भारतीय शिल्पकला का गौरवशाली इतिहास

7655
23 Jan 2024
5 min read

Post Highlight

भारतीय शिल्पकला का इतिहास History of Indian Handicrafts बहुत ही प्राचीन है शिल्पकार शिल्पवस्तुओं के निर्माता और विक्रेता Manufacturers and sellers of Craftsmanship के अलावा समाज में डिजाइनर, सर्जक, अन्वेषक और समस्याएं हल करने वाले व्यक्ति के रूप में भी कई भूमिकाएं निभाता है।

भारतीय हस्तशिल्प का इतिहास एक प्राचीन और विविध कहानी है, जिसमें देश भर में पनपी कई शिल्प परंपराओं को शामिल किया गया है। ये शिल्प, बड़े पैमाने पर, सामाजिक, आर्थिक और क्षेत्रीय कारकों से प्रभावित हुए हैं। भारतीय शिल्प की वर्तमान स्थिति अतीत की समृद्ध परंपराओं का एक महत्वपूर्ण ऋण है।

इनमें से कई शिल्प अपनी व्यावहारिकता, आम जनता तक पहुंच और घरेलू और अंतरराष्ट्रीय दोनों बाजारों में लोकप्रियता के कारण टिके हुए हैं और समृद्ध हो रहे हैं।

भारतीय उपमहाद्वीप में शिल्प कौशल ऐतिहासिक रूप से संरक्षकों और राजघरानों की अनूठी मांगों को पूरा करने के इर्द-गिर्द घूमता रहा है, जो विदेशी और घरेलू व्यापार दोनों में गहराई से लगे हुए थे। इन प्रभावों ने भारतीय शिल्प को आकार देने में केंद्रीय भूमिका निभाई है।

इसके अलावा, इन शिल्पों की स्थायी जीवन शक्ति का श्रेय भारतीय संस्कृति की समावेशी प्रकृति को दिया जा सकता है, जिसने लगातार नए विचारों और प्रभावों को अपनाया और आत्मसात किया है।

इस क्रम  में चार चाँद लगाते हुए अयोध्या आध्यात्मिक पर्यटन Ayodhya Spiritual Tourism का प्रमुख स्थल बन कर उभरा है। अयोध्या में 22 जनवरी, 2024 को राम मंदिर में राम लला की मूर्ति की स्थापना कर दी गयी हैं।

पूजनीय देवता को समर्पित मंदिर की नींव भगवान राम के जन्मस्थान राम जन्मभूमि के ऐतिहासिक और धार्मिक परिदृश्य में अंतर्निहित है।

इस स्मारकीय रचना के केंद्र में मुख्य वास्तुकार, चंद्रकांत सोमपुरा के नेतृत्व में सोमपुरा परिवार की दूरदर्शी शिल्प कौशल निहित है।

राम मंदिर की स्थापत्य भव्यता Architectural grandeur of Ram temple नागर शैली में सामने आती है, जो उत्तर भारत के स्वर्गीय गुप्त काल की एक सौंदर्य विरासत है।

भारतीय शिल्पकारों Indian craftsmen की अपने काम में नई अवधारणाओं और तकनीकों को शामिल करने की अनुकूलन क्षमता और खुलापन भी भारतीय शिल्प के स्थायी विकास और विकास में सहायक रहा है।

भारत में मूर्ति कला, शिल्प कला, हस्तशिल्प, करघा, आभूषण, एवं अन्य बहुत सी कलाएं प्रचलित हैं| भारत की महान कलाओं और शिल्पकारी की समृद्ध विरासत के बारे में सारा विश्व जानता है।

क़रीब दो हज़ार साल तक विश्व में भारतीय कपड़ों और हस्तकला से संबंधित वस्तुओं का विश्व में ख़ूब व्यापार होता था और क़िस्म तथा उत्कृष्टता के लिए इनकी बहुत मांग होती थी।

इस लेख में हम भारतीय शिल्पकला के गौरवशाली इतिहास की ओर बढ़ते हैं, उसके महत्वपूर्ण पहलुओं, और इसके महत्व को समझने का प्रयास करते हैं।

Podcast

Continue Reading..

