Blood Oxygen Level बढ़ाने के टिप्स

705
21 Apr 2022
7 min read

Post Highlight

आपके ब्लड में ऑक्सीजन के स्तर को बढ़ाना ‘खेल’ और ‘फिटनेस’ का एक महत्वपूर्ण पहलू है। यदि आप ब्लड में ऑक्सीजन के स्तर को बढ़ाना (increase blood oxygen levels) चाहते हैं, तो इसके कई तरीके हैं। इस आर्टिकल में कुछ टिप्स दिए गए हैं जो आपके बेहतर स्वास्थ के लिए ऑक्सीजन के स्तर को बढ़ाने में आपकी मदद करेंगे। 

Podcast

Continue Reading..

ऑक्सीजन सैचुरेशन लेवल (oxygen saturation level), जिसे ब्लड ऑक्सीजन लेवल (blood oxygen level) के रूप में भी जाना जाता है, यह एक प्रतिशत या परसेंटेज के रूप में रक्त में ऑक्सीजन की कुल मात्रा के सर्कुलेशन को दर्शाता है। इस ऑक्सीज़न की  गणना हीमोग्लोबिन (hemoglobin) सर्कुलेशन की मात्रा की तुलना करके की जाती है, हीमोग्लोबिन रक्त में ऑक्सीजन का वाहक होता है एवं इसी की वजह से खून का रंग लाल होता है। यही कारण है कि हीमोग्लोबिन कम होने से शरीर को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल पाता। हीमोग्लोबिन लाल रक्त कोशिकाओं में पाया जाने वाला एक प्रोटीन है जो फेफड़ों से ऑक्सीजन को शरीर के विभिन्न हिस्सों में पहुंचाता है।

एक अच्छा या आदर्श ब्लड ऑक्सीजन लेवल 100 प्रतिशत के आस-पास होना चाहिए, सामान्यतः 95 प्रतिशत से ऊपर, क्योंकि यह इंडीकेट करता है या दर्शाता है कि पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन सर्कुलेट हो रहा है। अस्थमा (Asthma) या क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (chronic obstructive pulmonary disease) या COPD जैसी पुरानी सांस की समस्याओं वाले लोगों में सर्कुलेशन लेवल (88-90 प्रतिशत) कम हो सकता है। 

जब ऑक्सीजन का सर्कुलेशन लेवल तेजी से गिरता है या 85-90 प्रतिशत से नीचे गिर जाता है, तो यह निमोनिया, हार्ट फेलियर या एनीमिया जैसी गंभीर स्वास्थ्य समस्या का संकेत हो सकता है। इन स्थितियों में अस्पताल में तत्काल इलाज और इस बीमारी के निदान हेतु चिकित्सक परामर्श की आवश्यकता होती है। 

Blood Oxygen Level कैसे बढ़ाएं:

जब एक स्वस्थ व्यक्ति का ऑक्सीजन सैचुरेशन 90 से 95 प्रतिशत के बीच यानि कम होता है, तो यह कफ या खासी का संकेत हो सकता है, जो रक्त को मिलने वाली ऑक्सीजन की मात्रा को कम कर सकता है। यही कारण है कि फ्लू या सर्दी होने पर सैचुरेशन लेवल कम होना आम बात है। 

Blood Oxygen Level को बढ़ाने के लिए आप कुछ आसान कदम उठा सकते हैं, जैसे: 

  • फेफड़ों पर दबाव कम करने के लिए लेटने के बजाय सीधे बैठना। 

  • फेफड़ों या लंग्स में प्रवेश करने वाली हवा की मात्रा बढ़ाने के लिए धीमी, गहरी सांस लें। 

  • उच्च स्तर का ऑक्सीजन प्राप्त करने के लिए, ऐसी जगह पर जाएं जो वेन्टीलेटेड हो यानी जहाँ आपको अच्छी तरह हवा मिल सके।

  • अत्यधिक गर्म या ठंडे स्थानों से बचें, क्योंकि इससे सांस लेने में कठिनाई हो सकती है। 

Oxygen का Level कैसे बढ़ाएं ?

