दुनिया की 5 सबसे शक्तिशाली खुफिया एजेंसियां

1819
06 Jan 2022
7 min read

Post Highlight

दुनिया की ये टॉप-5 खुफिया एजेंसियां intelligence agencies, अपने देश की सुरक्षा के लिए किसी भी हद तक जा सकती हैं। सुरक्षा के दृष्टिकोण से सभी देशों की खुफिया एजेंसी होती हैं। खुफिया एजेंसी किसी भी देश की सुरक्षा के लिए सबसे महत्वपूर्ण होती हैं। खुफिया एजेंसी दुश्मनों को धूल चटाने में माहिर होती हैं। दुनिया की कुछ एजेंसी इतनी खतरनाक और खूंखार खुफिया एजेंसी Dangerous and dreaded intelligence agency हैं कि इन के बारे में अगर आप जान जाएंगे तो दंग रह जाओगे। इनमें से ये 5 खुफिया एजेंसियां बहुत ही दमदार strong हैं जो दुश्मन देशों के हर मंसूबे को खत्म करने की कोशिश करती हैं और उन्हें मुंहतोड़ जवाब देने को तैयार रहती हैं।

Podcast

Continue Reading..

दुनियाभर में सैकड़ों वर्षों से जासूसी होती रही है। पुराने जमाने में राजा-महाराजा अपने दुश्मनों की जासूसी करवाते थे। वो अपने गुप्तचरों detectives के द्वारा सब पता लगवाते थे यानि उनके अपने कुछ जासूस होते थे। जिनके कहने पर वे दुश्मनों के बारे में सब पता करवाते थे। आज के समय में हर देश ने जासूसी के लिए खुफिया एजेंसियों की स्थापना की है। जिनका काम सरकार, राजनीतिक दल या महत्वपूर्ण शख्स की जासूसी करना होता है। चलिए जानते हैं दुनिया की टॉप 5 खुफिया एजेंसियों के बारे में। खुफिया एजेंसी देश की सुरक्षा country's security के लिए हर वक्त तैयार रहती हैं। दुनिया में कौन सा देश कितना ताकतवर है, इस बात पर निर्भर करता है कि उस देश की खुफिया एजेंसी कितनी मजबूत और शक्तिशाली strong and powerful है। आज उन्ही दुनिया की 5 सबसे शक्तिशाली खुफिया एजेंसियों के बारे में बात करते हैं। 

सीआईए CIA

सीआईए CIA अमेरिका America की खुफिया एजेंसी है यह दुनिया भर में अमेरिका से जुड़े सुरक्षा कार्यों को देखती है। इसकी स्थापना 26 जुलाई 1947 को हुई थी। यह एजेंसी अमेरिका से बाहर खुफिया जानकारी एकत्रित करती है। इसका मुख्यालय फेयरफैक्स वर्जीनिया Fairfax Virginia में है। सीआईए अमेरिका से बाहर राष्ट्रपति President के आदेश पर कोई भी कार्रवाई कर सकती है। आज अमेरिका को जो महाशक्ति माना जाता है उसका सबसे बड़ा योगदान सीआईए CIA को ही जाता है। ये एजेंसी अपने देश की सुरक्षा के लिए कुछ भी कर सकती है। अमेरिका की केंद्रीय खुफिया एजेंसी (CIA) पूरी दुनिया की जासूसी करती है, उसके जासूस हर जगह फैले हैं। यह एजेंसी अमेरिका से बाहर खुफिया जानकारी एकत्रित करती है। सीआईए अमेरिका से बाहर राष्ट्रपति के आदेश पर कोई भी कार्रवाई कर सकती है। आज सीआईए अपने बेहतर नेटवर्क better network, साहस courage, शक्ति Power और तकनीकी technology के उपयोग के लिए दुनिया भर में जाना जाता है। 

मोसाद MOSSAD

मोसाद इज़राइल Israel की राष्ट्रीय खुफिया एजेंसी है। इसकी स्थापना 13 दिसंबर 1949 को हुई थी। मोसाद MOSSAD यानी इंस्टीट्यूट फॉर इंटेलीजेंस एंड स्पेशल ऑपरेशन Institute for Intelligence and Special Operations। सीआईए की तरह यह खुफिया एजेंसी भी पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। इसका मुख्यालय तेल अवीव शहर Tel Aviv, ‎Israel में है। इसकी स्थापना खुफिया संग्रह , गुप्त आपरेशन, और आतंकवाद का मुकाबला counter terrorism करने के लिए किया गया था। इजरायली हितों की रक्षा करना protect Israeli interests मोसाद का सुप्रीम लक्ष्य supreme goal है। मोसाद अपने दुश्मनों को मौत देती है। दुनिया की यह सबसे घातक खुफिया एजेंसी deadly intelligence agency है। ये अपने काम करने के तरीके के लिए दुनियाभर में जानी जाती है। मोसाद यहूदी समुदाय Jewish community के लोगों की सुरक्षा के लिए भी दुनियाभर में काम करता है। यदि मोसाद की निगाह में एक बार कोई आ जाता है तो उसका बचना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन भी है। यदि इजरायल या उसके नागरिकों के खिलाफ कोई भी साजिश रची जा रही होती है तो मोसाद उस जगह तक पहुंच जाता है। 