भारतीय शिल्प कला का इतिहास बहुत ही प्राचीन है। भारतीय कला और कलाकार सदियों से दुनिया को अपनी अद्भुत कृतियों से आश्चर्यचकित करते रहे हैं। दुनिया भर से लोग भारतीय कला की तरफ खिचे चले आते हैं |

प्राचीन भारत से लेकर आधुनिक भारत के कालक्रम में शिल्पकार को बहुआयामी Multidimensional भूमिका का निर्वाह करने वाले व्यक्ति के रूप में देखा जा सकता है।

शिल्पकार शिल्पवस्तुओं के निर्माता और विक्रेता के अलावा समाज में डिजाइनर, निर्माता,अन्वेषक और समस्याएं हल करने वाले व्यक्ति के रूप में भी कई भूमिकाएं निभाता है। भारत में मूर्ति कला, शिल्प कला, हस्तशिल्प, करघा, आभूषण, Sculpture, Crafts, Handicrafts, Loom, Jewellery, एवं अन्य बहुत सी कलाएं शिल्प कौशल का उदाहरण Craftsmanship examples हैं|

शिल्प समुदाय Craft Community की गतिविधियों व उनकी सक्रियता का प्रमाण हमें सिंधु घाटी सभ्यता Indus Valley Civilization में मिलता है। इस समय तक ‘विकसित शहरी संस्कृति’ का विकास development of urban culture  हो चुका था, जो अफगानिस्तान से गुजरात तक फैली थी।

इस स्थल से मिले सूती वस्त्र और विभिन्न, आकृतियों, आकारों और डिजाइनों के मिट्टी के बर्तन Clay Pots, कम मूल्यवान पत्थरों से बने मनके, चिकनी मिट्टी से बनी मूर्तियां, मोहरें (सील) शिल्प संस्कृति की ओर इशारा करते हैं।

भारतीय शिल्पकला का गौरवशाली इतिहास Glorious history of Indian craftsmanship

भारतीय शिल्प का प्राचीन इतिहास Ancient history of Indian crafts

भारतीय शिल्प कौशल की उत्पत्ति का पता प्राचीन सिंधु घाटी सभ्यता (3000 ईसा पूर्व - 1700 ईसा पूर्व) में लगाया जा सकता है, जहाँ शिल्प की एक समृद्ध परंपरा मौजूद थी। इस सभ्यता ने विभिन्न शिल्प रूपों में उल्लेखनीय तकनीकी विशेषज्ञता प्रदर्शित की, जिसमें मिट्टी के बर्तन बनाना, आभूषण बनाना, जटिल धागा बनाना और धातुओं, पत्थरों और टेराकोटा में मूर्तियों का निर्माण शामिल है।

हड़प्पा और मोहनजो-दारो जैसे स्थलों पर पुरातात्विक खुदाई सिंधु घाटी सभ्यता के भीतर संपन्न शिल्प परंपराओं के पर्याप्त सबूत प्रदान करती है। शिल्पकार न केवल स्थानीय आबादी की बुनियादी जरूरतों को पूरा करते थे, बल्कि व्यापार में भी लगे हुए थे, समुद्री यात्रा के माध्यम से प्राचीन अरब देशों में अपने शिल्प का निर्यात करते थे।

सिंधु घाटी सभ्यता की विरासत लगभग 1500 ईसा पूर्व शुरू हुए वैदिक युग में निर्बाध रूप से परिवर्तित हो गई। वैदिक साहित्य में मिट्टी के बर्तन, बुनाई और लकड़ी के काम जैसे विविध शिल्पों में लगे कारीगरों की भूमिकाओं पर प्रकाश डालने वाले कई संदर्भ हैं।