कुछ लोगों में लंबे समय तक ऑक्सीजन का स्तर कम या उतार-चढ़ाव वाला हो सकता है। जिसके कारण उन्हें सांस लेने की समस्याएं, जैसे कि क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (COPD) या एम्फाइज़िमा (emphysema), हो सकती हैं। जिन रोगियों को लंबे समय तक ऑक्सीजन की समस्या है, वे व्यायाम करके अपने ऑक्सीजन स्तर को बढ़ा सकते हैं।  

नीचे कुछ ऐसी एक्सरसाइज के बारे में दिया गया है जो आपका Oxygen Level बढ़ाने में मदद करेंगी -

सर्दी खांसी होने पर बलगम की समस्या आम है, पोस्ट्युरल ड्रेनेज के जरिये आप इससे छुटकारा पा सकते हैं। इसमें आपको सीधे होकर पीठ के बल लेटें। आप इसे 30 सेकंड के लिए दिन में 3 से 4 बार कर सकते हैं। यह स्राव को जुटाने में मदद करेगा, जिससे खांसी या कफ सही हो जाएगा।

कोरोना की दूसरी लहर के दौरान मरीजों में सांस लेने में की समस्या अधिकतर देखि गयी, इसपर डॉक्टर्स  इस एक्सरसाइज को करने के लिए कहा। इसके लिए एक हाथ अपने पेट पर और दूसरा अपने सीने पर रखें। फिर अपनी नाक से धीरे-धीरे सांस लें, अपने हाथ को अपने नाभि से ऊपर उठाने पर ध्यान केंद्रित करें और अपना दूसरा हाथ अपनी छाती पर रखें रहें। होठों से धीरे-धीरे सांस छोड़ें। एब्डो-डायाफ्रैगमैटिक ब्रीदिंग फेफड़ों को मजबूत बनाती है, और सांस लेने की समस्या को समाप्त करने में सहायता करती है। 

अपनी आँखें बंद करें और कल्पना करें कि आप एक लिफ्ट से ऊपर जा रहे हैं। जब आप पहली मंजिल पर पहुंचें, तो एक सेकंड के लिए धीरे-धीरे सांस लें, फिर अपनी सांस को रोककर रखें। जैसे ही आप दूसरी मंजिल पर पहुँचते हैं, फिर से रुकने से पहले एक और 2 सेकंड के लिए साँस लेना जारी रखें। फिर, 3 सेकंड के लिए श्वास लें और तब तक दोहराएं जब तक आप और अधिक श्वास नहीं ले सकते। आप प्रत्येक प्रयास के बाद आराम करते हुए इसे प्रति दिन 3 से 5 बार दोहरा सकते हैं।

इस एक्सरसाइज के लिए आपको एक कप पानी और एक स्ट्रॉ की जरूरत होगी। अपने पानी के कप में बुलबुले निकालने के लिए स्ट्रॉ के माध्यम से धीरे-धीरे साँस छोड़ने से पहले गहरी साँस लें और 1 सेकंड के लिए रुकें। इसे आप केवल दस बार बैठकर या खड़े होकर कर सकते हैं। 

85 प्रतिशत से 90 प्रतिशत से कम का सैचुरेशन स्तर निमोनिया जैसी अधिक गंभीर स्वास्थ्य समस्या का संकेत दे सकता है। नतीजतन, यह सलाह दी जाती है कि आप अस्पताल जाएं या चिकित्सा सहायता के लिए कॉल करें। हालांकि, जब आप चिकित्सा सहायता की प्रतीक्षा कर रहे हों, तो आप ऑक्सीजन सैचुरेशन बढ़ाने के लिए इस प्रक्रिया का उपयोग कर सकते हैं।

यह याद रखें कि कई पुरानी स्वास्थ समस्याएं, जैसे अस्थमा, एनीमिया, सीओपीडी, एम्फाइज़िमा, या हृदय की समस्याएं, (asthma, anemia, COPD, emphysema, or heart problems) भी ऑक्सीजन सैचुरेशन में कमी का कारण बन सकती हैं। इन मामलों में, कुछ भी करने से पहले डॉक्टर से परामर्श करना महत्वपूर्ण है। 

शरीर में बढ़े हुए Blood Oxygen Level के लाभ:

जब आप शरीर में Blood Oxygen Level बढ़ाते हैं, तो यह आपके शरीर को अधिक ऑक्सीजन प्राप्त करने में मदद कर सकता है। यह कार्यक्षमता में सुधार करने का एक शानदार तरीका है, जिससे आप लंबे समय तक काम कर सकते हैं या अपने पूरे दिन के लिए अधिक ऊर्जावान बने रह सकते हैं। साथ ही, इस सरल तकनीक के कई अन्य लाभ भी हो सकते हैं:

  • यह तनाव को दूर करने में मदद कर सकता है

  • व्यायाम करते समय यह आपको अधिक सहनशक्ति दे सकता है

  • यह खेल गतिविधियों को आपके लिए आसान और कम थकावट वाला बना सकता है

  • व्यायाम के दौरान यह आपकी हृदय गति को कम कर सकता है

  • यह वर्कआउट से रिकवरी में मदद करता है

  • यह आपके मस्तिष्क को एक्टिव रखने में मदद करता है

Oxygen का Level क्यों महत्वपूर्ण है?

