स्टार्टअप में एम्प्लॉयर ब्रैंडिंग की भूमिका

1956
24 Mar 2022
5 min read

Post Highlight

किसी देश की अर्थव्यवस्था के लिए स्टार्टअपस (Startups) बहुत महत्वपूर्ण हैं और अभी भी इसके बारे में लोग पूरी तरह से जागरूक नहीं हैं। यही कारण है कि अधिकांश लोगों को इस बात की जानकारी नहीं है कि नियोक्ता ब्रांड या एम्प्लॉयर ब्रांड (employer brand) क्या है और यह स्टार्टअप्स या व्यवसाय के लिए कितना महत्वपूर्ण है।

इस ब्लॉग में आपको कुछ ऐसे टिप्स मिलेंगे जो आपको एम्प्लॉयर ब्रांड बिल्डिंग में मदद करेंगे और सफलता के मार्ग पर आपको प्रशस्त करेंगे।

यह लेख  विनीता जी के इंग्लिश लेख का मंजू गुप्ता के द्वारा किया गया हिंदी रूपांतरण  है।

If you want to read this article in English then please click on the link given at the end of this article

Podcast

Continue Reading..

एक स्टार्टअप के रूप में, अधिकांश एम्प्लॉयर 'ब्रांड' (Brand) को कंपनी का लोगो और प्रचार करने का एक माध्यम मानते हैं। एक आकर्षण और प्रभावशाली नियोक्ता ब्रांड बनाने पर बहुत कम ध्यान केंद्रित करते हैं।  

आइए जानते हैं कि नियोक्ता या एम्प्लॉयर ब्रांडिंग क्या है?

नियोक्ता ब्रांडिंग का मतलब आपके यहाँ काम करने वालों, कर्मचारियों की प्रतिष्ठा (employer's reputation) को प्रबंधित करना और जॉब सीकर्स (job seekers), एम्प्लाइज (employees) और स्टेकहोल्डर्स (stakeholders) के बीच अपने एम्प्लॉयर्स को प्रभावी ढंग से प्रदर्शित करना है। इसमें वह सब कुछ करते हैं जो आपकी कंपनी को शीर्ष नियोक्ता (top employer) के रूप में स्थापित कर सके।

नियोक्ता ब्रांडिंग रणनीति (Employer Branding Strategy)

एक नियोक्ता ब्रांड इस बात को दर्शाता है कि बाजार में उपभोक्ता (consumers), मौजूदा कर्मचारी (existing employees) और भविष्य के संभावित कर्मचारी (future potential employees) कंपनी को कैसे देखते हैं। यह सब जानते है कि नौकरी चाहने वाले किस ओर आकर्षित होते हैं और किन चीज़ों से दूर भागते हैं। आंकड़ों के अनुसार 10 में से 9 स्टार्टअप विफल हो जाते हैं, एक मजबूत नियोक्ता ब्रांड होने से ज्यादातर कर्मचारी आपकी कंपनी में शामिल होने के लिए उत्साहित होंगे और उद्देश्यपूर्ण ढंग से आपकी कंपनी के साथ जुड़ेंगे, इससे आपके स्टार्टअप को एक स्थिर शुरुआत मिलेगी। जब आपके यहाँ काम करने वाले कर्मचारी या टीम मजबूत होने यानि जब पूरी लगन से काम करेंगे तभी आपका स्टार्टअप भी उतना ही मजबूत होगा। क्योंकि एक अच्छी टीम ही एक स्टार्टअप को सफल बनाती है।

इसलिए, लोगों के लिए या नौकरी चाहने वालों के लिए उनके शीर्ष कैरियर प्राथमिकताओं के अनुरूप एक सोशल मीडिया रणनीति (social media strategy) बनाना जरूरी है। छोटे रूप में तैयार किए गए डिजिटल मार्केटिंग अभियान (digital marketing campaigns) talent-driven market में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं जिससे लोग ज्यादातर आपकी कंपनी की ओर आकर्षित होंगे और जुड़ना चाहेंगे। सोशल मीडिया रणनीति कम से कम लागत में ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचने का एक अच्छा माध्यम है।

