बच्चों को आधार कार्ड में सहूलियत

933
23 Aug 2021
3 min read

News Synopsis

आधार कार्ड भारत के प्रत्येक देशवासी के लिए एक अनिवार्य पहचान पत्र है, जो सबके पास होना अनिवार्य है। बच्चे से बुजुर्गों तक हर उम्र के इंसान के लिए यह एक आवश्यक दस्तावेज है, जो पूरे देश में मान्य है। देश के किसी भी कागजात में आधार कार्ड का जुड़ा होना आवश्यक होता है। इसके बिना कोई भी वैधानिक काम होना नामुमकिन होता है। इसको बनवाने की प्रक्रिया में सरकार अक्सर ही लोगों की सहजता के लिए इसमें कुछ ना कुछ बदलाव करती रहती है, ताकि प्रत्येक देशवासी इससे जुड़ सके। सरकार द्वारा जारी किये गए नए निर्देशानुसार अब बच्चों के पहचान पत्र बनवाने में लोगों को थोड़ी सहूलियत दी गयी है, जिससे अब माता-पिता को कम मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा। पहले आधार कार्ड बनवाने के लिए सबको बायोमेट्रिक देना आवश्यक होता था, जिसे अब 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए हटा दिया गया। अब इनके आधार कार्ड बनवाने में केवल डेमोग्राफिक डाटा देना आवश्यक होगा। माता-पिता को बच्चे का बायोमेट्रिक देने में बहुत परेशानी होती थी क्योंकि इतने छोटे बच्चे को अपने साथ लेकर जाना होता था, काम कब तक हो पायेगा इसका कोई निश्चित समय नहीं रहता और कई मुश्किलें सामने आती थीं। 5 वर्ष तक की समय सीमा से बच्चों का बायोमेट्रिक देने में बड़ों को सहूलियत होगी। परन्तु यह सहूलियत केवल 5 वर्ष के लिए ही दी गयी है, इसके बाद बायोमेट्रिक ना अपडेट कराने पर आधार कार्ड की मान्यता ख़त्म हो जाएगी।

Podcast

TWN In-Focus