ऋग्वेद, विशेष रूप से, मिट्टी, लकड़ी और धातु जैसी सामग्रियों से तैयार किए गए मिट्टी के बर्तनों की विस्तृत श्रृंखला के साथ-साथ उस अवधि के दौरान कुशल बुनकरों और बुनाई प्रथाओं की उपस्थिति पर प्रकाश डालता है।

भारतीय शिल्प का मध्यकालीन इतिहास Medieval history of Indian crafts

भारतीय शिल्प के मध्ययुगीन इतिहास में कलात्मक उत्पादन का उत्कर्ष देखा गया, विशेष रूप से मौर्य साम्राज्य के दौरान, भारतीय इतिहास में एक महत्वपूर्ण युग जो तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व में शुरू हुआ था। यह काल अपनी उल्लेखनीय शिल्प कौशल के लिए प्रसिद्ध है, जिसका उदाहरण अशोक के शासनकाल के दौरान पूरे भारत में लगभग 84,000 स्तूपों का निर्माण था।

उनमें से सबसे प्रसिद्ध में से एक "सांची स्तूप" है, जो अपनी उत्कृष्ट पत्थर की नक्काशी और राहत कार्यों के लिए जाना जाता है। इस समय के लोगों ने सुरुचिपूर्ण आभूषण पहनने के फैशन को भी अपनाया, जैसा कि भरहुत, मथुरा, अमरावती, वैशाली और सांची जैसे क्षेत्रों में खोजी गई कई मूर्तियों से पता चलता है, जो सजी हुई महिला आकृतियों को दर्शाती हैं।

इसके अतिरिक्त, वैशाली और दिल्ली के लौह स्तंभ, जो सम्राट अशोक के युग के हैं, धातुकर्म शिल्प कौशल के प्रभावशाली उदाहरण के रूप में खड़े हैं।

बौद्ध काल में भारतीय शिल्प Indian crafts in Buddhist period

बौद्ध काल के दौरान भारतीय शिल्प का काल विदेशी आक्रमणकारियों के प्रभाव को भी दर्शाता है, जिन्होंने भारत की सांस्कृतिक और पारंपरिक विरासत से विचलन के बावजूद, देश के शिल्प इतिहास में योगदान दिया। यह युग, पहली शताब्दी ई.पू. से शुरू हुआ।

पहली शताब्दी ई. तक, तक्षशिला, बेग्राम, बामियान और स्वात घाटी जैसे क्षेत्रों की बौद्ध मूर्तियों में विदेशी प्रभाव प्रमुखता से प्रकट हुआ। विशेष रूप से, ग्रीक प्रभाव स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है, विशेषकर बुद्ध के चित्रण में, जो घुंघराले बालों और लिपटी हुई पोशाक की विशेषता है।

कुषाण राजा कनिष्क की मूर्तियों में भी वही हेलेनिस्टिक प्रभाव स्पष्ट है, जो भारतीय शिल्प कौशल पर मध्य एशियाई संस्कृति के प्रभाव को दर्शाता है। ये विदेशी प्रभाव आभूषण बनाने, कपड़ा उत्पादन, चमड़े का काम और धातु शिल्प कौशल सहित विभिन्न अन्य शिल्प रूपों तक भी फैल गया, क्योंकि भारतीय कारीगरों ने उन्हें अवशोषित किया और स्थानीय संदर्भ में अनुकूलित किया।

भारतीय शिल्प का आधुनिक इतिहास Modern history of Indian crafts

आधुनिक युग में, भारतीय शिल्प की वृद्धि और विकास का अत्यधिक महत्व बना हुआ है। प्रत्येक भारतीय राज्य अपनी विशिष्ट संस्कृति का दावा करता है, जो अद्वितीय डिजाइन, रंग, सामग्री और आकार की विशेषता है जो क्षेत्र के हस्तशिल्प में अभिव्यक्ति पाते हैं।

उदाहरण के लिए, पश्चिम बंगाल अपने शोलापीठ शिल्प के लिए प्रसिद्ध है, जो उस विशेष क्षेत्र की कलात्मक परंपराओं का प्रमाण है। कश्मीर अपने उत्कृष्ट पश्मीना ऊन शॉल, कालीन, चांदी के बर्तन, हाथी दांत के काम और बहुत कुछ के लिए मनाया जाता है।

