नई कंपनी खोलते वक्त रखें, इन 10 जरुरी बातों का ध्‍यान

511
16 Nov 2022
7 min read

Post Highlight

ज्यादातर लोग चाहते हैं कि उनका अपना कोई काम या कारोबार हो और वे खुद अपने बॉस हों। हर कोई आज के समय में कोई ना कोई कंपनी, बिज़नेस या स्टार्टअप business or startup शुरू करने के बारे में सोचता है। जब हम आसपास देखते हैं कि लोग करोड़ों की कंपनी के मालिक बन गए हैं तो जाहिर सी बात है कि हमारे मन में नयी कंपनी शुरू करने का विचार आता है। लेकिन हममें से अधिकतर लोगों को यह पता ही नहीं होता कि how to start a company, एक कंपनी कैसे शुरू करनी चाहिए और वो कौन-कौन सी जरुरी बातें हैं जो हमे कंपनी शुरू करने से पहले जरूर मालूम होनी चाहिए। क्योंकि हम जब कोई भी बिज़नेस शुरू करते हैं तो उससे पहले हमे उस बिज़नेस के लिए कई तरह से तैयारी करनी होती है। उस तैयारी में हमें पैसा, समय और मेहनत के अलावा बहुत सारी बातों के बारे में जानना जरुरी है। जैसे कि कई लोगों को यह भी नहीं पता होता कि कंपनी कहां और कैसे रजिस्टर होगी। इसलिए आज इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि नई कंपनी खोलते वक्त कौन-कौन सी औपचारिकताएं पूरी करनी पड़ती हैं और किन-किन जरुरी बातों का ध्यान रखना चाहिए। 

Podcast

Continue Reading..

किसी भी बिजनेस को शुरू करने से पहले हमें बहुत सी चीज़ों पर गौर करना पड़ता है और बहुत सी बातें ध्यान में रखनी होती हैं। यानि नई कंपनी खोलते वक्त हमें अपनी कंपनी को सफल बनाने के लिए पहले उस बिज़नेस का बिज़नेस प्लान, मार्किट एनालिसिस आदि करना होता है। अधिकतर लोग अपनी कंपनी खोलने का सपना तो देखते हैं लेकिन कम ही लोग इसमें सफल हो पाते हैं और इसका कारण ये नहीं है कि कंपनी खोलना कोई मुश्किल काम है बल्‍कि वजह ये है कि लोगों को इसके बेसिक रूल्‍स और उन कुछ बेहद जरुरी बातों की जानकारी नहीं होती है, जो नई कंपनी खोलने के लिए जानना जरुरी होता है। बिना सही जानकारी के बिजनेस करने का उनका सपना अधूरा रह जाता है और वो सफल नहीं हो पाते हैं। इसलिए अगर आप भी अपनी कंपनी खोलना चाहते हैं तो इन नीचे दी गयी जरुरी बातों को जरूर ध्यान में रखें। अपना खुद का व्यवसाय करने का लाभ benefit of having your own business  प्राप्त करने के लिए आपको नीचे दिए गए सुझावों पर ज़रूर गौर फरमाना चाहिए। जिससे आप अपने स्वरोजगार का लाभ benefit of self employment बेहतर तरीके से उठा पाएं। 

नई कंपनी खोलते वक्त रखें, इन 10 जरुरी बातों का ध्‍यान Keep These 10 Important Things In Mind While Opening A New Company

1- कंपनी रजिस्ट्रेशन Company Registration

नई कंपनी खोलने के लिए सबसे पहले रजिस्ट्रेशन करना पड़ता है। आप कंपनी का रजिस्ट्रेशन फॉर्म ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही तरह से जमा कर सकते हैं। दरअसल रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया ऑनलाइन होने से लोगों को काफी आसानी हो गई है। किसी प्राइवेट लिमिटेड कंपनी private Limited company के रजिस्ट्रेशन के लिए दो सप्ताह का समय लगता है। यानि लगभग 14-20 दिन का समय लग सकता है और यह समय आपके डॉक्यूमेंट जमा करने और सरकार के द्वारा इसको स्वीकृति मिलने निर्भर करता है। इसलिए आपको रजिस्ट्रेशन से संबंधित डॉक्यूमेंट जल्दी जमा करा देने चाहिए इससे कंपनी को रजिस्टर्ड होने में ज्यादा समय नहीं लगेगा। 

