कोविड 19 ने कैसे इंटरनेट के उपयोग को बदल दिया?

1564
28 Sep 2021
9 min read

Post Highlight

कोरोनावायरस महामारी ने हमारे काम करने के तरीके को, एजुकेशन को, हमारे मनोरंजन के साधन सभी को बदल के रख दिया है। महामारी में हमने इंटरनेट का पूरा बदलाव देखा। ऑफिस की बैठकों से लेकर कक्षाओं तक, इंटरनेट ने सब कुछ अपने कब्जे में ले लिया। जानिए कोविड 19 ने कैसे इंटरनेट के उपयोग को बदल दिया।

Podcast

Continue Reading..

मार्च 2020 में COVID-19 महामारी ने पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया। जो एक छोटा, और आसानी से चले जाना वाला वायरस जैसा दिखता था, वह जल्द ही एक महामारी में बदल गया। तब से पूरे एक साल बीत चुके हैं लेकिन वायरस अभी भी मजबूत हो रहा है। पूरी दुनिया एक बड़े पैमाने पर लॉकडाउन से गुजर रही है, हममें से अधिकांश लोगो ने अपना ज्यादा समय स्क्रीन के सामने बिताया है। सभी आयु वर्ग के लोगों का औसत स्क्रीन समय पहले की तुलना में कई गुना बढ़ गया है।

अपने घरों की चार दीवारी के अंदर फंसे हम सब अपने इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को ज्यादा इस्तेमाल में लाने लगे। बच्चे इसका इस्तेमाल ऑनलाइन क्लास लेने के लिए करते थे जबकि एडल्ट्स अपना सारा काम जूम कॉल्स या गूगल मीट के जरिए करते थे। इस प्रकार महामारी ने इंटरनेट के उपयोग में एक बदलाव ला दिया है। यह ऑनलाइन दुनिया के लिए एक नया युग है। यह अच्छा है या नहीं, इसे तो हम भविष्य में जानेंगे। लेकिन इंटरनेट के प्रसार को महामारी ने जिस तरह बढ़ाया है, उसे कोई नजरअंदाज नहीं कर सकता।

महामारी के पहले इंटरनेट के उपयोग में और महामारी के दौरान इंटरनेट के उपयोग के बीच एक बड़ा अंतर है। तकनीक पर हमारे अति-निर्भर स्वभाव से लेकर ऑनलाइन दुनिया के प्रति हमारे जुनून तक, इन सभी चीज़ों में काफी बदलाव आया है। 

इंटरनेट का पूरा बदलाव-

लॉकडॉउन में घर में रहना, और कई बाहर ना जाने की वजह से हमारी स्क्रीन हमारे लिए आनंद का स्रोत बन गई। यह हमारे लिए बाहरी दुनिया से जुड़ने का एक साधन बन गया। लोग इसका इस्तेमाल अपने दोस्तों, परिवार और यहां तक ​​कि सहकर्मियों से जुड़ने के लिए करते थे। इसमें जूम या गूगल मीट जैसे एप्लीकेशंस ने बहुत बड़ी भूमिका निभाई। इसके अलावा कई लोगों ने अपनी बोरियत दूर करने के लिए ओटीटी सेवाओं का सहारा लिया।Binge- watching का एक नया रूप देखने को मिला जब लोगों के एक ही बार में कई एपिसोड्स,मूवीज देखी। नेटफ्लिक्स, अमेज़ॅन प्राइम और डिज़नी + जैसी सेवाओं में भी पिछले वर्ष के दौरान भारी वृद्धि देखी गई।

न केवल ओटीटी, बल्कि सोशल मीडिया ऐप जैसे इंस्टाग्राम और यूट्यूब ने भी भारी वृद्धि देखी है। प्रति व्यक्ति इन ऐप्स के औसत उपयोग में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। यह कहना गलत नहीं होगा कि महामारी के दौरान व्यवसाय के क्षेत्र में इंटरनेट को काफी फायदा हुआ।बाकी सभी व्यवसायों को भारी नुकसान हुआ है जबकि इंटरनेट की दुनिया अभी भी फल-फूल रही है।

COVID-19 से हम सभी को प्रभावित हुए एक साल से अधिक समय हो गया है। तो क्यों न इसको थोड़ा गहराई से जाना जाए और इंटरनेट के बढ़ते और बदलते उपयोग का पता लगाया जाए-

इंटरनेट के दो प्रमुख उपयोग जिनसे ऑनलाइन दुनिया ने देखा बदलाव-

1. शिक्षा -

वर्तमान में दुनिया भर के 186 देशों में 1.2 बिलियन से अधिक बच्चे हैं। महामारी ने उनके स्कूली जीवन को बेहद अस्त-व्यस्त कर दिया। चूंकि सभी स्कूल बंद थे, इसलिए ऑनलाइन शिक्षा सबसे अच्छा विकल्प बन गया। और एक-दो महीने के भीतर ही सभी स्कूल-कॉलेजों ने ऑनलाइन शिक्षा को अपना लिया।

