संघर्षों से निखरे ये भारतीय उद्यमी

1061
06 Mar 2022
7 min read

Post Highlight

भारत में हुनर की कमी नहीं है, यहाँ हर छोटे-बड़े क्षेत्र में आपको ऐसा व्यक्ति जरूर मिलेगा जिसके सपने बड़े हैं और उन्हें हासिल करने का जूनून भी। आइये बात करते है कुछ ऐसे सफल उद्यमियों के बारे में जिन्होंने अपनी मेहनत के बल पर कामयाबी हासिल की।

Podcast

Continue Reading..

पहले के समय में, उद्यमिता (Entrepreneurship) पर बहुत कम ध्यान दिया जाता था। क्योंकि इसमें सफलता की बहुत कम संभावनाएं होती थी और स्टार्टअप (Startup) बहुत जोखिम भरा भी होता था। स्टार्टअप शुरू करने के लिए पूंजी और समय दोनों का ही निवेश करना होता था। कुल मिलाकर, स्टार्टअप  को भविष्य की एक अच्छी योजना की तरह नहीं माना जाता था। लेकिन अब, महामारी (Pandemic) के बाद से, प्रौद्योगिकी का उपयोग (Use of technology) बढ़ गया है। अब, उद्यमी अपने सामान और सेवाओं को बढ़ावा देने के लिए सोशल मीडिया का उपयोग कर सकते हैं और इंटरनेट (Internet) के माध्यम से आसान तरीके से अपना उत्पाद या सेवा (product or service) लोगों तक पंहुचा सकते हैं। यहाँ हम आपको ऐसे उद्यमियों के बारे में बताएंगे जिन्होंने हमें अपनी बुद्धि और कौशल से लोगों को चौंका दिया। अपने प्रयास (Efforts), स्मार्ट वर्क (Smart work) और अच्छी किस्मत से जिन्होंने सफलता प्राप्त की।

करन चोपड़ा (Karan Chopra)-

करन चोपड़ा मुंबई में टीसीएस (TCS) की 6 लाख रुपये प्रति वर्ष की नौकरी छोड़कर अपने गृहनगर वापस चले गए और एलईडी बल्ब (LED bulbs) का एक व्यवसाय शुरू किया। इस व्यवसाय से एक साल में उन्होंने लगभग 60,000 रुपये कमाए। इसलिए, उन्होंने आगे बढ़कर सौर ऊर्जा (solar power) में दिलचस्पी ली और और सौर ऊर्जा व्यवसाय शुरू किया, जिसे चिरायु पावर प्राइवेट लिमिटेड (Chirayu Power Private Limited) के नाम से जाना जाता है। आज उनकी कंपनी की नेट वर्थ 14 करोड़ रुपये तक पहुंच गई है जो पुणे, मुंबई, हैदराबाद और खामगाँव में फैली हुई है।

शरथ सोमन्ना (Sharath Somanna)-

शरथ सोमन्ना के बारे में खास बात ये है कि इनके पास सिविल इंजीनियरिंग में कोई औपचारिक प्रशिक्षण फिर भी वर्ष 2013 में एक आधी बनी हुई इमारत के निर्माण का कार्य इन्होंने शुरू किया, और यहीं से उन्होंने पहली जीत हासिल की। इसके बाद उन्हें और भी कई कॉन्ट्रैक्ट मिले और अपनी मेहनत से उन्होंने अपनी कंपनी ब्लू ओक कंस्ट्रक्शन्स एंड इंटीरियर्स प्राइवेट लिमिटेड (Blue Oak Constructions and Interiors Private Limited) को 20 करोड़ रुपये के टर्नओवर तक बढ़ा दिया।  

फैजल अहमद (Faizal Ahamed)-

फैजल अहमद ने वर्ष 2006 में मधुराई से सात सिलाई मशीनों और तीन टेलर्स के साथ अपना व्यवसाय "सक्सस" शुरू किया। उनकी कंपनी सबसे कम कीमत पर कपड़े बनाती है। ‘सक्सस’ (Suxus) तमिलनाडु में सबसे प्रसिद्ध पुरुषों के कपड़े बनाने वाली कंपनी में से एक है। आज फैजल अहमद ने ‘सक्सस’ को 50 करोड़ रुपये का टर्नओवर ब्रांड बना दिया है।