असम और पश्चिम बंगाल जैसे उत्तर-पूर्वी और पूर्वी राज्यों ने अपनी उल्लेखनीय 'शोलापीठ' और 'शीतल पट्टी' रचनाओं के लिए प्रसिद्धि प्राप्त की है।

अन्य क्षेत्रों ने शिल्प की दुनिया में अपनी अलग पहचान बनाई है। कर्नाटक शीशम की लकड़ी की नक्काशी और चंदन शिल्प में अपनी विशेषज्ञता के लिए जाना जाता है। राजस्थान में जटिल रूप से उत्कीर्ण और मीनाकारी पीतल के बर्तन प्रदर्शित होते हैं।

वाराणसी और कांचीपुरम अपने रेशम उत्पादों के लिए प्रसिद्ध हैं। गुजरात में जीवंत कढ़ाई, दर्पण का काम, रजाई बनाना और कपड़े की पेंटिंग का दावा किया जाता है। इसके अतिरिक्त, पत्थर शिल्प ने ध्यान आकर्षित किया है, जिसमें विशिष्ट क्षेत्र क्रिस्टल और अर्ध-कीमती पत्थरों में विशेषज्ञता रखते हैं।

समकालीन भारतीय शिल्प में बिस्तर की चादर और टेबल मैट से लेकर नैपकिन और घरेलू सामान तक उत्पादों की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल है। कारीगर टाई और डाई, ब्लॉक प्रिंटिंग और हाथ से प्रिंटिंग सहित विभिन्न कपड़ा तकनीकों का उपयोग करते हैं, जिसके परिणामस्वरूप अत्यधिक मांग वाली वस्तुएं होती हैं जो घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय दोनों बाजारों में मांग को पूरा करती हैं।

समय के साथ-साथ भारतीय जीवन शैली Indian lifestyle में इनकी जगह कम रह गयी। लोग पश्चिम की नक़ल करने के चक्कर में अपनी कला एवं कलाकारों को भुला बैठे हैं |

भारतीय शिल्पकलाओं को अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष क्यों करना पड़ रहा है ?

भारत में शिल्पकलाओं की जितनी क़िस्में और प्रकार हैं, उन्हें समझना बहुत मुश्किल है। हर क्षेत्र की उसकी हस्तकला में विशेषज्ञता है। कपड़ा हो, लकड़ी का काम हो, पैंटिंग और भित्ति चित्र हों, गहने हों या फिर खिलौने हों, प्रत्येक हस्तकला का अपना एक ख़ास स्थान है। इस ब्लॉग  में शिल्पकलाओं की कहानियों और उनके इतिहास पर रौशनी डालने के लिए खराद lathe,रोग़न, ढोकरा, बिदरी, पत्तचित्र Rogan, Dhokra, Bidri, Patchitra जैसे कई और कला- रुपों पर विचार किया गया।

कई पीढ़ियों से कारीगर समुदाय अपनी कलाओं में मशरूफ रहे हैं और वे उस परंपरा को चला रहे हैं जो हज़ारों साल पुरानी है। इसके बावजूद इन कारीगरों या फिर इन अनगिनत कलाओं को लोगों के सामने लाने के लिए ज़रूरी कोशिशें नहीं की गई हैं। अगर देखा जाए तो आज भी भारत में हस्तशिल्प आय का वैकल्पिक स्रोत है, जहाँ आज भी कई लोग अपने पुराने शिल्प कार्यों को करने में कोई शर्म नहीं करते हैं।

कई समुदायों Communities की अर्थव्यवस्था का आधार भी। यही माना जाता है फिर भी पिछले कुछ वर्षों से भारतीय कला एवं कलाकारों को एक नई उम्मीद दिखी है, साथ ही भारत सरकार Indian government भी देश के विकास के लिए एवं भारतीय कला के पुनरोत्थान Resurrection के लिए प्रयास करती दिख रही है |

