आज खुद से खुद की बात करते हैं...

876
02 Sep 2021
3 min read

Post Highlight

ज़िन्दगी की दौड़ भाग में हम खुद के साथ चलना तो जैसे भूल ही गए हैं। आज की दुनिया तेजी से आगे बढ़ रही है और प्रौद्योगिकी उभर रही है। भावनाओं और संवेदनशीलता के लिए बहुत कम समय और जगह है। क्या आपको यह भी याद है कि पिछली बार आपने कब ब्रेक लिया था और खुद को खुश महसूस किया था? अगर ईमानदारी से बोलें तो नहीं!  इसलिए, हम यहां आपका हार्दिक स्वागत करते हैं। आइये इससे जुड़े पहलुओं पर बात करते हैं।

Podcast

Continue Reading..

ज़िन्दगी की दौड़ भाग में हम खुद के साथ चलना तो जैसे भूल ही गए हैं। आज की दुनिया तेजी से आगे बढ़ रही है और प्रौद्योगिकी उभर रही है। भावनाओं और संवेदनशीलता के लिए बहुत कम समय और जगह है। क्या आपको यह भी याद है कि पिछली बार आपने कब ब्रेक लिया था और खुद को खुश महसूस किया था? अगर ईमानदारी से बोलें तो नहीं!  इसलिए, हम यहां आपका हार्दिक स्वागत करते हैं। आइये इससे जुड़े पहलुओं पर बात करते हैं।

व्यक्तिगत जीवन के मुद्दे, औपचारिक संघर्ष, लोगों का दबाव, तनाव, करियर संबंधी बाधाएं और भी कई बातें हो सकती हैं। सब कुछ आपके मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति में योगदान देता है या प्रभावित करता है। कभी-कभी तो हमें पता ही नहीं चलता कि कब और कैसे ये विचार हमारे मन में बैठ कर बात को और बिगाड़ देते हैं।

लंबे समय तक, जब मानसिक स्वास्थ्य के बारे में बातचीत को अनदेखा और अवहेलना किया गया। तब मिजाज, अरुचि, सुस्ती, चिड़चिड़ापन, सामाजिक चिंता से दैनिक गतिविधियों में कई परिवर्तन जीवन में आने लगे। और यह आसान नहीं होता है, आप बस मजबूत हो जाते हैं। आपको मौन और अकेले संघर्ष करने की आवश्यकता नहीं है। कल्पना कीजिए कि आप पहले से ही कठिन समय से गुजर रहे हैं और आप खुद को और भी अधिक सजा दे रहे हैं। अगर आप फिर से मुस्कुराना चाहते हैं, तो खुद को प्राथमिकता दें। आत्म-देखभाल यह है कि आप अपनी शक्ति को कैसे वापस लाते हैं। स्वयं को समय दें इससे आप अपनी समस्याओं का समाधान स्वयं भी कर सकते हैं।

इन सब समस्याओं से बाहर आना ही आपकी चिकित्सा है। अपने आप को कायाकल्प करने की अनुमति दें। जो भी आप की भावनाओं को समझे उससे बात करें। आपकी बात सुनने के लिए एनजीओ और संगठन इंतजार कर रहे हैं। लेकिन पहला कदम यह स्वीकार करना है कि आप क्या कर रहे हैं। मना करने से बात और बिगड़ जाएगी। आखिर आपका मन भी मानव शरीर का एक नाजुक अंग है। इसे थोड़ा बढ़ावा, कुछ धूप, और बेशर्म बातचीत की जरूरत है। मानसिक स्वास्थ्य के इर्द-गिर्द की समस्या वास्तव में उन कहानियों के बारे में है, जो हम खुद को एक समाज के रूप में बताते हैं। लेकिन जितना दुनिया आपके बारे में जानती है आप उससे ज्यादा कीमती हैं। जैसे कहते हैं ना कि हीरे की पहचान तो जौहरी ही कर सकता है वैसे ही आपको अपने अंदर की काबिलियत को जानना पड़ेगा।

आपकी भलाई की गारंटी कोई नहीं दे सकता। आखिरकार, यह एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें समय, प्रयास और धैर्य लगता है। आप कभी नहीं जानते कि हम अपने भीतर कौन सी लड़ाई लड़ रहे हैं। यदि आप किसी न किसी स्थान पर हैं, यदि आप अपने आप पर कठोर हैं, तो समय आ गया है कि आप स्वयं को महत्व दें। याद रखें, आप शांति से रहने के लायक हैं, आप हंसने, प्यार करने और जीने के लायक हैं। बस अपने और अपने आसपास की दुनिया के प्रति दयालु रहें। 

TWN In-Focus