लेकिन शिक्षा प्रौद्योगिकी (education technology) और ऑनलाइन कक्षाओं में शोध और विकास कोरोना महामारी से पहले से चल रहा है।2019 में एडटेक (edtech) निवेश कुल 18.66 बिलियन डॉलर तक पहुंच गया। कहा जाता है कि यह आंकड़ा 2025 तक 350 अरब डॉलर तक पहुंच जाएगा। इस तरह की वृद्धि किसी भी उद्योग के लिए असामान्य है। सभी प्रकार की ऑनलाइन कक्षाएं लोकप्रिय हो गई हैं और अधिक से अधिक छात्रों को इसकी आदत हो रही है।

ऑनलाइन शिक्षा में वृद्धि का एक उदाहरण BYJU's है। BYJU's को उपयोग करने वाले लोगों की संख्या महामारी के दौरान काफी ज्यादा बढ़ गई है। BYJU'S ने अपने थिंक एंड लर्न ऐप पर मुफ्त लाइव कक्षाओं की घोषणा की। इसके बाद कंपनी ने नए छात्रों की संख्या में 200% की वृद्धि देखी गई।यह काफी बड़ी संख्या है और इसलिए यह साबित करता है कि ऑनलाइन कक्षाएं जल्द ही ऑफ़लाइन कक्षाओं का विकल्प बन सकती हैं।

खान एकेडमी और कौरसेरा जैसी ऑनलाइन शिक्षण साइटों ने अपनी वेबसाइटों और यूट्यूब चैनलों पर औसतन 81.1 मिलियन मासिक विज़िट दर्ज कीं। ये आंकड़े यह साबित करते हैं कि इस तनाव भरे समय में इंटरनेट ने शिक्षा के क्षेत्र में कितनी बड़ी भूमिका निभाई है।

2. नौकरियां -

इंटरनेट ने हमें एक और तरीके से बदला है और वो है ,हम जिस तरह से हम काम करते हैं। चूंकि महामारी के दौरान कार्यालय बंद हो गए थे, इसलिए एंप्लॉयर्स ने मीटिंग्स करने के लिए करने कई ऑनलाइन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग टूल का सहारा लिया। सब कुछ वीडियो कॉल पर किया जा रहा था; मीटिंग्स और प्रेजेंटेशन से लेकर जॉब इंटरव्यू तक।यह तक कि कई कम्पनियों ने विभिन्न ऑनलाइन पोर्टलों के माध्यम से अपना संचालन शुरू किया।

जूम, एक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग ऐप, जो मीटिंग्स और ऑनलाइन कक्षाओं के लिए वास्तविक एप्लिकेशन बन गया, ने देखा कि इसके उपयोगकर्ता आधार में 300% की वृद्धि हुई है। यह कंपनी के लिए एक अद्वितीय आंकड़ा था। अपनी वार्षिक आय रिपोर्ट में, ज़ूम ने खुलासा किया कि उन्होंने राजस्व $ 328 मिलियन कमाए। यह सब उनके उपयोग में आसान सुविधाओं के कारण संभव हुआ, जिसे कई कंपनियों और निगमों ने काफी जल्दी अपनाया। यहां तक ​​कि Google का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग ऐप Google मीट भी अब हर दिन लगभग 3 मिलियन नए उपयोगकर्ता जोड़ता है। ये सभी बहुत बड़ी संख्या हैं और दोनों कंपनियों में से कोई भी इतने बड़े उपयोगकर्ता आधार की कल्पना नहीं कर सकता था।यह सिर्फ महामारी के वजह से मुमकिन हो पाया।

कर्मचारियों के लिए, जो सप्ताह के पांच दिन में 10 या 10 से अधिक घंटे काम करते हैं, उनमें भी काफी बदलाव आया। Mashable India द्वारा हाल ही में किए गए एक सर्वेक्षण में, 32% प्रतिभागियों ने घर से काम करके खुश और संतुष्ट होने की सूचना दी। जब उनसे पूछा गया कि क्यों, उनमें से अधिकांश ने लिखा कि उन्हें काम करने के लिए लंबा सफर नहीं करना पड़ा और वे अपने परिवार के साथ अधिक समय बिता सकते हैं। वर्क फ्रॉम होम ने भी इन कर्मचारियों को लंबे और बेहतर ब्रेक लेने में मदद की। इन सभी वजहों से लोगों ने अपने हैप्पीनेस फैक्टर में भी सुधार किया है।

निष्कर्ष-

मनुष्य ने ऑनलाइन दुनिया के एक बिल्कुल नए साइड की खोज की है। अपने घर से काम करते हुए, सबसे आरामदायक कपड़े पहनकर, उनका अधिकांश तनाव चला जाता है। यही हाल स्कूल और कॉलेज जाने वाले सभी बच्चों का है। उन्हें स्कूलों के दबाव में आए बिना सब कुछ सीखने को मिला। लेकिन अब जैसे-जैसे दूसरी लहर थम रही है और वायरस पीछे हट रहा है, कई लोग सोच रहे हैं कि क्या ये ऑनलाइन प्रथाएं महामारी खत्म होने के बाद भी जारी रहेंगी? और अगर हां, तो यह लोगों के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित करेगा?

TWN In-Focus