विज्ञान, एक दुविधा

1688
16 Oct 2021
7 min read

Post Highlight

बंदूकें, रिवॉल्वर, टैंक और लड़ाकू विमान, विस्फोटक, परमाणु बम आदि का आविष्कार निर्दोष जनता की रक्षा के लिए एक मजबूत सुरक्षा प्रणाली विकसित करने के लिए किया गया था लेकिन उनका दुरुपयोग अब मानवता को कुचल रहा है। मनुष्य ने परमाणु हथियारों के अलावा जैविक और रासायनिक हथियारों का भंडार करना शुरू कर दिया है। ये हथियार भी बेहद खतरनाक हैं।ओजोन परत खतरे के संकेत दे रही है।

Podcast

Continue Reading..

आधुनिक युग विज्ञान का युग है। विज्ञान और प्रौद्योगिकी का प्रभाव हमारे जीवन के क्षेत्रों में स्पष्ट है। मानव जीवन में इसका योगदान विविध और व्यापक है। विज्ञान के अनेकों आविष्कार ने मानव जीवन को काफी सहज और सरल बना दिया है। लेकिन जहां एक और इसके कई सकारात्मक प्रभाव है तो दूसरी ओर इसके विनाशकारी प्रभाव भी देखे जा सकते हैं। अनेकों विनाशकारी हथियार,  रसायनिक और जैविक हथियार आदि  आविष्कारों के दुरुपयोग ने मानवता का विनाश किया है। साथ ही विज्ञान की सहायता से औद्योगिकीकरण ने पर्यावरण को भी काफी नुकसान पहुंचाया है। अतः विज्ञान वरदान है या अभिशाप इसका निर्णय मुश्किल है। यह पूरी तरह से इसके इस्तेमाल के ढंग पर निर्भर करता है।

विज्ञान एक अभिन्न अंग

आज‌ हम विज्ञान और प्रौद्योगिकी के युग में रहते हैं। मनुष्य विज्ञान की सहायता के बिना नहीं रह सकता। विज्ञान ने हमारे जीवन को इतना घेर लिया है कि विज्ञान की सहायता के बिना हमारे दैनिक कार्य में कुछ भी नहीं हो सकता है।  हमारा भोजन, परिवहन, शिक्षा, प्रशासन, मनोरंजन और सामाजिक जीवन सभी विभिन्न तरीकों से विज्ञान से जुड़े हुए हैं। आज विज्ञान हमारे जीवन में इस तरह समा गया है कि विज्ञान के बिना जीने की कल्पना करना वाकई मुश्किल है। जीवन का प्रत्येक भाग चाहे वह भोजन हो या मनोरंजन विज्ञान और उसके विभिन्न तरीकों से जुड़ा हुआ है। विज्ञान मानव जाति के लिए महान संपत्ति रही है जिसने हमारे जीवन को आरामदायक बना दिया है। वे हमारे विकास में मुख्य उपकरण साबित हुए हैं। इस प्रश्न का उत्तर देने के लिए कि विज्ञान मानव जाति के लिए वरदान के रूप में आया है या बर्बादी के लिए, उसके पहले यह जानना चाहिए आवश्यक है कि विज्ञान का वास्तव में अर्थ क्या है।  विज्ञान को अनुभवों का व्यवस्थित वर्गीकरण कहा जाता है। हमारे आस-पास होने वाली विभिन्न चीजें और घटनाएं आश्चर्यजनक हैं और संदेहजनक होती हैं जो विज्ञान की ही देन हैं।