इसके साथ ही हमे प्रमुख ट्रेंड्स (key trends) के साथ जुड़ना होगा जो आपके उद्योग से संबंधित हो, इसके अलावा आपकी कंपनी के विशेषज्ञों द्वारा तैयार की गई market intelligence जानकारी एक मजबूत ब्रांड के निर्माण पर अच्छा प्रभाव डाल सकती है।

अतः अपने नियोक्ता या एम्प्लॉयर ब्रांड (employer brand) में उतना ही निवेश करें जितना आप अपने उपभोक्ता या कंस्यूमर ब्रांड (consumer brand) पर करते हैं।

नीचे दिए गए बिंदुओं से समझिए कि अपने ब्रांड की सोशल मीडिया उपस्थिति कैसे दर्ज करें:

  • टैलेंटेड या प्रतिभाशाली कैंडिडेट्स को इंगेज करने या जोड़ने के लिए कंपनी में होने वाले रिक्रूटमेंट इवेंट्स के वीडियो (recruitment events videos) अपने सोशल मीडिया पर साझा करें। इसके अलावा मौजूदा कर्मचारियों को अपने ब्रांड अनुभव (brand experience) और व्यक्तिगत विकास यात्रा को उनके प्लेटफॉर्म पर साझा करने के लिए प्रोत्साहित करें, ऐसे कर्मचारियों को खास कर जो आपकी मार्केटिंग टीम के अनुसार उच्चतम पहुंच रखते हैं।
  • अपनी कंपनी की वेबसाइट पर करियर पेज (Career page) बनाएं जिससे लोग आपकी वेबसाइट (Website) पर जाकर आसानी से आवेदन कर सकें। संबंधित प्लेटफॉर्म पर होस्टिंग के लिए इसके लिंक साझा करें जिसमें विजन (Vision) या उद्देश्य (purpose), मिशन (mission), मूल्यों (values), नेतृत्व (Leadership), प्लेटफार्मों (platforms) और उत्पादों (products), विविधता पर प्रासंगिक आंकड़े, नौकरी विवरण के अलावा अपने उद्योग का वर्णन, और आवेदन प्रक्रिया जैसे सामान्य भर्ती प्रश्नों पर जानकारी उपलब्ध होनी चाहिए। ये भी हो सकता है कि नौकरी की पोस्टिंग प्रमुख जॉब पोर्टल्स (Job portals) द्वारा की जाए।
  • एक उभरते नियोक्ता ब्रांड के निर्माण के लिए एक सकारात्मक कैंडिडेट अनुभव (positive candidate experience) बनाना महत्वपूर्ण है। प्रतिकूल या बुरे अनुभव वाला कैंडिडेट रिक्रूटमेंट प्रक्रिया से बाहर हो जाता है और सोशल मीडिया पर जाने और ब्रांड के नकारात्मक प्रचार में योगदान करने की संभावना बढ़  जाती है। हालांकि, एक personalized positive candidate  का अनुभव बेहतर आउटरीच में मदद करता है।
  • कम लागत पर अधिक से अधिक आउटरीच के लिए टेक्स्ट रिक्रूटमेंट (text recruitment ) का लाभ उठाएं। हालांकि, इसे प्रासंगिक डेटाबेस तक पहुंच की आवश्यकता होगी, जिसे आप बना सकते हैं या सदस्यता ले सकते हैं।
  • कंपनी के पूर्व निर्धारित कर्मचारियों के साथ जुड़ें, जो संगठन की यात्रा को पारदर्शी रूप से साझा करने के लिए कंपनी की संस्कृति, नई कार्यशैली, वर्तमान की स्थिति और उपलब्धियों पर सोशल मीडिया फ्लैश कहानियों और ब्लिप्स पर प्रकाशित करेंगे। यह बिना किसी दबाव के कंपनी के बारे में लिखने का विकल्प है।
  • इंडस्ट्री इवेंट्स (industry events) में भाग लें, न केवल नवीनतम उद्योग प्रवृत्तियों के साथ उपस्थित होने के लिए बल्कि प्रासंगिक समूहों और संभावित भावी उपभोक्ताओं और कर्मचारियों के बीच अपनी कंपनी को स्थापित करने के लिए भी यह आवश्यक है।
  • कम बजट की साधारण भर्ती प्रक्रियाओं (casual recruitment events) का आयोजन करें, जिन्हें कैंडिडेट्स को औपचारिक रूप से तैयार होकर आने की आवश्यकता नहीं है। यह प्रक्रिया कॉफी और स्नैक्स के साथ स्थानीय कैफे में भी हो सकती है और जहां एक अच्छा माहौल हो और आपकी कंपनी के कल्चर से मेल खाता हो। नेटवर्किंग (networking) आपके स्टार्टअप के लिए सबसे उपयुक्त उम्मीदवार प्राप्त करने का सबसे अच्छा विकल्प है। क्योंकि इसमें आपको कैंडिडेट का व्यक्तिगत पक्ष देखने को मिलता है जो दीर्घकालिक स्थायी संबंध (sustainable relationship) और कैंडिडेट के व्यक्तित्व के बारे में जानकारी प्राप्त करने में मदद करता है।
  • ऐसे कैंडिडेट्स की एक टैलेंट कम्युनिटी (talent community) बनाएं जिन्होंने अतीत में या तो साक्षात्कारों के माध्यम से आपके ब्रांड में रुचि दिखाई हो, आपकी वेबसाइट की खोज की हो, या आपकी कंपनी के कार्यक्रमों और ब्लॉगों में भाग लिया हो या प्रतिक्रिया दी हो, लेकिन वर्तमान में आपके साथ नहीं हैं। ज्यादा से ज्यादा लोगों तक कंपनी की जानकारी साझा करने से आप लोगों के बीच कंपनी के साथ जुड़ाव की संभावनाओं को बढ़ा सकते हैं।

