भारतीय कमा रहे दुनिया में नाम

1420
01 Dec 2021
6 min read

Post Highlight

भारतीय प्रतिभाओं के लिए यह एक बार फिर गर्व का क्षण था, जब पराग अग्रवाल पहले पन्ने की खबर बन गए और इंटरनेट पर सबसे अधिक खोजे जाने वाले कीवर्ड में से एक, ट्विटर के शीर्ष बॉस के रूप में सर्च किये जाने लगे हैं ट्विटर पर शीर्ष भूमिका में अपनी नियुक्ति के साथ, 37 वर्षीय अग्रवाल ग्लोबल इंक में भारत में जन्में अधिकारियों के सम्मानित क्लब में शामिल हो गए हैं। सत्या नडेला और सुंदर पिचाई से लेकर शांतनु नारायण तक, भारतीय प्रतिभाओं ने ग्लोबल इंक में जगह बनाई है। चलिए जानते हैं उनके बारे में जिन्होंने भारत को गौरवान्वित किया है। 

Podcast

Continue Reading..

भारतीय प्रतिभाओं के लिए यह एक बार फिर गर्व का क्षण था, जब पराग अग्रवाल पहले पन्ने की खबर बन गए और इंटरनेट पर सबसे अधिक खोजे जाने वाले कीवर्ड में से एक, ट्विटर के शीर्ष बॉस के रूप में सर्च किये जाने लगे हैं ट्विटर पर शीर्ष भूमिका में अपनी नियुक्ति के साथ, 37 वर्षीय अग्रवाल ग्लोबल इंक में भारत में जन्में अधिकारियों के सम्मानित क्लब में शामिल हो गए हैं।सत्या नडेला और सुंदर पिचाई से लेकर शांतनु नारायण तक, भारतीय प्रतिभाओं ने ग्लोबल इंक में जगह बनाई है।

चलिए जानते हैं उनके बारे में जिन्होंने भारत को गौरवान्वित किया है। 

Satya Nadella

हैदराबाद में जन्में, नडेला ने 1992 में माइक्रोसॉफ्ट में शामिल होने से पहले सन माइक्रोसिस्टम्स में काम किया। front foot पर कार्यभार संभालने के बाद, उन्होंने एज़्योर प्लेटफॉर्म और एक बेहतर विंडोज 10 के माध्यम से क्लाउड कंप्यूटिंग की ओर रुख किया। परिणामस्वरूप उनके प्रयासों का फल उन्हें मिला और 2020 में, टेक दिग्गज के शेयर की कीमत में 26.3 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई। क्रिकेट के दीवाने, नडेला सचिन तेंदुलकर और अनिल कुंबले के बहुत बड़े प्रशंसक हैं।

Sundar Pichai

मद्रास में जन्में पिचाई सुंदरराजन, जिन्हें सुंदर पिचाई के नाम से भी जाना जाता है, 2015 में Google के सीईओ बने। चार साल बाद, उन्होंने इसकी मूल कंपनी अल्फाबेट के सीईओ के रूप में पदभार संभाला। IIT-खड़गपुर से B.Tech, करने के उपरांत उन्होंने स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से पढ़ाई की। 49 वर्ष की उम्र में उन्हें Google क्रोम ब्राउज़र के विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाने का श्रेय दिया गया है। 

Shantanu Narayen

नडेला अकेले नहीं हैं जिन्होंने हैदराबाद के पुराने शहर को गौरवान्वित किया। उन्हें कंपनी देते हुए शांतनु नारायण हैं, जिनका जन्म भी इसी शहर में हुआ था। 2005 में, नारायण को Adobe के अध्यक्ष और सीईओ के रूप में नियुक्त किया गया था। वह दो साल बाद सीईओ बने। Adobe के शीर्ष बॉस के रूप में इन्होनें कार्यकाल निभाया है। 

Arvind Krishna

अप्रैल 2020 में IBM को अरविंद कृष्णा नाम का नया सुपरबॉस मिला। सीईओ बनने से पहले, उन्होंने senior vice-president of cloud and cognitive software के रूप में कार्य किया। 2016 में, वायर्ड पत्रिका Wired magazine ने ब्लॉकचेन तकनीक block-chain technology पर उनके काम की सराहना की थी। आंध्र के एक तेलुगु भाषी परिवार में जन्में, उन्होंने देहरादून में सेंट जोसेफ अकादमी में अध्ययन किया। बाद में उन्होंने आईआईटी-खड़गपुर से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में बीटेक की डिग्री हासिल की। कृष्णा को आईबीएम द्वारा एक ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर कंपनी रेड हैट Red Hat की 34 बिलियन अमेरिकी डॉलर की खरीद की योजना बनाने का श्रेय दिया गया है। गिन्नी रोमेट्टी Ginni Rometty से सीईओ के रूप में कार्यभार संभालने के बाद, उन्होंने क्लाउड पर ध्यान केंद्रित करने का प्रयास किया। कृष्णा ने हाइब्रिड-क्लाउड रणनीति के इर्द-गिर्द 109 साल पुरानी टेक दिग्गज को पुनर्गठित किया है, जो ग्राहकों को निजी सर्वर और कई सार्वजनिक क्लाउड पर डेटा स्टोर करने की अनुमति देता है, जिसमें Amazon.com और Microsoft शामिल हैं। इससे आईबीएम का कुल क्लाउड रेवेन्यू 2021 की पहली तिमाही में 21% बढ़कर 6.5 बिलियन डॉलर हो गया है।

Rangrajan Raghuram 

इस साल की शुरुआत में, VMware ने रंगराजन रघुराम को मुख्य कार्यकारी अधिकारी के रूप में घोषित किया। नियुक्ति से पहले, रघुराम ने VMware में कार्यकारी उपाध्यक्ष और मुख्य परिचालन अधिकारी executive vice-president and chief operating officer, के रूप में कार्य किया। 2003 में VMware में शामिल होने के बाद से, रघुराम ने कंपनी की रणनीतिक दिशा और इसके technology evolution को आगे बढ़ाने में मदद की है, जिससे core virtualization business बढ़ रहा है। एक आईआईटी-बॉम्बे के पूर्व छात्र होने के साथ वे Dell Technologies.Agencies के साथ साझेदारी चलाने में सफल रहे हैं। 

Nikesh Arora

निकेश अरोड़ा देश-विदेश में जाना-पहचाना चेहरा बने हुए हैं। 2018 में, अरोड़ा कैलिफोर्निया के सांता क्लारा में स्थित साइबर सुरक्षा कंपनी पालो ऑल्टो नेटवर्क्स Palo Alto Networks के सीईओ और अध्यक्ष बने। अरोड़ा ने सॉफ्टबैंक ग्रुप के अध्यक्ष के रूप में भी दो साल पूरे किए। इस कार्यकाल में वे दुनिया के सबसे अधिक वेतन पाने वाले कार्यकारी बन गए। जिन्होंने दो वर्षों में 200 मिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक की कमाई की है। अरोड़ा ने Indian Institute of Technology (Banaras Hindu University), Varanasi से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री हासिल की।

TWN In-Focus