2- कंपनी का नाम अट्रैक्टिव रखें Keep The Company Name Attractive

हम जब नयी कंपनी खोलते हैं तो सबसे पहले हमें कंपनी के नाम company name पर अच्छे से रिसर्च करना चाहिए। क्योंकि आपकी कंपनी का नाम अट्रैक्टिव होना चाहिए। कंपनी का नाम अट्रैक्टिव होने से काफी फर्क पड़ता है। साथ ही मार्केट स्टडी market study जरूर करें। यानि बिजनेस में आने से पहले आप ये तय कर लें कि आपने पूरे मार्केट की जानकारी ले रखी है। पूरे मार्केट का मतलब है कि अपने प्रोडक्ट वाले मार्केट की जानकारी आपको होनी चाहिए। जैसे प्रोडक्ट की मांग, उसका प्रारूप, उस प्रोडक्ट से होने वाला फायदा, नुकसान आदि की जानकारी होनी चाहिए। मार्केट स्टडी, आपके बिजनेस को ग्रोथ देने में भी सहायक होगी। 

3- कंपनी में अधिकतम 200 शेयर होल्डर्स Maximum 200 Shareholders In The Company

प्राइवेट लिमिटेड कंपनी खोलने के लिए कम से कम 2 लोगों की जरूरत होती है। आप यदि प्राइवेट लिमिटेड कंपनी खोलते हैं तो इसके लिए कम से कम दो डायरेक्टर और ज्यादा से ज्यादा 15 डायरेक्टर हो सकते हैं। इसके अलावा इसमें कम से कम 2 शेयर होल्डर्स हो सकते हैं और कॉरपोरेट अफेयर्स मंत्रालय Ministry of Corporate Affairs (एमसीए) की परमिशन के बाद 200 शेयर होल्डर्स भी रखे जा सकते हैं। क्योंकि आपको ज्यादा से ज्यादा 200 शेयर होल्डर्स रखने की परमिशन कॉरपोरेट अफेयर्स मंत्रालय (एमसीए) देता है।

4- कंपनी का डायरेक्टर बनने के लिए 18 साल उम्र जरुरी 

यदि आप अपनी कंपनी शुरू करते हैं तो किसी प्राइवेट लिमिटेड कंपनी का डायरेक्टर बनने के लिए आवेदक की उम्र कम से कम 18 साल या 18 साल से अधिक होनी चाहिए। डिग्री की कोई रिक्वायमेंट नहीं है, एक साधारण व्यक्ति भी किसी कंपनी का डायरेक्टर बन सकता है। यहाँ तक कि डायरेक्टर बनने के लिए नागरिकता जैसी कोई बाध्यता भी नहीं है। यानि विदेशी नागरिक भी भारत में प्राइवेट लिमिटेड कंपनी का डायरेक्टर बन सकता है।

5- कैपिटल मनी 

अगर आप प्राइवेट लिमिटेड कंपनी शुरु कर रहे हैं तो कैपिटल मनी capital money के रूप में कंपनी शुरू करने के लिए सरकार को फीस के तौर पर कम से कम 1 लाख रुपए शेयर के रूप में देना अनिवार्य है। ये पैसे ऑथराइज्ड कैपिटल फी के रूप में कंपनी का रजिस्ट्रेशन करते वक्त देने होते हैं। इन सबके अलावा कंपनी शुरू करने के लिए आपको जगह की आवश्यकता होती है और यह जगह कमर्शियल, इंडस्ट्रियल और रेजिडेंशियल एरिया Commercial, industrial and residential areas में हो सकती है। जहां से कंपनी का संचालन होता है उसी पते पर नई कंपनी रजिस्टर्ड भी होती है। जिससे मिनिस्ट्री ऑफ कॉरपोरेट अफेयर्स (एमसीए) इस पते पर आपसे पत्राचार कर सके।