भारत सरकार द्वारा चलायी गयी “मेक इन इंडिया Make in India” योजना भारतीय कलाकारों Indian Artists के लिए एक उम्मीद की किरण लेकर आयी है | इसके तहत भारत में उत्पादन पर जोर दिया जा रहा है। दुर्भाग्य से इनमें से ज़्यादातर शिल्पकलाएं आज अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष कर रही हैं।

एक तरफ़ जहां कुछ शिल्पकलाएं फिर से चलन में आ गईं हैं साथ-साथ इस महत्वाकांक्षी योजना का लक्ष्य भारतीय कलाकारों को कला प्रदर्शन के लिए एक बेहतर मौका देना भी है | 

Also Read: Craft Industry में Business Growth

भारत की कला और शिल्प को कैसे पुनर्जीवित कर बढ़ावा दिया जा सकता है ?

1. शिल्प और शिल्पकारों को मान्यता

इस क्षेत्र में काम करने वाले लाखों शिल्पियों के कामों को मान्यता देने की ज़रुरत है क्यों कि हम उन्हें माहिर शिल्पकारों के रुप में नहीं देखते हैं। उनकी रचनाएं शाश्वत, कालातीत और अमूल्य हैं। उन्हें समाज में इसी लिहाज़ से सम्मान और प्रतिष्ठा मिलनी चाहिए ।

सभी इस बात पर सहमत  होंगे  कि शिल्प की सही एहमियत, कठिन परिश्रम, इसके इतिहास, परंपराओं और शिल्प कला की हमारी धरोहर को जब तक हम मान्यता नहीं देंगे, हम इसे दुनिया के सामने बेहतर तरीक़े से नहीं रख सकते। हमें उनकी सराहना करने की ज़रुरत है, उन्हें मान्यता देने की ज़रुरत है और उन्हें संरक्षण देने की ज़रुरत है।

2.उत्पाद में विविधता और शिल्प में नवीनता

विभिन्न बड़े और अनुभवी डिज़ाइनरस  मानना है कि उत्पाद में विविधता और डिज़ाइन में नवीनता से शिल्प कला को आगे ले जाया जा सकता है। उनका ये भी कहना है कि एक तरफ़ जहां नए डिज़ानर्स नए-नए डिज़ाइन के साथ प्रयोग कर रहे हैं वहीं उन्हें कला और शिल्प की मौलिकता और इसके मूलतत्व को भी बरक़रार रखना चाहिए । इस बदलाव में इन मूल तत्वों को हरगिज़ नहीं खोया जाना चाहिए।

3.बेहतर सरकारी नीतियां

हमारी नीतियां शिल्प-अनुकूल Craft Friendly होने चाहिए । उदाहरण के लिए शिल्प के सामानों पर भारी कर और सोने या चांदी पर आयात कर की वजह से शिल्पिकारों के लिए समस्याएं पैदा हो जाती हैं। शिल्पकारों को इन करों से मुक्त कर देना चाहियए ताकि वे आसानी से बाज़ार में अपना सामान बेच सकें।

4.शिक्षा प्रणाली और प्रालेखन में सुधार

स्कूल के पाठ्यक्रम में पारंपरिक कला Traditional Art और शिल्प के विषयों को शामिल किया जाना चाहिए ताकि बच्चों को कम उम्र से ही कला के इन रूपये की जानकारी मिल सके। इन शिल्प कलाओं के बेहतर प्रालेखन की भी ज़रुरत है ताकि आगे आने वाली पीढ़ि के लिए ये सनद रहे। इससे हमें हमारी विविधता वाली शिल्प कला के ज्ञान-कोष Knowledge Base और इसके बारे में जानकारी पैदा करने में मदद मिल सके।

