विश्व के प्रमुख इको-फ्रेंडली शहर

1655
04 Dec 2021
4 min read

Post Highlight

आज हम उस युग में जी रहे हैं जहाँ तकनीक और विज्ञान से प्राप्त सुख सुविधाओं के बिना जीने की हम कल्पना भी नहीं कर सकते। हम इसके साथ पैदा हुए हैं और धीरे-धीरे इसके आदी हो गए हैं । हम भूल गए की हमारा घर ये पृथ्वी धीरे-धीरे हमारी स्वार्थ सिध्दि की भेट चढ़ रही है। पर दुनिया के कुछ ऐसे शहर और जागरूक नागरिक हैं जो अपने दायित्व को समझते हुए अपने छोटे -छोटे प्रयासों से, पूरी दुनिया को जलवायु परिवर्तन Climate change की भयंकर त्रासदियों से बचाने की कोशिश कर रहे है। आइये जानते है ऐसे ही विश्व के प्रमुख Eco-Friendly शहरों के बारे में।

Podcast

Continue Reading..

आज हमारी धरती माता Mother Earth कितनी भयानक त्रासदियों से जूझ रही है, इसके बारे में हम रोज TV ,इंटरनेट internet ,समाचार पत्रों newspapers के माध्यम से बहुत कुछ सुनते हैं। इन सब को कई बार हम दुनिया के विनाश की विभिन्न तथाकथित भविष्यवाणियों से जोड़ कर भी देखने लगते है। जलवायु परिवर्तन से दुनिया की तबाही पर बनी प्रसिद्ध फ़िल्में जैसे Day After Tomorrow, The Impossible,2012 , जैसी कई फिल्मों को देख कर हमारी रूह काँप उठती है और हम सहम जाते हैं कि कहीं अगर ये सब असलियत में हो तो क्या होगा। जैसा कि कहा जाता है कि फ़िल्में समाज का आइना होती हैं तो ये सभी फ़िल्में इन विषयों को इसीलिए ले रही हैं क्यूंकि ये आज के समय का एक ज्वलंत और संवेदनशील मुद्दा है। 

ग्रीनहाउस गैसों Greenhouse Gases का उत्सर्जन बढ़ रहा है, वैज्ञानिकों की मौसम सम्बन्धी भयावह भविष्यवाणियां weather prediction सच होती दिख रही हैं। हमारे शहरों में हवा खतरनाक रूप से ज़हरीली होती जा रही है, पीने योग्य पानी का अभाव  हो रहा है, समुद्र, नदियों का प्रदूषण बढ़ रहा है, जंगल और प्राकृतिक आवास नष्ट हो रहे हैं, हमारे द्वारा निर्मित प्लास्टिक और कचरे के पहाड़ हमारे ही ऊपर टूट पड़ने को बेताब हैं। ऐसे ना जाने कितने कारण हैं जिनका उल्लेख अगर किया जाये तो ये पूरा लेख भी उसके लिए कम पड़ेगा। पर इतनी सारी समस्याओं, नकारात्मकताओं के बीच हमें उम्मीद का दामन नहीं छोड़ना है, एक मशहूर शायर ने लिखा है "एक न एक शम्मा अंधेरे में जलाये रखिये, सुबह होने को है, माहौल बनाये रखिये"। ये पंक्तियाँ जिस तरह हमें अँधेरे में एक शम्मा जलाये रखने यानि उम्मीद का दिया जलाये रखने की सीख देती हैं, उसी तरह दुनिया के कुछ ऐसे शहर हैं जो अपने प्रयासों से न सिर्फ अपने नागरिकों, जीव जंतुओं और पूरे वातावरण को सुरक्षित किये हुए हैं बल्कि पूरी दुनिया को इस मुश्किल भरे वक्त में एक उम्मीद दे रहे हैं और एक उदाहरण भी प्रस्तुत कर रहे हैं। आइये जानते हैं दुनिया के कुछ ऐसे ही Eco-Friendly शहरों के बारे में –

केप टाउन, दक्षिण अफ्रीका Cape Town, South-Africa

केप टाउन Cape Town दुनिया के उन कुछ चुनिंदा शहरों में शामिल है जिसने अपने शहर को इको - फ्रेंडली Eco-Friendly बनाने के लिए व्यापक प्रयास  किया और अपने नागरिकों में एक सेंस ऑफ़ रेस्पॉन्सिबिल्टी पैदा की। केप टाउन ग्लोबल एक्शन प्लान फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट डेटा Globle Action Plan For Sustainable Data को अनौपचारिक रूप से केप टाउन दक्षिण अफ्रीका में 15 जनवरी 2017 को पहले संयुक्त राष्ट्र वर्ल्ड डेटा फोरम में लॉन्च किया गया था। इसी दिशा में आगे कदम बढ़ाते हुए इसी साल 2017 में प्लास्टिक-मुक्त क्रांति की शुरुआत करते हुए केप टाउन दुनिया का पहला प्लास्टिक-मुक्त किराना Plastic-Free Grocery Shopping At Nudefoods स्टोर शुरू करे वाला शहर बन गया। न्यूड फूड्स कैप टाउन के नागरिकों को खरीदारी करने का एक वैकल्पिक तरीका देता है - आपके डिब्बे को बेकार पैकेजिंग से भरे बिना, उच्च गुणवत्ता वाले, टिकाऊ, स्वादिष्ट खाद्य पदार्थों के साथ पर्यावरण के प्रति जागरूक होने के महत्वपूर्ण सन्देश को फैलाते हुए, यह थोक होलफूड्स स्टोर ज़ीरो वेस्ट के सिद्धांतों पर आधारित है। दक्षिण अफ्रीका के पहले वाणिज्यिक पवन ऊर्जा फार्म से बिजली का उपयोग करने, बाइक मार्गों के लिए शहर को बदलने जैसे प्रमुख पर्यावरणीय कदम उठाकर केप टाउन अफ्रीका के पूरे महाद्वीप के लिए एक मिसाल कायम कर रहा है। आर्गेनिक टेक्सटाइल Organic Textiles उद्द्योग को बढ़ावा देते हुए इस शहर ने बड़े पैमाने पर Organic fabric का उत्पादन कर पर्यावरण के अनुकूल, खूबसूरत और टिकाऊ कपड़ों का तोहफा अपने नागरिकों को दिया है।