6- कंपनी का रजिस्ट्रेशन करने के लिए जरूरी डाक्यूमेंट Documents Required For Company Registration

कंपनी का रजिस्ट्रेशन करते समय कुछ डाक्यूमेंट document होने जरुरी हैं। इसमें पहचान पत्र, पैन कार्ड, वोटर आईडी, एड्रेस प्रूफ, आइडेंटी कार्ड Identity Card, Pan Card, Voter ID, Address Proof, Identity Card आदि होना आवश्यक है। जिस व्यक्ति के नाम से रजिस्ट्रेशन कराया जाना है, उसका पहचान प्रमाण पत्र और पत्राचार प्रमाण पत्र भी देना जरूरी है। कंपनी के रजिस्ट्रेशन के लिए मकान मालिक के द्वारा जारी किया गया नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट भी देना जरुरी है। 

7- कंपनी की रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया Company Registration Process

कंपनी का रजिस्ट्रेशन कराने के लिए आपको फॉर्म आईएनसी-29 भरकर सारे डॉक्यूमेंट के साथ रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज registrar of companies के ऑफिस में जमा कराना होता है। अगर एमसीए द्वारा रजिट्रेशन के लिए आपके द्वारा प्रस्तावित कंपनी के नाम को स्वीकार कर लिया जाता है तो वह इनकॉरपोरेशन जारी करेगा। वहीं यदि वह नाम को स्वीकार नहीं करता है तो आपको नया नाम देना होगा। 

8- बेसिक- फास्ट ट्रैक Basic - Fast Track

नई कंपनी के रजिस्ट्रेशन के लिए तीन तरह के पैकेज हैं। यानि कॉरपोरेट अफेयर्स मिनिस्ट्री ने तीन तरह के पैकेज बिजनेसमैन को दिए हैं। जिनमें कंपनी को रजिस्टर्ड कराने के लिए पहला पैकेज बेसिक फास्ट ट्रैक का है। बेसिक फास्ट ट्रैक पैकेज 15899 रुपए का है। इसमें सभी जरूरी फीस को शामिल किया गया है, जो कंपनी के रजिस्ट्रेशन के लिए जरूरी हैं। इसमें 2 डीएससी, 2 डीआईएन, एमओए, एओए, नाम की स्वीकृति, पैन, टैन और सरकारी फीस भी शामिल है। 

9- स्टैन्डर्ड- फास्ट ट्रैक Standard - Fast Track

यदि स्टैन्डर्ड फास्ट ट्रैक पैकेज के तहत आप कोई प्राइवेट लिमिटेड कंपनी को रजिस्टर्ड करना चाहते हैं, तो इसमें सभी जरूरी चीजों को शामिल किया गया है। स्टैन्डर्ड फास्ट ट्रैक पैकेज 19,899 रुपये का है। यानि आप रजिस्ट्रेशन फी 19,899 रुपए देकर अपनी कंपनी को रजिस्टर्ड करा सकते हैं। इसमें अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर सेटअप, शेयर सर्टिफिकेट और कंपनी फोल्डर Accounting software setup, share certificate and company folder आदि शामिल हैं। आप अपने बिजनेस सलाहकार business consultant से बात करके अपनी कंपनी के रजिस्ट्रेशन का प्रोसेस शुरू कर सकते हैं।

10-प्रीमियम- फास्ट ट्रैक Premium - Fast Track

प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के रजिस्ट्रेशन के लिए जो प्रीमियम फास्ट ट्रैक पैकेज में वो सभी चीज़ें शामिल हैं जिससे आप अपनी कंपनी को शुरू कर सकें। प्रीमियम फास्ट ट्रैक पैकेज 5899 रुपये का है। यानि आपको कंपनी रजिस्टर्ड करने के लिए 5899 रुपए फीस देनी होगी। इसमें अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर, शेयर सर्टिफिकेट, कंपनी फोल्डर और ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन शामिल हैं। अब आप अपना बिजनेस शुरू कर सकते हैं। 

TWN Special