विज्ञान का योगदान

विज्ञान का उद्देश्य सत्य की खोज है, और अब तक अज्ञात चीजों को जानना है। आज की सभ्यता विज्ञान के क्षेत्र में की गई अनेक खोजों का परिणाम है।  सरल पहिये के आविष्कार से हमारा आधुनिक औद्योगीकरण हुआ है।ऊर्जा के स्रोत के रूप में बिजली ने दुनिया में क्रांति ला दी है। चिकित्सा विज्ञान इतना उन्नत है कि एक भारतीय का औसत जीवन 35 वर्ष से बढ़कर 62 वर्ष हो गया है।  विज्ञान ने हमारी हरित क्रांति की सफलता में योगदान दिया है। यह सब संभव है विज्ञान के कारण। रेडियो, टी.वी. और सिनेमा जो हमारा मनोरंजन करते हैं, विज्ञान के ही उत्पाद हैं। सूचना प्रौद्योगिकी के एक भाग के रूप में इंटरनेट प्रौद्योगिकियों का एक उत्कृष्ट उपहार है। हम न केवल इंटरनेट की सहायता से विज्ञान और अन्य विषयों के बारे में  जागरूकता प्राप्त कर सकते हैं, बल्कि इसकी सहायता से हम अपने दोस्तों और परिवार के साथ निरंतर आधार पर जुड़े रहते हैं। विज्ञान ने शिक्षा के क्षेत्र में भी एक बड़ा योगदान दिया है। विज्ञान और प्रौद्योगिकी का उपहार वह है जो हम अपने चारों ओर देखते हैं। सभी घटनाएं विज्ञान और प्रौद्योगिकी का उत्पाद हैं, चाहे वह स्मार्टफोन, पंखे, टायर, कार, कपड़े, कागज, टूथब्रश, बिजली, माइक्रोवेव, कार, रेडियो, टेलीविजन, लैपटॉप आदि हों। आज देखा जाए तो जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में विज्ञान ने अपना योगदान दिया है। एक तरफ जहां विज्ञान का मानव जीवन में महत्त्वपूर्ण योगदान है तो दूसरी ओर यह विज्ञान ही है, जिसने डायनामाइट, बंदूकें, राइफल, रॉकेट, परमाणु बम, हाइड्रोजन बम आदि जैसे विनाशकारी हथियारों को जन्म दिया। यह विज्ञान है जिसने विद्युत शक्ति और परमाणु शक्ति दी। 

विज्ञान, वरदान या अभिशाप

यह तय करना कि विज्ञान मानव जाति के लिए वरदान है या अभिशाप, कोई आसान निर्णय नहीं है। जैसा कि हम जानते हैं कि हर सिक्के के दो पहलू होते हैं, विज्ञान के साथ भी ऐसा ही है। इसके बारे में हर व्यक्ति के अपने विचार होते हैं कुछ कहते हैं कि यह अच्छा है जबकि अन्य कहते हैं कि यह बुरा है लेकिन यह मनुष्य पर निर्भर करता है कि वह इसका उपयोग कैसे करता है। क्या हम बिजली के बिना अपने जीवन की कल्पना कर सकते हैं? शायद बिल्कुल नहीं। आविष्कार मनुष्य के जीवन को बेहतर बनाने के विचार से किए जाते हैं, न कि उनकी  शांति को नष्ट करने के विचार से। विज्ञान के सुधार से प्रौद्योगिकी का विकास होता है जिसकी हमें परिष्कृत जीवन के लिए आवश्यकता होती है।

लेकिन हर चीज की एक सीमा और एक संतुलन होता है। यदि परमाणु ऊर्जा का उपयोग शांतिपूर्ण उद्देश्यों के लिए किया जाता है, तो डरने की कोई आवश्यकता नहीं है लेकिन वहीं उसे अगर विनाशकारी उद्देश्यों के साथ उपयोग किया जाता है तो यह मानवता के लिए अभिशाप बन जाती हैं।‌ लेकिन आज आधुनिक मनुष्य इसका उपयोग अपने साथी मनुष्यों को मारने और प्रकृति को नष्ट करने के लिए कर रहा है। 

परमाणु ऊर्जा की विनाशकारी क्षमता 1945 में देखी गई, जब यूनाइटेड स्टेट्स ने दो जापानी शहरों हिरोशिमा और नागासाकी पर परमाणु बम गिराए। जो लोग परमाणु बमबारी से बच गए, उन्हें इसके परिणाम भुगतने पड़े। यह एक भयानक तथ्य है कि विकासशील देश की राष्ट्रीय आय का अधिकांश भाग नवीनतम हथियार, बम और मिसाइल प्राप्त करने पर खर्च किया जाता है।

बंदूकें, रिवॉल्वर, टैंक और लड़ाकू विमान, विस्फोटक, परमाणु बम आदि का आविष्कार निर्दोष जनता की रक्षा के लिए एक मजबूत सुरक्षा प्रणाली विकसित करने के लिए किया गया था लेकिन उनका दुरुपयोग अब मानवता को कुचल रहा है। मनुष्य ने परमाणु हथियारों के अलावा जैविक और रासायनिक हथियारों का भंडार करना शुरू कर दिया है। ये हथियार भी बेहद खतरनाक हैं। इसके अलावा, विज्ञान की एक और रचना पर्यावरण का प्रदूषण है। विज्ञान की सहायता से औद्योगीकरण ने वायु, जल, भोजन और वातावरण को प्रदूषित कर दिया है। ओजोन परत खतरे के संकेत दे रही है। तो यहाँ मनुष्य के लिए विज्ञान बर्बादी का कारण माना जाताविज्ञान, एक दुविधा

TWN In-Focus