हितेश राठी (Hitesh Rathi)-

हितेश राठी एक मध्यम वर्ग से संबंध रखते थे, इन्होने अपनी नौकरी छोड़कर एक कंपनी शुरू की। जिसमें इन्होंने 2 लाख रुपये का शुरुआती निवेश किया और ऊंट का दूध (camel milk) बेचा। जैसे-जैसे उनकी कंपनी बढ़ी, उन्होंने चॉकलेट सहित आद्विक खाद्य पदार्थों (Aadvik foods) में ऊंटनी के दूध के उत्पादों को शामिल करना शुरू कर दिया। इसके परिणाम स्वरूप 2018-19 में आद्विक फूड्स 4.5 करोड़ रुपये के टर्नओवर पर पहुंच गया।

उपमा कपूर (Upma Kapoor) -

उपमा कपूर को बचपन से ही सुंदरता (Beauty) में गहरी दिलचस्पी थी। अपने पति से अलग होने के बाद, उपमा ने 8 लाख रुपये का निवेश किया और अपना खुद का ब्यूटी ब्रांड (Beauty brand) टील एंड टेरा शुरू किया। पहले साल टील एंड टेरा (Teal and Terra) की कीमत 80 करोड़ रुपये थी, और वित्त वर्ष 2019-20 में यह कीमत 2.2 करोड़ रुपये हो गई।

कार्तिक मणिकंदन (Karthik Manikandan)-

कार्तिक मणिकंदन दक्षिण भारत में मशहूर संगम ग्रुप ऑफ होटल्स (Sangam Group of Hotels) के मालिक हैं। उन्होंने इंजीनियरिंग करते हुए अपने कॉलेज के लिए टूर और ट्रिप आयोजित करना शुरू कर दिया। और इस व्यवसाय में उन्होंने स्नातक होने तक उसे 25 लाख रुपये का लाभ कमाया। आज संगम ग्रुप ऑफ होटल्स की कीमत 90 करोड़ रुपये है।

दीप बजाज (Deep Bajaj)-

दीप बजाज की कहानी थोड़ी दिलचस्प है, इनकी पत्नी ने शिकायत की कि सार्वजनिक शौचालय कभी साफ नहीं होते जिससे महिलाओं को काफी दिक्क्त का सामना करना पड़ता है। अस्वच्छ शौचालय कई स्वास्थ्य और स्वच्छता समस्याओं का कारण बनते  हैं, ऐसे में महिलाएं करें तो क्या करें। अपनी पत्नी की इसी बात पर गौर करते हुए उन्होंने इसका हल निकलने का निश्चय किया और काम पर लग गए।  यही कारण है कि दीप बजाज ने ‘पी बडी’ (Pee Buddy) का विकास किया, जो महिलाओं द्वारा इस्तेमाल किया जाता है। ‘पी बडी प्राइवेट लिमिटेड’ ने 2016-17 में 1 करोड़ रुपये और 2017-18 में 2.5 करोड़ रुपये का बिज़नेस किया।

यदि आप भी अपना व्यवसाय शुरू करने के बारे में सोच रहे हैं, तो इन सफल उद्यमियों की कहानी आपको प्रेरित कर सकती है। सफल प्रयास से आप भी सफलता प्राप्त कर सकते हैं। शुरू करिए अपना सफर, थिंक विथ नीस हर कदम पर आपके साथ है।

Think with Niche पर आपके लिए और रोचक विषयों पर लेख उपलब्ध हैं। एक अन्य लेख को पढ़ने के लिए कृपया नीचे  दिए लिंक पर क्लिक करें-
https://www.thinkwithniche.in/blogs/details/youngest-billionaires-of-the-world- 

TWN In-Focus