीक से बात-चीत होना भी बंद हो जाता है और फिर ऐसे ही धीरे-धीरे रिश्तों में दूरियां आने लगती हैं। 

3- आर्थिक स्थिति - आर्थिक स्थिति खराब होने से और सही से खर्च न संभाल पाने से पति-पत्नी के बीच जरूरत न पूरी होने पर भी झगड़े होने लगते हैं । एक कहावत है - जब गरीबी दरवाजा खटखटाती है तो प्यार सबसे पहले उड़ जाता है। इसलिए पति-पत्नी को खर्च हिसाब से और योजना के अनुसार करना चाहिए। मतलब जितनी चादर है, उतना ही पैर फैलाना चाहिए।

4- समय न दे पाना- अक्सर पति घरेलू जरूरतों को पूरा करने के चलते पत्नी को समय नहीं दे पाता, वहीं पत्नी भी घर के काम में इतना व्यस्त रहती है कि पति के साथ ज़्यादा सुकून के पल भी नहीं बिता पाती है। पति-पत्नी को एक दूसरे की भावनाओं को समझना चाहिए तथा उनका सम्मान करना चाहिए। अन्यथा यह खटक दोनों के मन में हमेशा रहती है कि हम साथ रहकर भी साथ नहीं है। इसलिए पति-पत्नी को अपने रिश्ते को एहमियत देनी चाहिए।

5-  खुद का ख्याल न रखना - अक्सर पति-पत्नी अपनी सेहत का ख्याल नहीं रखते, जिसके कारण वे आलसी और शरीर से बेढंग हो जाते हैं। उनका एक दूसरे के प्रति आकर्षण भी खत्म होने लगता है। दूसरे पुरुष या महिलाओं से एक दूसरे की तुलना करने लगते हैं। जिससे दोनों के बीच मनमुटाव होने लगते हैं। इसलिए पार्टनर्स को एक-दूसरे का दोस्त बनकर रहने की कोशिश करनी चाहिए। एक-दूसरे को हतोत्साहित न करके प्रोत्साहित करें।

7-अनचाहा शारीरिक संबंध- कुछ पति-पत्नी अपने साथी को अपनी संपत्ति समझते हैं। अपनी उम्मीदें उन पर थोपते हैं, जब उनका मन करता है वह बिना सहमति शारीरिक संबंध बनाते हैं, उन्हें आदेश देना अपना कर्तव्य समझने लगते हैं और यदि सामने वाला उसे मानने से इंकार करे तो वह उसे अपने अहंकार पर ले लेते हैं। व्यक्ति अपने साथियों की चाहतों को नजरअंदाज कर देता है। इस प्रकार महिलाओं को मानसिक तनाव हो जाता है। वह अपने साथी से किसी भी प्रकार की अपेक्षा रखना बंद कर देते हैं। जिससे उनके जीवन में प्यार की कमी होने लगती है और एक दूसरे के साथ होने के बावजूद अकेला महसूस होने लगता है।

8- विश्वास न करना- जब पति-पत्नी एक दूसरे पर बात-बात पर शक करें और उनकी जासूसी करने लगते हैं तब रिश्तों में दरार पड़ जाती है। एक दूसरे की ज़िन्दगी में इतना दखल देने लगते हैं कि घुटन सी होने लगती है। यह हम सब जानते हैं कि जिन रिश्तों में विश्वास नहीं होता वहां प्यार नहीं हो सकता।

इसलिए हमेशा एक-दूसरे को थोड़ी जगह देना चाहिए और उन पर विश्वास बनाये रखना चाहिए। यदि पति-पत्नी में से कोई धोखा देता है तो फिर उनके साथ पूरे परिवार की ज़िन्दगी खराब हो जाती है।

9- दिलचस्पी बनाये रखना- पति और पत्नी को एक दूसरे के बारे में जानने की हमेशा ललक होनी चाहिए। जब मौका मिले तो आप एक दूसरे से कितना प्यार करते हैं, उसका एहसास कराते रहिये। एक दूसरे का ख्याल रख कर समझ बनाये रखने से हमेशा प्यार बरकरार रहता है।

10- लड़ाई-झगड़े - पति-पत्नी में लड़ाई-झगड़े तो होते रहते हैं। लेकिन दिक्कत तब हो जाती है जब दोनो में से कोई भी अपनी गलती न मानना चाहे। सामने वाले को हमेशा गलत ठहराना झगड़े को और बढ़ा सकता है। इसलिए जब भी झगड़ा हो, गलती किसकी है इस बात को दरकिनार करके शांत दिमाग से बाच-चीत कर के माफी मांग लेनी चाहिए। इससे गलती करने वाला खुद अपनी गलती मान लेगा।

पति पत्नी में इन सभी कारणों से समस्या हो जाती है। लेकिन समय, प्रेम और धैर्य के जरिये हम रिश्तों को जीवन भर निभा सकते हैं। 

TWN Opinion