भारत के शिल्प और शिल्पकार यहां की लोक एवं शास्त्रीय परंपरा Folk and Classical Traditions का अभिन्न अंग हैं। यह ऐतिहासिक मेल-जोल भारत में कई हजार वर्षों से निहित है। अगर हम देखें तो पाएंगे कि कृषि अर्थव्यवस्था में आम लोगों और शहरी लोगों दोनों के लिए प्रतिदिन उपयोग के लिए हाथों से बनाई गई वस्तुएं शिल्प की दृष्टि से भारत की सांस्कृतिक परंपरा Cultural Tradition Of India को दर्शाती हैं।

इतनी विधताओं के चलते जहाँ शिल्पकार लोगों को जातिगत तथा जाति प्रथा के रूप में पुरानी प्रथाओं के ढांचे में बांटा गया, लेकिन उनके कौशल को सांस्कृतिक Cultural to Skill और धार्मिक आवश्यकताओं द्वारा प्रोत्साहित किया गया एवं स्थानीय, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय व्यापार National and International Business द्वारा इसे गति प्रदान की गई।

बस्तर कला Bastar Art-  

यह कला पारंपरिक रूप से छत्तीसगढ़ के आदिवासी क्षेत्र Tribal Area के नाम से जानी जाती है। यह कला सदियों पुरानी विरासत के रूप में देखी जा सकती है। बस्तर कला आधुनिक मशीनों Modern Machines पर पारंपरिक उपकरणों के उपयोग के लिए चलन में है।

कलाकार मुख्य रूप से पौराणिक देवताओं Mythological Gods और आदिवासी मूर्तियों के जुड़नार Figurines Fixtures ,मूर्तियाँ और चित्र Fixtures, figurines and pictures बनाने के लिए लकड़ी, बांस, मिट्टी और धातु कला का प्रदर्शन करते हैं।

बस्तर शब्द भारत में आदिवासी क्षेत्र बस्तर से लिया गया है, जो अपनी अनूठी कलाकृतियों के लिए दुनिया भर में लोकप्रिय है। बस्तर क्षेत्र के आदिवासी आज भी घर की सजावट की अनूठी और आकर्षक विभिन्न शैलियों Attractive Different Styles को बनाने की पुरानी तकनीक का उपयोग करके अपनी प्राचीन परंपरा को जीवित रख रहे हैं।

हाथ और पुरानी तकनीक से बनाई गई वस्तुएं सरल लेकिन अद्भुत हैं। निर्माण के लिए उपयोग की जाने वाली बुनियादी तकनीकों को ढोकरा कला Basic Techniques Dhokra Art के रूप में जाना जाता है और बेल धातु का उपयोग सुंदर आकार और रूपरेखा बनाने के लिए किया जाता है।

बस्तर आर्ट्स अपनी अनूठी शैली Bastar Arts own unique style और बेहतर गुणवत्ता वाले उत्पादों से गृह सज्जा बाजार में तेजी से आ रही है।

लकड़ी का शिल्प-

यह एक ऐसी शिल्पकारी है, जो एक प्रीमियम कलाकृति Premium Artwork है यह सदियों से ही असाधारण रूप से विकसित हुई है, जिसने पूरे भारत को अलग पहचान दी है। भारत में, लकड़ी की कला एक राज्य से दूसरे राज्य में भिन्न होती है। लकड़ी की कलाकृतियाँ फर्नीचर, फिक्स्चर, बर्तन, फ्रेम, फर्श और आंतरिक सज्जा Wood artifacts Furniture, fixtures, utensils, frames, flooring and interiors के कई उद्देश्यों को पूरा करती हैं।

लकड़ी की कला में अपनी निश्चित गुणवत्ता के साथ शानदार सौंदर्यशास्त्र Aesthetics प्रदान करने के विकास और परिवर्तन का 11,000 साल पुराना इतिहास है।

भारत में तमाम तरह की शिल्पकारी प्रसिद्ध हैं, जिनको एक लेख में समेट पाना कठिन है। मगर इन शिल्पकारियों के जज़्बों को नया रूप देते रहना हमारा कर्तव्य है, जिससे इनको व्यवसाय भी मिले और भारतीय कलाकृतियाँ हमेशा जीवित रहें तथा पनपती रहें।

TWN Special