कंपनी कल्चर (company culture), प्रोडक्ट लॉन्च (product launch), नयी सफलता, काम में मज़ा (fun at work), कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारियों (corporate social responsibilities), उद्योग वर्णन आदि दर्शाने के लिए आप एक फेसबुक समूह (facebook group) या ट्विटर हैंडल (twitter handle) भी शुरू कर सकते हैं जो आपकी कंपनी की आउटरीच भी बढ़ाएगा। आपकी कंपनी की प्रतिस्पर्धी आर्गेनाइजेशन को बेंचमार्क करना एक पहला और आसान विकल्प हो सकता है जो आपको जो आपको एम्प्लॉयर ब्रांड बनाने में मदद करेगा।  

कृपया ध्यान दें:  

हम थिंक विथ नीस में अपने प्लेटफार्म पर उद्योग विशेषज्ञों के विचारों को साझा करते हैं। आइए हम सामूहिक रूप से वैश्विक जागरूकता के मंच का निर्माण करें!  हमें अपनी बात भेजने के लिए editor@thinkwithniche.com पर सम्पर्क करें।   

आप विनीता कुकरेती जी को लिंक्डइन पर भी फॉलो कर सकते हैं: https://www.linkedin.com/in/vineeta-kukreti-she-her-36441775/   

इसे इंग्लिश में पढ़ने के लिए कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें -  

Please click on the link below to read it in English-

The Art of Employer Branding In Bootstrap/Seed Funding Stage

https://www.author.thinkwithniche.com/allimages/project/thumb_5df63art-of-employer-branding-in-bootstrap-seed-funding-stage.jpg

TWN In-Focus