हृदय गति, रक्तचाप, श्वसन दर और शरीर के तापमान के साथ, ऑक्सीजन सैचुरेशन को एक चिकित्सा परीक्षा में सबसे महत्वपूर्ण संकेतों में से एक माना जाता है। ब्लड ऑक्सीजन का स्तर सीधे शरीर के भीतर असामान्यताओं या बीमारी से संबंधित होता है, और कम ब्लड ऑक्सीजन लेवल एक गंभीर स्वास्थ्य समस्या को जन्म दे सकता है, जैसे:

  • सांस लेने में समस्या (Breathing problems): सीओपीडी, अस्थमा, एम्बोलिज्म, एम्फाइज़िमा, सिस्टिक फाइब्रोसिस (COPD, asthma, embolism, emphysema, cystic fibrosis)

  • हृदय रोग (Heart disease): हार्ट फेलियर 

  • एनीमिया (Anemia)

इन सभी स्वास्थ समस्याओं के निदान में सहायता करने के अलावा, ऑक्सीजन सैचुरेशन का उपयोग यह ट्रैक करने के लिए भी किया जा सकता है कि रोगी किसी स्पेसिफिक कंडीशन के उपचार में कितनी अच्छी प्रतिक्रिया दे रहा है।

Oxygen Saturation बढ़ाने के लिए श्वास व्यायाम:

जब आप सांस लेते और छोड़ते हैं, तो आपके फेफड़े ऑक्सीजन को रक्तप्रवाह में ले जाते हैं। इस तरह, अधिक ऑक्सीजन सीधे आपकी कोशिकाओं में जाने लगती है। जब आप व्यायाम कर रहे हों तो आपको ज्यादा से ज्यादा ऑक्सीजन का इस्तेमाल करना चाहिए! इसके लिए आपको श्वास व्यायाम करने चाहिए जो ब्लड ऑक्सीजन के स्तर को बढ़ाते हैं और कार्यक्षमता में सुधार करते हैं। ये साँस लेने के व्यायाम दिन के अलग-अलग समय पर किए जा सकते हैं, लेकिन सबसे महत्वपूर्ण समय वर्कआउट के दौरान होता है।

अपने व्यायाम रूटीन से बेहतर परिणाम प्राप्त करने के लिए, इन तीन सरल श्वास व्यायामों को आज़माएँ:

  • गहरी सांस लेना (Deep Breathing)

जोर से गिनते हुए अपने मुंह से प्रत्येक सांस के साथ गहरी सांस लें और पूरी तरह से सांस छोड़ें:

1-2-3-4-5-6 (साँस लें)

7-8-9-10-11 (साँस छोड़ें)

12-13-14-15 (रिकवर)

16 (फिर से यही क्रम दोहराएं)

  • नाक से रुक-रुक कर सांस लेना (Nose Breathing)

पाँच तक गिनें और अपनी नाक के माध्यम से सांस लें और फिर अपने मुँह से साँस छोड़ते जाएँ । इस प्रक्रिया को हर मिनट में तीन बार कुल छह मिनट तक करें। 

COVID-19 और ऑक्सीजन सैचुरेशन कैसे संबंधित हैं?

COVID-19 एक वायरस है जो मुख्य रूप से श्वसन प्रणाली को प्रभावित करता है। यह सूखी खांसी, सीने में जकड़न, सांस लेने में कठिनाई और थकान जैसे लक्षण पैदा करता है। COVID-19 से संक्रमित लोगों में ऑक्सीजन का स्तर थोड़ा कम होने की आशंका है क्योंकि फेफड़े सामान्य रूप से काम नहीं करते और ऑक्सीजन का ठीक से आदान-प्रदान नहीं कर सकते हैं।

COVID-19 वाले लोगों में ऑक्सीजन सैचुरेशन 90-95 प्रतिशत से ऊपर रखी जानी चाहिए। यदि रोगी का स्तर इस सीमा से नीचे आता है, तो उसकी जांच की जानी चाहिए, जिससे डॉक्टर उसे अस्पताल में ऑक्सीजन थेरेपी दे सके। अधिक गंभीर COVID-19 मामलों में, ब्लड ऑक्सीजन का स्तर 80% से नीचे गिर सकता है, ऐसी में अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता होती है। 

ऑक्सीजन के स्तर को कैसे मापें?