एमआई-6 MI-6

एमआई-6 यूनाइटेड किंगडम, ब्रिटेन United Kingdom, की खुफिया संस्था है। इसकी स्थापना 1909 में हुई थी। इसका मुख्यालय headquarter लंदन London में है। Mi6 का मूल विषय ब्रिटिश सरकार को विदेशी खुफिया जानकारी प्रदान करना है। Mi6 का इतिहास बहुत पुराना है और इस खुफिया बल के पहले अधिकारी कप्तान सर जॉर्ज मैन्सफील्ड-कम्मिंग Sir George Mansfield-Cumming थे। इन एजेंसियों में काम करने वाले लोग अत्यधिक योग्य और प्रशिक्षित होते हैं क्योंकि उन्हें विभिन्न देशों के आंतरिक मामलों का पता लगाना पड़ता है। 1930 और 40 के दशक में इसे दुनिया की सबसे प्रभावी खुफिया सेवा माना जाता था। जर्मनी Germany में एडोल्फ हिटलर Adolf Hitler की शक्ति में वृद्धि के बाद, एमआई 6 ने यूरोप Europe, लैटिन अमेरिका और एशिया के बहुत से जासूसी ऑपरेशन किए। इस एजेंसी की वजह से हिटलर ब्रिटेन Britain से हमेशा बाहर रहा। बाद में हिटलर को हराने में भी इस एजेंसी ने बड़ी भूमिका निभाई। 

रॉ RAW

यह भारत India की प्राथमिक विदेशी खुफिया संस्था है। जो हर समय सतर्क रहती है और देश की सुरक्षा करती है। इसकी स्थापना 21 सितंबर 1968 में हुई थी। इसका मुख्याल headquarter नई दिल्ली New Delhi में है। इसकी फुल फॉर्म 'रिसर्च एंड एनालिसिस विंग' Research and Analysis Wing है। इसे हिंदी में “अनुसंधान और विश्लेषण विंग” कहा जाता है। विश्व के लगभग सभी देश अपने देश की सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम रखते हैं। खुफिया एजेंसी intelligence Agency के द्वारा देश से जुड़ी गुप्त जानकारियों secret information को देश से बाहर जाने से रोका जाता हैं और दूसरे देशों से ख़ुफ़िया जानकारी एकत्रित की जाती है। इससे देश में होनें वाले किसी भी तरह के हमले को समय से पहले ही रोक लिया जाता है, जिससे देश को किसी प्रकार की हानि नहीं पहुंच पाती है। रॉ खुफिया एजेंसी RAW Intelligence Agency भारत देश को अन्य देशो के हमलों से बचाती है। रॉ विदेशी मामलों को देखता है। रॉ का प्रमुख काम राजनैतिक political, सैन्य military, आर्थिक economic और वैज्ञानिक विकास scientific development पर नजर बनाए रखना है। रॉ RAW को दुनिया की बेहतरीन खुफिया एजेंसियों में एक माना जाता है। इसने बांग्लादेश के निर्माण, ऑपरेशन स्माइलिंग बुद्ध और 71, 99 के भारत-पाक युद्ध में अहम भूमिका निभाई थी।

आईएसआई ISI

आईएसआई, इंटर सर्विस इंटेलिजेंस पाकिस्तान की इंटेलिजेंस सर्विस है। 1950 में पूरे पाकिस्तान की आंतरिक और बाह्य सुरक्षा का जिम्मा आईएसआई ISI को सौंप दिया गया। आईएसआई का मुख्यालय headquarter इस्लामाबाद Islamabad में है और लेफ्टिनेंट जनरल अहमद शूजा पाशा इसके निदेशक हैं। आईएसआई को दुनिया के शीर्ष इंटेलिजेंस एजेंसियों में शामिल किया जाता है। आईएसआई की नींव ऑस्ट्रेलियाई Australian मूल के ब्रिटिश आर्मी ऑफिसर british army officer मेजर जनरल आर. कैथोम R. cathom ने रखी थी। इसका उद्देश्य दूसरे देशों की गुप्त जानकारियां secret information इकट्ठा कर देश की सुरक्षा व्यवस्था में उचित बदलाव करना। इसके अलावा इसका उद्देश्य पाकिस्तान की आंतरिक व बाह्य सुरक्षा करना भी है। आईएसआई अपने काम का बेहतर तरीके से करने के लिए जाना जाता है। यह पाकिस्तान की सबसे महत्वपूर्ण एजेंसी है। इसे दुनिया के शीर्ष इंटेलिजेंस एजेंसियों top intelligence agencies में शामिल किया जाता है। पहले इसका मुख्यालय headquarter रावलपिंडी Rawalpindi में था और इसे "इंटेलीजेंस ब्यूरों" Intelligence Bureau के नाम से जाना जाता था। 

TWN In-Focus