सच्चाई या प्रवृत्ति: क्या बांस टिकाऊ है?

4956
31 Jul 2021
8 min read

Post Highlight

बांस प्लास्टिक का एक अविश्वसनीय विकल्प है। दुनिया के विभिन्न स्थानों में उगाए जाने वाले अधिकांश बांस पर्यावरण के अनुकूल हैं क्योंकि इसमें किसी कीटनाशक या उर्वरक की आवश्यकता नहीं होती है और बहुत कम पानी की आवश्यकता होती है।

Podcast

Continue Reading..

प्लास्टिक का इस्तेमाल कम से कम करना है ,और अगर आवश्यकता पड़े तो ऐसे प्लास्टिक को उपयोग में लाएं जो रीसायकल हो जाए।

लेकिन क्या लोग सच में इन बातों को मान रहे हैं?

आज भी लोग सिंगल यूज प्लास्टिक को इस्तेमाल में ला रहे हैं,जो सिर्फ एक बार इस्तेमाल में आता है और फिर लोग इन्हें फेंक देते हैं। जैसा कि नाम से ही पता चलता है, हम सिंगल यूज प्लास्टिक को न तो दुबारा इस्तेमाल कर सकते है ,ना ही रीसायकल कर सकते हैं।

विश्व स्तर पर, हम हर साल 300 मिलियन टन प्लास्टिक निर्माण करते हैं। जिसमें 9% प्लास्टिक को हम एक से ज्यादा बार इस्तेमाल में लाते हैं।चौकाने वाली बात तो ये है कि 91% प्लास्टिक का केवल एक बार उपयोग किया जाता है, और फिर उन्हें फेंक दिया जाता है।फिर ये महासागरों में अपना रास्ता ढूंढता है। यह एक बहुत बड़ी राशि है, इसलिए वैज्ञानिकों का अनुमान है कि 2050 तक हमारे समुद्र में मछलियों से ज्यादा प्लास्टिक होगा।

इससे बचने का आसान तरीका यह है कि हम स्थायी उत्पादों (Sustainable Products) का इस्तेमाल करें।

तो आप इसके बजाय और क्या उपयोग कर सकते हैं? 

बांस प्लास्टिक का एक अविश्वसनीय विकल्प है देखते हैं बांस की क्या खासियत है-

1.बांस मजबूत और टिकाऊ होता है।

यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि बांस को अक्सर इसकी बहुमुखी प्रतिभा और निर्माण में मजबूती के लिए ' ग्रीन स्टील' के नाम से जाना जाता है।बांस से फर्नीचर और काफी सारी चीज़े बनाई जाती है जो काफी समय तक चलती हैं।

2.बांस सबसे तेजी से बढ़ने वाला पौधा है।

बांस मात्र 3-4 महीने में पूरी तरह विकसित हो जाता है।सही परिस्थितियों में बांस 1 दिन में 3 फीट लंबा हो सकता है।लोग कहते है कि बांस को आप अपनी आंखों से बढ़ता हुआ देख सकते हैं।यह बहुत ही टिकाऊ पौधा है, इसे काटते समय किसी भी तरह के कीटनाशक की जरूरत नहीं पड़ती। बांस की खेती प्राकृतिक है और यह पर्यावरण को भी नुकसान नहीं पहुंचाती है।

3.बांस पर्यावरण के लिए अच्छा है।

यह बड़ी मात्रा में ऑक्सीजन भी उत्पन्न करता है, जो कि अधिकांश पौधों और पेड़ों की तुलना में 30% अधिक है। यह सॉइल इरोजन को भी रोकता है।

4.इसे कम रखरखाव की आवश्यकता होती है और यह नियमित सिंचाई के साथ बेहतर प्रदर्शन करता है।

5.बांस काफी इलास्टिक होता है और इसका भूकंप संभावित क्षेत्रों में व्यापक रूप से प्रयोग किया जाता है।

6.बांस नाइट्रोजन की उच्च मात्रा की खपत करता है, जो जल प्रदूषण को कम करने में मदद करता है।

हम सभी सिंगल यूज प्लास्टिक की जगह बांस का इस्तेमाल कर एक बदलाव ला सकते हैं और अपने ग्रह के लिए एक सकारात्मक भविष्य बना सकते हैं। बांस प्लास्टिक का एक अविश्वसनीय विकल्प है। दुनिया के विभिन्न स्थानों में उगाए जाने वाले अधिकांश बांस पर्यावरण के अनुकूल हैं क्योंकि इसमें किसी कीटनाशक या उर्वरक की आवश्यकता नहीं होती है और बहुत कम पानी की आवश्यकता होती है।

TWN In-Focus