ग्रीन बिजली बन सकती है पेट्रोल और कोयले का विकल्प?

1234
19 Aug 2021
6 min read

News Synopsis

बिजली संयंत्र बिजली पैदा करने के लिए कोयले को जलाते हैं, जो अधिकांश तौर पर सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन ऑक्साइड छोड़ता है और यही हानिकारक रसायन हवा में मिलते हैं और पर्यावरण को दूषित करते हैं। इससे बचने का एक सबसे अच्छा उपाय है ग्रीन बिजली। ग्रीन बिजली प्राकृतिक संसाधनों, जैसे सूर्य के प्रकाश, हवा या पानी से उत्पन्न होती है। इन्हें हम सौर ऊर्जा, पवन ऊर्जा, भूतापीय ऊर्जा, बायोमास आदि नाम से जानते हैं। इन ऊर्जा संसाधनों की कुंजी यह है कि ये वातावरण में ग्रीनहाउस गैसों को छोड़ने जैसे कारकों के माध्यम से पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुंचाते हैं।

अमेरिका में एक ऐसा चार्जिंग स्टेशन बना है जहाँ आप अपनी इलेक्ट्रिक कार को ग्रीन बिजली से चार्ज कर सकते हैं। हालांकि पेट्रोल की तुलना में यह काफी महंगा है लेकिन इसके ज़रिए हम कोयले और तेल के इस्तेमाल को चरणबद्ध तरीके से हटाने और उत्सर्जन घटाने में अपना योगदान दे सकते हैं। टेक्नोलॉजी के इतने इस्तेमाल के बावजूद भी आज बहुत सारे क्षेत्रों में बिजली भी नहीं है इसीलिए पेट्रोल और कोयला का विकल्प तो ग्रीन बिजली बन सकती है, लेकिन इस प्रक्रिया में काफी समय लगेगा। एक बात तो तय है कि कार्बन उत्सर्जन को कम करने में यह प्रक्रिया बहुत हद तक अपना योगदान देगी।

 

Podcast

TWN In-Focus