सन फ्रांसिस्को, कैलिफोर्निया San Francisco California

नीले पानी से घिरा, साफ नीला आकाश, प्राकृतिक पार्कों और मीलों जंगलों से घिरा, सैन फ़्रांसिस्को यू.एस. के सबसे हरे-भरे शहरों में से एक है। इसकी आधी आबादी या तो पैदल चलती है, बाइक चलाती है या काम पर जाने के लिए सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करती है। वेस्ट कोस्ट पर सबसे प्रगतिशील, सहिष्णु और आगे की सोच वाले शहरों में से एक के रूप में, सैन फ्रांसिस्को San Francisco बाकी अमेरिका के लिए पर्यावरण आंदोलन का नेतृत्व कर रहा है।

2015 ट्रैवलर्स फेवरेट अवार्ड्स 2015 Travelers’ Favorites Awards,  में, गोगोबोट डॉट कॉम Gogobot.com ने सैन फ्रांसिस्को को संयुक्त राज्य में तीसरे नंबर का और पूरी दुनिया में पांचवे नंबर का टूरिस्ट स्पॉट का स्थान दिया है। यह उत्तरी अमेरिका के सबसे हरे भरे शहरों में से एक है। इसे इको फ्रेंडली सन्दर्भों में सैन फ्रांसिस्को San Francisco को global powerhouse माना जाता है। सैन फ्रांसिस्को पर्यावरण की सफाई के मामले में,  कचरे के उचित निपटान, पर्यावरण के अनुकूल इमारतों, वायु गुणवत्ता, कार्बन उत्सर्जन, परिवहन और भूमि उपयोग के मामले में अग्रणी है। यहाँ की नगरपालिका द्वारा कचरे का रिकॉर्ड तोड़ 77 प्रतिशत पुनर्नवीनीकरण recycled किया जाता है। सैन फ्रांसिस्को के प्रत्येक 10,000 घरों में से 13.8 प्रतिशत घर सौर ऊर्जा solar energy पर निर्भर हैं, यह संख्या राष्ट्रीय औसत से दोगुनी है। 1,000 से अधिक होटलों को इको- फ्रेंडली होटल के रूप में स्थान दिया गया है। सैन फ्रांसिस्को न केवल प्लास्टिक बैग के उपयोग को प्रतिबंधित करने वाला पहला शहर  बना बल्कि उसने रीसाइकल्ड, कम्पोस्टेबल, सामग्री से बने बैग के प्रयोग को भी शुरू किया।

एम्स्टर्डम, नीदरलैंड Amsterdam, Netherlands

अपनी ऐतिहासिक सुंदरता, उदार संस्कृति, खान पान और विश्व प्रसिद्ध रेस्तरां restaurants, के साथ एम्स्टर्डम आज दुनिया के स्थापित शहरों में जाना जाता है। एम्स्टर्डम में अधिकांश नागरिक परिवहन के पसंदीदा साधन के रूप में अपनी साइकिल Cycle का उपयोग करते हैं। और अगर किसी के पास बाइक नहीं है, तो साइकिल चलाने को प्रोत्साहित करने के लिए पूरे शहर में किराए पर उपलब्ध हैं और दुनिया में सबसे ज्यादा साइकिल चलाने वाले लोगों की राजधानी वाले शहर का खिताब इसके पास है। साइकिल चलाने से न केवल लोग स्वस्थ रहते हैं बल्कि यह कार्बन उत्सर्जन और प्रदूषण को काफी हद तक कम करती है। यहाँ जैसे ही आप अपने विमान, ट्रेन या ऑटोमोबाइल से बाहर निकलते हैं तो एक साफ़ सुथरे शून्य-कचरा क्षेत्र में प्रवेश करते हैं, ये शहर CO2 उत्सर्जन को कम करने, प्लास्टिक को खत्म करने और थ्रिफ्ट संस्कृति के भविष्य को बढ़ावा देने के लिए समर्पित है।

पूरी दुनिया जहाँ ग्लोबल वार्मिग के नकारात्मक प्रभावों से जूझ रही है, राष्ट्रीय और अंतराष्टीय स्तर पर प्रयास किये जा रहे हैं। सयुंक्त राष्ट्र संघ United Nations, जैसी अंतराष्ट्रीय संस्थाए विभिन्न प्रमुख देशों के साथ मिल कर, अंतर्राष्ट्रीय करों के माध्यम से, प्रतिबंधों के माध्यम से इस वैश्विक समस्या का निदान करने का प्रयास कर रही है। इस दिशा में महत्वपूर्ण कदम बढ़ाते हुए ये शहर न सिर्फ अपने शहर बल्कि पूरे विश्व के लिए एक नज़ीर प्रस्तुत कर हमें एक उम्मीद के साथ-साथ नए तौर तरीकों के बारे में भी जागरूक कर रही है।

TWN In-Focus