रक्त में ऑक्सीजन के स्तर को ऑक्सीमेट्री (oximetry) नामक एक परीक्षण का उपयोग करके मापा जा सकता है। यह परीक्षण दो तरीकों से किया जा सकता है:

  • पल्स ऑक्सीमीटर (Pulse Oximeter)

यह ऑक्सीजन सैचुरेशन को मापने का सबसे सामान्य और सरल तरीका है। यह एक ऑक्सीमीटर से बना होता है जिसे उंगली की नोक पर रखा जाता है। यह उपकरण नाखून के माध्यम से एक लेजर को निर्देशित करके ऑक्सीजन के स्तर को मापता है। पल्स ऑक्सीमीटर का उपयोग करके घर पर ऑक्सीमेट्री परीक्षण किया जा सकता है। ये आमतौर पर किसी फार्मेसी या मेडिकल सप्लाई स्टोर पर उपलब्ध होते हैं। घर पर किसी एक का उपयोग करते समय, सुनिश्चित करें कि आपकी उंगलियां में नेल पॉलिश नहीं लगा है, ताकि यह अधिक सटीक परिणाम सुनिश्चित कर सके।

  • आर्टेरियल ब्लड गैस टेस्ट (Arterial Blood Gas)

यह टेस्ट करने का एक आम विकल्प है, लेकिन यह रक्त में ऑक्सीजन की सही मात्रा निर्धारित करने का सबसे सटीक तरीका है। इसके लिए ब्लड सैंपल की आवश्यकता होती है, जिसका प्रयोगशाला में विश्लेषण किया जाता है। आर्टेरियल ब्लड गैस टेस्ट से रक्त से संबंधित अन्य महत्वपूर्ण बातों की भी जानकारी हो जाती है जैसे मूल्यों में blood pH, ऑक्सीजन का आंशिक दबाव (pO2), और कार्बन डाइऑक्साइड (pCO2) का आंशिक दबाव शामिल है।  

क्या है सामान्य ब्लड ऑक्सीजन स्तर?

किसी व्यक्ति के मेडिकल हिस्ट्री यानि चिकित्सा इतिहास के आधार पर सामान्य ब्लड ऑक्सीजन लेवल भिन्न होता है। स्वस्थ लोगों में ऑक्सीजन का स्तर 95 प्रतिशत से अधिक रहता है। अधिकांश समय, 98 प्रतिशत से ऊपर सैचुरेशन लेवल सामान्य होता है।

हालांकि, श्वसन रोगों (जैसे सीओपीडी या अस्थमा) के इतिहास वाले लोगों में, ऑक्सीजन सैचुरेशन 88 से 95 प्रतिशत तक हो सकती है। 95% से कम ब्लड ऑक्सीजन के स्तर की जाँच हमेशा एक डॉक्टर द्वारा किया जाना चाहिए जो यह निर्धारित कर सकता है कि उनके लिए किस सीमा को सामान्य माना जा सकता है। अतः सामान्य ब्लड ऑक्सीजन स्तर रोगी के चिकित्सा इतिहास द्वारा निर्धारित की जाएगी।

रक्त प्रवाह के अनुकूल सर्वश्रेष्ठ भोजन:

  • लाल मिर्च

  • अनार

  • प्याज

  • दालचीनी

  • लहसुन

  • मछली

  • हल्दी

  • पत्तेदार साग

  • खट्टे फल

  • अखरोट

  • टमाटर

  • जामुन

  • अदरक

निष्कर्ष

Blood में Oxygen के स्तर को बढ़ाने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?

हाइपरवेंटिलेशन (hyperventilation) नामक तकनीक से ऑक्सीजन सैचुरेशन को आसानी से बढ़ाया जा सकता है। गहरी सांस लें, 10 सेकंड के लिए अपनी सांस को रोककर रखें और जोर से सांस छोड़ें। सुनिश्चित करें कि आप 10 सेकंड के बाद सामान्य रूप से सांस ले रहे हैं।

बढ़े हुए ब्लड ऑक्सीजन लेवल के लाभ: सहनशक्ति में वृद्धि, बेहतर प्रदर्शन और बढ़ी हुई मानसिक स्पष्टता। 

Think with Niche पर आपके लिए और रोचक विषयों पर लेख उपलब्ध हैं एक अन्य लेख को पढ़ने के लिए कृपया नीचे  दिए लिंक पर क्लिक करे-

विश्व स्वास्थ्य दिवस - स्वस्थ समाज, समृद्ध राष्ट्र 

TWN In-Focus